Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

कुछ ही दिनों में सिक्स पैक एब्स बनाते हैं ये 5 योगासन, आती है दोगुनी ताकत

यदि आप पेट और जांघों की चर्बी से परेशान हैं और इसे ख़तम कर एब्स बनाना चाहते हैं तो आपके लिए कुछ योगासन फायदेमंद हो सकते हैं।

एक्सरसाइज और फिटनेस By Rashmi UpadhyayOct 17, 2018

एब्स के लिए योगासन

यदि आप पेट और जांघों की चर्बी से परेशान हैं और इसे ख़तम कर एब्स बनाना चाहते हैं तो आपके लिए कुछ योगासन फायदेमंद हो सकते हैं। तो पेट की बढ़ी चर्बी यानी टमी आपके सुंदर फिगर को खराब करे, इससे पहले शुरू कर दें ये कुछ खास योगासन।
Image courtesy: © Getty Images

कपाल भाति

कपाल भाति क्रिया करने के लिए समतल स्थान पर आसन में बैठ जाएं। अब पेट को ढीला छोड़ दें और तेजी से सांस बाहर निकालें और पेट को भीतर की ओर खींचें। हां सांस को बाहर छोड़ते और पेट को भीतर की ओर खींचने के बीच सामंजस्य रखें। शुरुआत में दस बार यह क्रिया करें, और फिर धीरे-धीरे 60 तक बढ़ा दें। बीच-बीच में विश्राम लेते रहें। कपाल भाति से फेफड़े के निचले हिस्से की प्रयुक्त हवा एवं कार्बनडाइ ऑक्साइड बाहर निकल जाती है और पेट पर जमी फालतू चर्बी खत्म होती है।
Image courtesy: © Getty Images

नौकासन

इस आसन में शरीर का आकार नौका जैसा बन जाता है इसलिए ही इसे नौकासन कहते हैं। नौकासन करने के लिए मैट पर पीठ के बल सीधे लेट जाएं। फिर सांस लेते हुए दोनों पैर ऊपर उठाएं और दोनों हाथों से पैर के पंजों को छूने का प्रयास करें। यानी पैरों को जमीन से 45-50 डिग्री एंगल पर उठाना होता है। कुछ सेकंड इस स्थिति  में रहने के बाद सांस छोड़ते हुए सीधे लेट जाएं। तकरीबन 15 सेकंड के अंतर पर इस प्रक्रिया को लगभग पांच बार दोहराएं और धीरे-धीरे इसकी संख्या बढ़ाते जाएं। इसे अधिकतम 30 बार किया जा सकता है। लेकिन रीढ़ की हड्डी से जुड़ी समस्या या फिर रक्तचाप के मरीज इस आसन को डॉक्टरी से सलाह लेकर ही करें।
Image courtesy: © Getty Images

सेतु बंध सर्वांगासन

सेतु बंध सर्वांगासन करने के लिए पीठ के बल सीधा लेट जाएं, और दोनों हाथों को शरीर के बगल में सीधे रख लें। अब हथेलियों को जमीन पर सटाकर रखें। और दोनों घुटों को मोड़ लें जिससे सिर्फ तलवे ही जमीन से छू पाएं। इसके बाद सांस भरते हुए कमर को ऊपर उठाने का प्रयास करें। कोशिश करें कि सीना ठुड्डी को छी जाए। कुछ सेकंड बाद कमर नीचे लाएं और वापस पीठे के बल सीधे लेट जाएं।
Image courtesy: © Getty Images

भुजंगासन

भुजंगा, जिसे अंग्रेजी भाषा में कोबरा कहा जाता है। और चूंकि यह दिखने में फन फैलाए एक सांप जैसा होता है इसलिए इसे भुजंगासन कहा जाता है। इसे करने के लिए पेट के बल जमीन पर लेट जाएं और फिर अपने दोनों हाथों के सहारे कमर से ऊपरी हिस्से को ऊपर की ओर उठाएं। लेकिन ध्यान रहे कि हथेली खुली और जमीन पर फैली और कोहनियां मुड़ी होनी चाहिए। इसके बाद शरीर के बाकी हिस्से को बिना हिलाए-डुलाए चेहरे को बिल्कुल ऊपर की ओर करें। कुछ समय के लिए इस स्थिति में रहें और फिर वापस आ जाएं।  
Image courtesy: © Getty Images

विपरीत शलभासन

भुजंगासन के बाद शलभासन किया जाता है। भुजंगासन में जहां गर्दन, सीने और मेरुदंड को ऊपर उठाकर सर्प का आकार बयाया जाता है, वहीं शलभासन में इसके उलट पैरों को ऊपर उठा कर पतंगे का आकार दिया जाता है। शलभासन में सीना, पेट, ठुड्डी जमीन से छूते हैं। शलभासन से मेरुदंड का निचला हिस्सा सक्रिय और लचीला होता है। और वहां के स्नायुओं पर खिचांव पड़ता है। विपरीत शलभासन को शलभासन के विपरीत दिशा में किया जाता है।
Image courtesy: © Getty Images

पश्चिमोत्तानासन

पेट में जमा फैट कम करने और एब्स बनाने के लिए पश्चिमोत्तानासन सबसे उपयोगी आसन है। इसे करने के लिए सीधे बैठ जाएं और दोनों पैरों को सामने की ओर सटाकर सीधा फैला लें। अब दोनों हाथों को ऊपर की ओर उठाएं और कमर को बिल्कुल सीधा करें। इसके बाद झुककर दोनों हाथों से पैरों के दोनों अंगूठे पकड़ने का प्रयास करें। सुनिश्चित करें कि इस दौरान आपके घुटने मुड़ें नहीं और ना ही पैर जमीन से ऊपर उठें। और फिर कुछ सेकंड इस अवस्था में रहने के बाद वापस सामान्य अवस्था में आ जाएं।
Image courtesy: © Getty Images

मर्जरी आसन

मर्जरी आसन करने के लिए जमीन पर पेट के बल सीधे लेट जाएं। हथेलियों को सीधा खुला रखें
और धीरे-धीरे जमीन से ऊपर को उठें। इसके बाद अपनी हथेलियों को कोहनियों, घुटनों व पंजों पर शरीर का भार डालते हुए ऊपर उठाएं। इस दौरान अपनी कमर सीधी रखें। अब जमीन को देखते हुए चेहरा और ठोढ़ी को झुकाएं। इससे आप पैर और लोअर एब्डॉमिन में खिंचाव महसूस करें। 20 से 60 सेकंड इस स्थिति में रुकें। ऐसा 5 बार करें।
Image courtesy: © Getty Images

हस्तपादासन

हस्तपादासन करने के लिए सीधे खड़े हो जाएं और दोनों पैरों की एडियों व पंजों को आपस में मिला लें और फिर दोनों हाथों को ढीला छोड़ दें। इसके बाद सांस बाहर छोड़ते हुए कमर के ऊपरी भाग को धीरे-धीरे सामने की ओर झुकाएं। अपने घुटनों को बिल्कुल सीधा रखें। प्रारम्भ में इसे 10 सेकंड तक करें और फिर सामान्य स्थिति में आकर 5 सेकण्ड आराम करें और इस आसन को कम से कम 5 से 6 बार दोहराएं।
image courtesy : getty images

बालासन

बालासन करने के लिए शरीर का सारा भार एड़ियों पर डाले। ऐसा करने के लिए घुटने के बल जमीन पर बैठ जाएं और फिर गहरी सांस लेते हुए आगे की ओर झुकें। ऐसे में आपका सीना जांघों से छूना चाहिए। माथे को फर्श से छूने की कोशिश करें। कुछ सेकंड इस अवस्था में रहने के बाद सांस छोड़ते हुए वापस सामान्य अवस्था में आ जाएं।
image courtesy : getty images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK