• shareIcon

प्री-मेच्योर शिशु के लिये अमृत की तरह होता है मां का दूध

लेटेस्ट By ओन्लीमाईहैल्थ लेखक , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / May 02, 2016
प्री-मेच्योर शिशु के लिये अमृत की तरह होता है मां का दूध

एक नए अध्ययन के अनुसार प्री-मेच्योर बच्चे को मां का दूध पिलाने से उसका शारीरिक और मानसिक विकास ठीक से हो पाता है। चलिये विस्तार से जानें खबर -

हम सभी जानते हैं और आए दिन सरकारी विज्ञापनों में देखते और सुनते भी रहते हैं कि शिशु के लिये मां का दूध अमृत के समान होता है, ये शिशु की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ता है। और हर मां को एक साल तक अपने शिशु को स्तनपान कराना चाहिये। लेकिन हाल में हुए शोध बताते हैं कि समयपूर्व जन्म लेने वाले (प्री-मेच्योर) बच्चों के लिए मां का दूध और भी फायदेमंद होता है। चलिये विस्तार से जानें खबर -

 

Breastfeeding on Premature Baby in Hindi

 

एक नए अध्ययन के अनुसार प्री-मेच्योर बच्चे को मां का दूध पिलाने से उसका शारीरिक और मानसिक विकास ठीक से हो पाता है। अमेरिका के सैंट लुइस यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल में वरिष्ठ अनुसंधानकर्ता सिंथिया रोजर्स इस संबंध में बताते हैं कि, "निश्चित समय से पहले जन्म लेने वाले बच्चों के मस्तिष्क का आमतौर पर पूरी तरह से विकास नहीं हो पाता है। और शारीरिक विकास में मां के दूध की बेहद अहम भूमिका को देखते हुए हम मस्तिष्क में भी इसके प्रभाव को देखना चाहते थे।"


रोजर्स ने यह भी बताया, "एमआरआई स्कैन कर हमे पता चला कि अधिक स्तनपान करने वाले बच्चों का ब्रेन वॉल्यूम ज्यादा बड़ा होता है। यह इसलिए अधिक महत्वपूर्ण है, क्योंकि पहले हुए कई अध्ययनों में ब्रेन वॉल्यूम और संज्ञानात्मक विकास के बीच संबंध मिले हैं।"


गौरतलब है, यह शोध तीन मई को बाल्टीमोर में होने वाले पीडियाट्रिक एकेडमी सोसाइटीज सम्मेलन में प्रस्तुत किया जाएगा।



Image Source - Getty

Read More Health News In Hindi.

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK