• shareIcon

जमीन पर बैठकर ही क्‍यों खाना चाहिए

जमीन पर खाने की परंपरा बहुत प्राचीन है, लेकिन इसके कई स्‍वास्‍थ्‍य लाभ भी हैं, इससे वजन नहीं बढ़ता, पाचन क्रिया सुधरती है, दिल मजबूत होता है जैसे कई फायदे हैं इसके, तो जमीन पर खाने की आदत डालें।

स्वस्थ आहार By Nachiketa Sharma / Jun 30, 2014

जमीन पर खाने के लाभ

हमारी परंपरायें हमारे स्‍वास्‍थ्‍य से जुड़ी हैं, बैठकर खाने की प्राचीन परंपरा के कई फायदे हैं। जमीन पर बैठकर खाने के कई फायदे हैं। यह शरीर का वजन तो कम करता है साथ ही दिल को भी मजबूत बनाता है। जब भी हम जमीन पर बैठकर खाते हैं तब हम सुखासन की स्थिति में होते हैं, यह पद्मासन का ही एक प्रकार है जो हमारे स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बहुत फायदेमंद है। तो बैठकर खाने के फायदे उठाइये।
image source - curejoy.com

पाचन क्रिया सुधारती है

बैठकर खाने से पाचन क्रिया ठीक रहती है और खाना अच्‍छे से पचता है। आमतौर पर जब आप जमीन पर बैठते हैं तो सुखासन में बैठते हैं। जो कि पाचन में मदद करने वाली मुद्राएं हैं। जब आप खाने के लिए इस मुद्रा में बैठते हैं तो पेट से जुड़ी समस्याएं कम होती है। जब आप खाने के लिए आगे झुकते हैं तो पेट की मांसपेशियां आगे पीछे होने से सक्रिय रहती हैं। यह आपके पेट में एसिड को बढ़ाता है और भोजन को आसानी से पचाता है।

immage source - getty

वजन नहीं बढ़ता

अगर आप जमीन पर बैठकर खाते हैं तो आपका वजन नियंत्रण में रहता है। दरअसल जब आप सुखासन में बैठते हैं, तो आपका दिमाग अपने आप शांत हो जाता है। वह बेहतर ढंग से भोजन पर ध्यान केंद्रित कर पाता है। बैठकर खाने से पेट और दिमाग को सही समय पर एहसास हो जाता है कि आपने भरपूर खा लिया है, इससे आप ओवरईटिंग से बच जाते हैं।

immage source - getty

शरीर होता है लचीला

जमीन पर बैठकर खाने से शरीर लचीला बनता है।  जब आप पद्मासन में बैठते हैं, तो आपकी श्रोणि, निचली पीठ, पेट के आसपास और पेट की मांसपेशियों में खिंचाव होता है। जिसके कारण पाचन तंत्र आराम से अपना काम कर पाता है। इसके अलावा, यह स्थिति किसी भी प्रकार से आपके पेट को संपीडि़त नहीं करती, जिससे आपको खाने में और बेहतर रीति से पचाने में मदद मिलती है।

immage source - getty

ध्‍यान खाने पर रहता है

जब भी आप जमीन पर बैठ कर खाते हैं तो आपका ध्यान खाने में रहता है। यह केवल आपके ध्यान को ही खाने पर केंद्रित नहीं करता बल्कि खाना खाते समय बेहतर विकल्प को चुननें में भी मदद करता है, क्योंकि इस मुद्रा में आपका मन बहुत शांत और आपका शरीर पोषण को स्वीकारने के लिए तैयार होता है।

immage source - getty

संबंध गहरे होते हैं

एक साथ जमीन पर बैठकर खाने से पारिवारिक संबंध मजबूत होते हैं। आमतौर पर जमीन पर बैठे कर खाना खाने की प्रथा एक परिवारिक गतिविधि है। सही समय पर यदि पूरा परिवार एक साथ खाना खाए तो आपसी सामंजस्य बढ़ता है। इसके अलावा यह परिवार के साथ जुड़ने का एक बेहतरीन कारण है।

immage source - getty

समय से पहले बूढ़ा नहीं होने देता

जमीन पर बैठकर खाने का फायदा है कि आप समय से पहले बूढ़े नहीं होते हैं। क्योंकि इस मुद्रा में बैठकर खाना खाने से रीढ़ की हड्डी और पीठ से जुड़ी समस्याएं नहीं होती है। साथ ही, जो लोग कंधों को पीछे धकेलते हुए गलत मुद्रा में बैठने के कारण किसी तरह के दर्द से परेशान होते हैं। वह समस्या भी इस आसन में बैठकर खाना खाने से दूर हो जाती है।

immage source - getty

उम्र बढ़ती है

जमीन पर बैठकर खाने से उम्र बढ़ती है। एक अध्ययन में पाया गया है कि जो लोग जमीन पर पद्मासन में या सुखासन में बैठते है और बिना किसी सहारे के खड़े होने में सक्षम होते हैं। उनकी लंबे समय तक जीवित रहने की संभावना ज्यादा होती है, क्योंकि इस मुद्रा से उठने के लिए अधिक लचीलेपन और शारीरिक शक्ति की आवश्यकता होती है।

immage source - getty

जोड़ों के लिए फायदेमंद

पद्मासन और सुखासन एक ऐसी मुद्रा है जो आपके पूरे शरीर को लाभ पहुंचाती है और लचीला बनाती है। ये केवल आपके पाचन तंत्र को बेहतर बनाने में ही मदद नहीं करते, बल्कि आपके जोड़ों को कोमल और लचीले बनाए रखने में भी मदद करते हैं। गठिया व हड्डियों की कमजोरी जैसे रोगों से भी बचाता है।

immage source - getty

दिमाग के लिए फायदेमंद

जमीन पर बैठकर खाने से दिमाग मजबूत होता है। जो लोग सुखासन में बैठकर खाना खाते हैं। उनका दिमाग तनाव रहित रहने की संभावना अधिक होती है, क्योंकि यह दिमाग औेर तंत्रिकाओं को शांत करता है।

immage source - getty

दिल होता है मजबूत

जब आप जमीन पर बैठकर खाते हैं तो रक्‍त संचार अच्‍छे से होता है। इस तरह दिल बड़ी आसानी से पाचन में मदद करने वाले सभी अंगों तक खून पहुंचाता है, लेकिन जब आप कुर्सी पर बैठ कर खाना खाते हैं तो यहां ब्लड सर्कुलेशन विपरीत होता है। इसमें सर्कुलेशन पैरों तक होता है, जो कि खाना खाते समय जरूरी नहीं होता। यह दिल के दौरे की संभावना को भी कम करता है।

immage source - getty

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK