Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

दुनिया की भीड़ में भी अकेलापन महसूस होना कहीं बीमारी तो नहीं

कई लोगों को तो भीड़ में होने के बावजूद भी अकेलापन महसूस होता है, यह एक समस्‍या है, लेकिन इससे निपटा जा सकता है, आखिर ऐसा क्‍यों होता है इसके बारे में जानते हैं।

मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य By Rahul SharmaOct 19, 2015

भीड़ में अकेलेपन का एहसास

लोग कई कारणों से अकेलापन महसूस करते हैं, जैसे कि सामाजिक परेशानी व चुनौतियां। कई लोगों को तो भीड़ में होने के बावजूद भी अकेलापन महसूस होता है, क्योंकि वे लोगों से अर्थपूर्ण संबंध ही नहीं जोड़ पाते हैं। सभी को जीवन में कभी न कभी अकेलेपन का एहसास होता है, लेकिन इसकी आदत बन जाना बिल्कुल अच्छा नहीं होता है। समय के साथ ये आदत एक बीमारी बनती जाती है। अकेलेपन से कई तरह से निबटा जा सकता है, लेकिन इससे निपटने के लिये पहले इसके कारणों की सही जानकारी होनी चाहिये। तो चलिये जानें दुनिया की भीड़ में भी अकेलापन महसूस होने के क्या कारण हैं -

Images source : © Getty Images

हम लोगों को दूसरा मौका नहीं देते

एक बार ब्रेकअप या विश्वासघात हो जाने के बाद आमतौर पर हम लोगों को एक दूसरा मौका देने के खिलाफ से हो जाते हैं। ऐसी किसी घटना के बाद लड़कियों को लगता है कि सभी लड़के एक से होते हैं, वहीं लड़के मानने लगते हैं कि सभी लडकियां स्वार्थी और मौकापरस्त होती हैं। और फिर इस मानसिकता के चलते लोगों से मिलने व नए संबंध बनाने से बचने की आदत डाल लेते हैं। लेकिन हमें समझना होगा कि पांचों उंगलियां बराबर नहीं होती, और सभी लोग खराब नहीं होते हैं।   
Images source : © Getty Image

डर में जीने को आदत बना लेते हैं


कई बार हम समाज की रिती या खुद की बनाई सीमाओं के जर के तले रहने को ही अपनी नियति माल लेते हैं और इसी डर के तले जीवन बिताने लगते हैं। कई बार लोग इसी डर के चलते लोगों के सामने खुद को नहीं लाना चाहते और न ही उनसे नज़दीकियां बढ़ाना चाहते हैं। लेकिन क्या जीवन में इतने डर और सीमाओं के साथ रहना सही है। सतर्क रहने में कोई हर्ज़ नहीं, लेकिन सतर्कता और डर के बीच के फर्क को भी समझना जरूरी है।  
Images source : © Getty Images

आलोचना बर्दाश्त नहीं कर सकते

आलोचना व्यक्तित्व को को और तराशती है। हम यदि जीवन में तरीफ सुनना चाहते हैं तो आलोचना के लिये भी खुद को तैयार करना होगा। कई बार अलोचना के डर या इसे बर्दाश्त न कर पाने की आदत के चलते हम  खुद को लोगों से दूर कर लेते हैं।  
Images source : © Getty Images

लोगों से न मिलने की आदत बना लेना

कई बार हम व्यस्थ नहीं भी होते हैं तब भी दिमाग को ये विश्वास दिला देते हैं कि हम बहुत व्यस्थता में जी रहे हैं। इस तरह हम लोगों से मिलना-जुलना कर देते हैं और ये भविष्य में हमारी एख आदत बन जाता है। सामाजिक होना मानसिक स्वसाथ्य की दृष्टी से बेहद जरूरी होता है।
Images source : © Getty Images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK