Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

हेल्‍थ टॉक: ग्‍लूकोमा क्‍या है, एक्‍सपर्ट से जानें इसके कारण, लक्षण और उपचार

Tips for ParentBy Onlymyhealth Editorial Team / 2019-01-28T00:00:00+5:30

ग्लूकोमा दुनिया भर में अंधापन के प्रमुख कारणों में से एक है। अकेले भारत में, करीब 12 मिलियन लोग ग्लूकोमा से पीड़ित हैं, लेकिन अच्छी खबर यह है कि अगर इस रोग का जल्दी पता चल जाए तो समस्या का समाधान किया जा सकता है। फोर्टिस हॉस्पिटल के सीनियर कंसल्टेंट, ऑपथैल्मोलॉजी डॉक्‍टर शिबल भारतीय ने इस वीडियो में बीमारी को दूर करने के उपाय बताए हैं। 

ग्लूकोमा क्या है और इसे साइलेंट किलर के रूप में क्यों जाना जाता है?

ग्लूकोमा को आम भाषा में काला मोतिया भी कहा जाता है। हमारी आंख एक गुब्बारे की तरह होती है जिसके भीतर एक तरल पदार्थ भरा होता है। आंखों का यह तरल पदार्थ लगातार आंखों  के अंदर बनता रहता है और बाहर निकलता रहता है। आंखों के इस तरल पदार्थ के पैदा होने और बाहर निकलने की इस प्रक्रिया में जब कभी दिक्‍कत आती है तो आंखों में दबाव बढ जाता है। आंखों में कुछ ऑप्टिक नर्व भी होती हैं जिनकी मदद से किसी वस्तु के बारे में संकेत दिमाग को मिलता है। आंखों पर बढा दबाव इन ऑप्टिक नर्व को डैमेज करने लगता है और आंखों की रोशनी धीरे-धीरे कमजोर होने लगती है। अगर इसके शुरूआती लक्षणों का पता न चले तो आदमी अंधा हो सकता है।

ग्लूकोमा के शुरुआती लक्षण क्या हैं?

ओपेन एंगल ग्लूककोमा का कोई लक्षण नहीं होता है, इसमें दर्द नहीं होता और न ही नजर में कोई कमी महसूस होती है। ग्लूकोमा के कुछ लक्षण ये हो सकते हैं : चश्मे के नंबर में बार-बार बदलाव। पूरे दिन के काम के बाद शाम को आंख में या सिर में दर्द होना। बल्ब के चारों तरफ इंद्रधनुषी रंग दिखाई देना। अंधेरे कमरे में आने पर चीजों पर फोकस करने में परेशानी होना। साइड विजन को नुकसान होना और बाकी विजन नॉर्मल बनी रहती हैं।

मोतियाबिंद किन कारणों से होता है? इसका निदान कैसे किया जा सकता है?

मोतियाबिंद का निदान मैन्युअल रूप से नहीं किया जा सकता है और यहां तक कि कारणों का पता नहीं लगाया जा सकता है। प्राथमिक मोतियाबिंद के लिए एकमात्र कारण आनुवंशिकता है। जबकि द्वितीयक मोतियाबिंद के कुछ विशेष कारण हैं जैसे आंख में चोट, स्टेरॉयड का उपयोग या सर्जरी के बाद का प्रभाव।

लोग अक्सर मोतियाबिंद और ग्लूकोमा के बीच भ्रमित होते हैं, दोनों में क्या अंतर है?

दोनों में बहुत बड़ा अंतर है। मोतियाबिंद आंख के लेंस को प्रभावित करता है जबकि मोतियाबिंद आंख के ऑप्टिक तंत्रिका को प्रभावित करता है। मोतियाबिंद के कारण होने वाला अंधापन प्रतिवर्ती है जबकि मोतियाबिंद के कारण होने वाला अंधापन अपरिवर्तनीय है।

ग्लूकोमा विकसित होने का खतरा किसमें अधिक है?

ग्लूकोमा को आंख के अल्जाइमर के रूप में भी जाना जाता है क्योंकि यह उम्र बढ़ने से संबंधित है। लेकिन ग्लूकोमा का प्रकार भी एक कारक है, एंगल क्‍लोजर ग्‍लूकोमा युवाओं को भी प्रभावित कर सकता है और 60 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों में ओपन एंगल मोतियाबिंद अधिक पाया जाता है। नवजात ग्लूकोमा भी है।

अगर परिवार में मोतियाबिंद का इतिहास है तो इसे रोकने के लिए क्या किया जा सकता है?

यदि परिवार में मोतियाबिंद का इतिहास है, तो आप एक उच्च जोखिम में हैं। ऐसी स्थिति में सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि आपकी आंखों की हर साल जांच हो रही है या नहीं, क्योंकि आपका डॉक्टर प्रारंभिक अवस्था में बीमारी का पता लगा सकता है और अंधापन को रोक सकता है। आपको स्टेरॉयड के उपयोग से बचना चाहिए और जितना हो सके धूम्रपान से भी बचना चाहिए।

यदि ग्लूकोमा का निदान किया जाता है, तो उपचार की कौन सी बात है जिसका पालन करने की आवश्यकता है?

इसके लिए आपको विभिन्‍न परीक्षणों से गुजरना पड़ सकता है। इसमें सबसे महत्वपूर्ण चरण आंखों के दबाव और दृश्य क्षेत्रों का माप है। बाद में ऑप्टिक तंत्रिका की मोटाई मापने के लिए OCT किया जाता है।

आई ड्रॉप का उपयोग करते समय, क्या सावधानियां बरतनी चाहिए?

सबसे पहले, आपको अपने हाथों को अच्छी तरह से साफ करना चाहिए और हमेशा ड्रॉप की एक्‍सपायरी डेट की जांच करनी चाहिए। इसके अलावा, सुनिश्चित करें कि आप अपने हाथों से आई ड्रॉप की नोक को कभी न छूएं। इसे सीधे अपने नंगे हाथों से स्पर्श करना आपको दूषित कर सकता है। बूंदों को डालने के लिए आपको पहले निचले ढक्कन को नीचे खींचना चाहिए और दवा को छोड़ देना चाहिए। अब अपनी आँखें बंद करें और टिसू की मदद से आंख के बाहर फैली दवाई को पोंछ लें। अब धीरे से आंख के बाएं कोने को दस सेकंड के लिए दबाएं।

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK