• shareIcon

Heart Diseases: हार्ट अटैक और कार्डियक अरेस्‍ट होने से बचाती है तेज रोशनी और ये 4 फूड, जानें कैसे

हृदय स्‍वास्‍थ्‍य By Atul Modi , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Aug 13, 2019
Heart Diseases: हार्ट अटैक और कार्डियक अरेस्‍ट होने से बचाती है तेज रोशनी और ये 4 फूड, जानें कैसे

Heart Diseases: हृदय को स्‍वस्‍थ रखने के बहुत सारे फैक्‍टर हैं, जो महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। जिसमें आपकी जीवनशैली भी शामिल है। आपका खानपान, डेली रूटीन और आपक

डब्ल्यूएचओ के अनुसार, हृदय रोग दुनिया भर में मौत का प्रमुख कारण हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि, वर्ष 2016 में हृदय रोगों के साथ विश्व भर में 17.9 मिलियन लोग के जी रहे थे। हृदय रोगों से होने वाली मौतों को रोकने जरूरी कदम नहीं उठाए जाते हैं, जिसमें शुरूआती संकेत और उपचार की आवश्‍यकता होती है। 

हृदय यानी दिल आपके शरीर के सबसे महत्वपूर्ण अंगों में से एक है क्योंकि यह आपके पूरे शरीर में रक्त पंप करता है और ऑक्सीजन और पोषक तत्वों की आपूर्ति करता है। इसके अलावा, यह आपके सिस्टम से कार्बन डाइऑक्साइड और अन्य कचरे को हटाने का भी काम करता है। आपके हृदय का आकार एक बड़ी मुट्ठी के साइज का होता है, जोकि आपकी छाती के पीछे बाईं ओर स्थि‍त होता है। इसका वजन पुरुषों में लगभग 280 से 340 ग्राम और महिलाओं में 230 से 280 ग्राम होता है।

बहुत सारे फैक्‍टर हैं जो आपके हृदय को स्‍वस्‍थ रखने में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, जिसमें आपकी जीवनशैली भी शामिल है। आप क्या खाते और पीते हैं, और आपकी नींद जैसी प्राकृतिक क्रियाएं भी आपके हृदय पर असर डालती हैं। इन कारकों पर निर्भर होता है कि आपकी हृदय की मांसपेशियां कैसे काम करती हैं। इसलिए, यदि आप अपने हृदय की रक्षा करना चाहते हैं, तो अपने जीवन के इन पहलुओं पर ध्‍यानाकर्षित करने की जरूरत है। इस लेख में बताया गया है कि आप स्वाभाविक रूप से अपने हृदय की रक्षा कैसे करें। 

 

तीव्र प्रकाश और हृदय रोग- Intense Light And Cardiovascular Diseases 

कई रिसर्च में पाया गया है कि तीव्र प्रकाश हृदय रोगों से बचा सकता है। लेकिन इसके पीछे का तथ्‍य क्‍या है वह अभी तक ज्ञात नहीं हुआ है। जर्नल सेल रिपोर्ट्स में प्रकाशित एक नए शोध से पता चला है कि यह कैसे काम करता है। इस अध्ययन के अनुसार, तीव्र प्रकाश रक्त वाहिकाओं का समर्थन करने वाले एक विशिष्ट जीन को प्रवर्धित करके मायोकार्डियल इन्फेक्शन से सुरक्षा प्रदान करता है। यह शोध सबसे पहले चूहों पर किया गया था। कुछ चूहों को एक सप्ताह के लिए तीव्र प्रकाश के तहत एक घर में रखा गया था। वैज्ञानिकों ने पाया कि चूहों को हृदय रोगों से काफी हद तक बचाया गया था और हार्ट अटैक के बाद ऊतकों को जो नुकसान होता है उसमें भी भारी गिरावट देखी गई। 

ध्‍यान देने योग्‍य बात ये थी कि अंधे चूहों पर इस टेक्निक का कोई फायदा नहीं हुआ। शोधकर्ताओं ने इस तकनीक को इंसानों पर भी आजमाया, जिसके बाद उनमें भी इसके लाभ दिखाई दिए। 

हृदय रोगों से कैसे बचें- How to prevent heart diseases 

कुछ ऐसे खाद्य पदार्थ हैं जो हृदय रोगों को विकसित होने से बचाते हैं। इसलिए, आपको यह जानना चाहिए कि आपके दैनिक आहार में क्या शामिल होना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए। यहां, हम आपको उन खाद्य पदार्थों के बारे में बताते हैं जो वैज्ञानिक रूप से आपके हृदय स्वास्थ्य के लिए अच्छे साबित हुए हैं।

लहसुन

भारत के आश्चर्यजनक पौधों में से एक, लहसुन में औषधीय गुणों की भरमार है, जो इसे वास्तव में चमत्कारी जड़ी बूटी बनाता है। अध्ययनों में पाया गया है कि प्रतिदिन लहसुन का एक लौंग सेवन एलडीएल यानी खराब कोलेस्ट्रॉल के उत्पादन को कम करने में मदद करता है और एचडीएल यानी अच्‍छे कोलेस्ट्रॉल के उत्पादन को बढ़ाता है और रक्तचाप को सामान्य रखता है। 

अदरक

यद्यपि यह अपने पाचन और पेट को स्‍वस्‍थ रखने वाले गुणों के लिए जाना जाता है, अदरक तेजी से हृदय स्वास्थ्य को बढ़ावा देने वाली जड़ी बूटी के रूप में मान्यता प्राप्त कर रहा है। अध्ययनों से पता चला है कि अदरक थक्के के गठन को रोकने, रक्त परिसंचरण में सुधार और एलडीएल कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में सक्षम है।

इसे भी पढ़ें: कैंसर, डायबिटीज जैसी 6 बीमारियों को खत्म करता है अदरक, जानें कैसे?

अर्जुन की छाल

अर्जुन वृक्ष की छाल में कई महत्वपूर्ण रासायनिक घटक होते हैं जैसे टैनिन, ट्राइटरपेनॉइड सैपोनिन और फ्लेवोनोइड होते हैं। आयुर्वेद के अनुसार, अर्जुन को एक मजबूत कार्डियोटोनिक दवा कहा जाता है। अब, शोधकर्ताओं ने पाया है कि अर्जुन की छाल के अर्क दिल के दौरे के दौरान नाइट्रोग्लिसरीन के समान कार्य कर सकते हैं। इसके अलावा यह एलडीएल कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है, एचडीएल कोलेस्ट्रॉल बढ़ाता है और रक्तचाप को कम करता है।

इसे भी पढ़ें: ग्रीन टी कब और कैसे पीएं, जानिए एक्‍सपर्ट की राय

ग्रीन टी 

ग्रीन टी एक एंटीऑक्सिडेंट पदार्थ से समृद्ध होती है जिसे एपिगैलो कैटेचिन गैलेट कहा जाता है। यह एंटीऑक्सिडेंट उन कोशिकाओं के स्वास्थ्य में सुधार करने के लिए पाया गया है जो रक्त वाहिकाओं और हृदय के अंतरतम अस्तर का निर्माण करते हैं। अध्ययनों से यह भी पता चला है कि ग्रीन टी खराब कोलेस्‍ट्रॉल के निर्माण को रोकती है और रक्तचाप में वृद्धि को भी रोकती है। माना जाता है कि प्रतिदिन लगभग 3 से 4 कप ग्रीन टी का सेवन हृदय और रक्त वाहिकाओं को ठीक रखने में मदद करता है, और यह हृदय रोग के विकास के जोखिमों में कटौती करने में आपकी मदद कर सकता है।

हालांकि, ग्रीन टी के साइड इफेक्ट्स भी होते हैं, इसलिए सुनिश्चित करें कि आप इसका सेवन ज्‍यादा न करें।योग मोटापे और गठिया के खिलाफ कार्रवाई के लिए और हार्ट फंक्‍शन में सुधार के लिए किया जाता है। ये धमनियों की भीतरी दीवारों पर बनने वाले कोलेस्ट्रॉल युक्त पट्टिका को कम करने की क्षमता रखते हैं। गुग्गुल शरीर की चयापचय दर को बढ़ाने में भी मदद करता है और यह वजन घटाने के लिए उपयोगी है, जो बदले में एक स्वस्थ दिल सुनिश्चित करता है। 

Read More Articles On Heart Health In Hindi

 
Disclaimer:

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।