• shareIcon

जानिए कौन सा जंक फूड है ज्यादा नुकसानदेह

जंक फूड का सेवन आपकी सेहत के कितना खतरनाक है ये तो सबको पता है। लेकिन कौन सा जंक फूड कितना नुकसानदेह हो सकता है इस बारे में जानने के लिए पढ़ें।

स्वस्थ आहार By Anubha Tripathi / Sep 07, 2014

कौन है ज्यादा नुकसानदेह

हर व्यक्ति हेल्दी भोजन कर खुद को स्वस्थ रखना चाहता है। लेकिन आजकल प्रोसेस्ड और जंक फूड के इस माहौल में ऐसा संभव नहीं हो पाता। लोग हेल्दी खाने को छोड़ जंक फूड की तरफ तेजी से आकर्षित होते हैं। ऐसे में उन्हें पूरा पोषण मिलना बहुत मुश्किल है। आइए जानें जंक फूड के इस दौर में किसका सेवन ज्यादा नुकसान पहुंचा सकता है आपको।

बिस्कुट

जल्दी से भूख मिटानी है तो चाय के साथ दो बिस्कुट खा लिया और भूख खत्म। क्यों ऐसी ही करते हैं ना आप भी। लेकिन बिस्कुट में काफी मात्रा में शुगर और फैट होता है जो मोटापे का कारण हो सकता है। कई बार आप भी बच्चों की तरह चॉकलेट क्रीम और अन्य फ्लेवर के चक्कर में आकर पेट भर कर बिस्कुट का सेवन करते हैं। जो कि वजन बढ़ने का मुख्य कारण हो सकता है। अगर आप बिस्कुट का शौकीन है तो अनहेल्दी बिस्कुट देने की जगह क्यों ना कुछ अनाज से भरपूर बिस्कुट खाएं।

सेहतमंद विकल्‍प

अगर आपके दिन की शुरुआत बिस्कुट से होती है तो ऐसे में क्यों ना पौष्टिक चीजों से भरपूर बिस्कुट का सेवन करें। रागी और ओट्स के बिस्‍कुट अच्छे विकल्प हो सकते हैं। ये काफी देर तक पेट भरा होने का अहसास कराते हैं। इसमें फाइबर, प्रोटीन और कैल्शियम की मात्रा भरपूर होती है।

ब्रेड

बच्चे हों या बड़े सैंडविच सबका ऑलटाइम फेवरेट स्नैक्स होता है। लेकिन क्या आप जानते हैं सफेद ब्रेड का सैंडविच से आपको जरूरी पोषण नहीं मिल पाता है। आप अपनी तरफ से भले ही उसे सब्जियों और चीज की मदद से हेल्दी बनाने की कोशिश करें लेकिन सफेद ब्रेड आप तक पोषण को पहुंचने ही नहीं देती हैै।

ब्रेड का बेहतर रूप

जरूरी पोषण पाने के लिए ब्राउन ब्रेड या मल्‍टीग्रेन ब्रैड के सैंडविच का सेवन किया जा सकता हैं। ब्राउन ब्रेड में गेहूं की पर्याप्त मात्र पाई जाती है। इसलिए अगर आप रोटी का सेवन नहीं करते हैं तो आप एक सैंडविच खाकर भी सेहतमंद रख सकते हैं। इसके अलावा मल्टीग्रन ब्रेड में ओट्स्, राई, जौ, मकई और गेहूं मिला होता है। इससे आपको उच्च मात्रा में प्रोटीन और फाइबर मिलता है जो कि सेहत के लिए जरूरी है।

चिप्स

चिप्स के लिए बड़ों की दीवानगी बच्चों से कम नहीं होती है। पैकेट खोला नहीं कि चंद सेकेंड में सारे चिप्स गायब। अपनी चिप्स खाने की आदत को बढ़ता देख अगर आप बेक किए हुए चिप्स खाने की सोच रहे हैं तो रुकिए ! चिप्स के कुछ टुकड़ों में जहां दो ग्राम फैट होता है वहीं बेक किए हुए चिप्स में पांच ग्राम फैट होता है। क्योंकि उसमें सैचुरेटेड और ट्रांस फैट ज्यादा मात्रा में होता है।

नूडल्‍स

बाजार में कई प्रकार के नूडल्‍स मौजूद हैं। इनमें ओट्स, मल्‍टीग्रेन और गेहूं से बने नूडल्‍स भी शामिल हैं। हालांकि, ये छोटे-छोटे बदलाव भी आपके स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बहुत अच्‍छे नहीं हैं। इनसे आपके आहार में कैलोरी की मात्रा तो बढ़ जाती है, जबकि पौष्टिकता में कोई इजाफा नहीं होता।

नूडल्‍स की बढ़ायें पौष्टिकता

अगर आप नूडल्‍स खाना चाहते हैं तो बेहतर रहेगा कि हक्‍का नूडल्‍स का सेवन करें। इसे अच्‍छी तरह उबालकर इसमें से अतिरिक्‍त पानी निकाल दें। फिर इसमें खूब ताजा कटीं सब्जियां मिलायें। इससे इसकी पौष्टिकता में इजाफा होगा।

बोतलबंद जूस

अगर आप यह सोचकर बोतलबंद जूस पी रहे हैं किे उसमें विटामिन डी, सी या ई मौजूद है, तो आप गलती कर रहे हैं। इन ड्रिंक्‍स को सुरक्षित रखने के लिए इनमें प्रिजरवेटिव मिलाये जाते हैं, जो आपकी सेहत के लिए अच्‍छे नहीं होते।

बर्गर

जल्दी से और कम पैसे में भूख मिटाने हो तो ज्यादातर लोग बर्गर का सेवन ही पसंद करते हैं।  सब्जियों और चीज से बना बर्गर और उस पर हेल्दी टॉपिंग्स आपके लिए सेहत भरा हो सकता है। कभी-कभी ताजा और अच्छे से बेक किया हुआ बर्गर खाने में कोई बुराई नहीं। अच्छा होगा कि इसे हफ्ते में एक बार ही खाएं।

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK