• shareIcon

    होली में डायबिटिक के लिए हेल्‍दी रेसिपी

    त्‍यौहार स्‍पेशल By सम्‍पादकीय विभाग , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Mar 03, 2019
    होली में डायबिटिक के लिए हेल्‍दी रेसिपी

    डायबिटीज के रोगियों को खानपान का विशेष ध्‍यान रखना पड़ता है, लेकिन त्‍योहार के दौरान खुद पर नियंत्रण रखना बहुत मुश्किल होता है, इस लेख में हम डायबिटीज के मरीजों के लिए होली के टिप्‍स दे रहे हैं।

    होली में आप मौज मस्ती के दौरान अपनी सेहत को नजरअंदाज कर देते हैं। होली में बने वाले व्यजंन व मिठाईयां आप जी भर कर खाते हैं बिना यह जाने कि इससे आपकी सेहत को कितना नुकसान हो सकता है। अगर आप मधुमेह रोगी हैं तो आपको ज्यादा सावधानी बरतने की जरुरत है। मिठाईयों के सेवन से आपका डॉयबिटीज लेवल बढ़ सकता है। इसलिए शुगर फ्री मिठाइयों का सेवन करें। आइए जानें डॉयबिटीज के रोगी कैसे मनाए होली।


    गुजिया

    मधुमेह रोगियों को होली में बनने वाली गुजिया का सेवन नहीं करना चाहिए। इसमें काफी मात्रा में मीठा होता है जो उनके लिए अच्छा नहीं है। वो अपने लिए कम मीठी गुजिया बना सकते हैं। य़हां हम आपको गुझिया बनाने की रेसिपी दे रहे है।

    सामग्री

    • मैदा 1  किलो
    • मावा 1/2 किलो
    • खरबूजे के बीज 2 बड़े चम्मच
    • कसा हुआ नारियल 2 बड़े चम्मच
    • इलाइची पाउडर 1 टी स्पून
    • शुगर फ्री चीनी 1/1/2/कप  
    • बारीक कटा हुआ बादाम 2 बड़े चम्मच
    • चिरोंजी 2 बड़े चम्मच
    • घी मोयन के लिए 1-1/2कप
    • वेजिटेबल आयल तलने के लिए

        1 छोटा चम्मच मैदा और 1 बड़ा चम्मच पानी घोल बनाने के लिए

     

    gujhia

     

    विधि

    • कढ़ाही में मावा गुलाबी होने तक भून कर ठंडा करें।
    • खरबूजे के बीज को कढ़ाही में चटका लें।
    • अब चीनी ,बादाम ,चिरोंजी ,नारियल ,इलाइची पाउडर डालकर भरावन तैयार कर लें।
    • मैदे में मोयन का घी डालकर कड़ा आटा गूंध लें ,और गीले कपडे से ढक कर रखें।
    • अब छोटी -२ पूरी बेलें ,भरावन की सामिग्री भरकर किनारों को मैदे के घोल से चिपकाएँ।
    • चाहें तो गुझिया कटर से या हांथों से गोंठ कर गुझिया को गीले कपडे के नीचे रखें।
    • जब सारी गुझियाँ तैयार हो जायें ,तब गैस पर तेल गरम करें और धीमी आंच में गुझियों को गुलाबी सेंकें।

     

    बूंदी के लड्डू


    मधुमेह रोगियों को बेसन के लड्डू का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि इसमें मीठापन ज्यादा होता है साथ ही यह घी या डालडे से बना होता है जो आपके दिल के लिए हानिकारक है।

     

    ठंडई

    होली में बनने वाली ठंडई से आपको दूर रहना चाहिए। इसके सेवन से नशा होता है क्योंकि इसमें खसखस, सौंफ, गुलाब की पखुड़ियां, भांग मिली होती है।

    Thandai

    रंगो से करे परहेज

    मधुमेह रोगियों को गुलाल व हर्बल रंगो से सूखी होली खेलनी चाहिए। बाजार में मिलने वाले रसायनिक रंग आपके लिए हानिकारक हो सकते हैं।

     

     

    Read More Articles on Festivals Care in Hindi

    Disclaimer

    इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

    This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK