Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

आपकी पत्नी गर्भवती नहीं हो रही हो तो क्या करें?

अगर कई बार प्रयास करने के बाद भी आपकी पत्नी गर्भधारण में असफल हो रही हैं तो आपको अपने और अपनी पत्नि से जुडी कई चीजों पर ध्यान देने की आवश्यकता है।

सभी By Rahul SharmaMay 09, 2014

संतान प्राप्ति

संतान प्राप्ति के लिए पुरुषों का भी महिला जितना ही योगदान होता है। इसके लिए अनको भी कई सारे प्रयास करने की ज़रूरत होती है। प्रेगनेंट होना वैसे तो बहुत आसान होता है, लेकिन कई कपल्स कमजोर या कम स्पर्म काउंट होने के कारण कंसीव नहीं कर पाते। ऐसे में प्रकृति के अलावा आपको भी अपने पार्टनर के साथ मिलकर कुछ प्रयास करने की जरूरत होती है। आपकी दिनचर्या, खान-पान और आदतों का आपकी फर्टिलिटी पर बहुत प्रभाव पड़ता है। तो चलिए जानते हैं कि जब आपकी पत्नी गर्भवती नहीं हो रही हो तो ऐसे में क्या करें।
courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

ओव्युलेशन में सेक्स

यदि आप कई बार के प्रयास के बाद भी संतान प्राप्ति में असफल हो रहे हैं तो, संभवतः आप अपनी पत्नि के साथ ठीक ओव्युलेशन के समय सेक्स नहीं कर रहे हैं। तो सबसे पहले तो आप दोनों ही ओव्युलेशन साइकिल का ध्यान रखें और सही समय पर सेक्स करें।
courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

भावनात्मक समर्थन

सबसे ज़रूरी है मानसिक रूप से तैयार रहना। यदि आपकी पत्नि कंसीव नहीं कर पा रही हैं तो आप हर संभव तरह से उनका समर्थन करें और उने ये विश्वास दिलाएं आप दोनों भी जल्द संतान का सुख भोग पाएंगे, बस उसके लिए आपको सही तैयारी करनी होगी।  
courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

सीलिएक टेस्ट

यदि आपको गर्भवती होने में परेशानी हो रही है तो सीलिएक रोग के लिए एक बार अपना टेस्ट ज़रूर करा लें। यह एक साधारण रक्त परीक्षण होता है, जिसमें फार्म पर एक चेकबॉक्स होता है। इस टेस्ट से आपको कफी मदद मिल सकती है।
courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

क्या कहते हैं आंकड़े

एक अनुमान के मुताबिक भारत में लगभग 15 प्रतिशत दम्पति संतानहीन हैं। और जिसमें पुरुष भी बड़ी संख्या में इस समस्या का कारण है। संतानहीनता के लिए इस 15 प्रतिशत आधे अर्थात साढ़े सात प्रतिशत बांझपन के लिए मर्द ही उत्तरदाई हैं। इसलिए उनका इसके प्रति सचेत रहना बेहद ज़रूरी है।
courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

नशे से रहें दूर

पिता बनने में समस्या आ रही है तो सबसे पहले धूम्रपान छोड़े। स्मोकिंग करने से अस्थानिक गर्भधारण का ख़तरा बढ़ता है और प्रजनन क्षमता
भी कम हो जाती है। अगर बिना परेशानियों के कंसीव करना हो, तो आपको लगभग 1 साल पहले स्मोनकिंग छोड़ देनी चाहिए। यही नहीं शराब, पान मसाला, गुटका, खैनी, नशीली दवा का सेवन करना भी बांझपन पैदा कर सकता है।
courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

फर्टिलिटी फूड

कुछ खाघ पदार्थ आपकी प्रजनन छमता को बढा सकते हैं जैसे ओमेगा 3 फैटी एसिड और डेयरी प्रोडक्ट्सब। इसके अलावा लहसुन, अनार, केला, पालक, मिर्च, टमाटर, तरबूज, विटामिन सी युक्त फल तथा सेब, काजू, चाकलेट आदि का सेवन करें। पोषण विज्ञानियों के अनुसार विटामिन ए बहुल खाद्य (गाज़र, दूध, चीज़, अंडा), विटामिन सी युक्त खाद्य (संतरे, स्ट्राबेरीज़, ब्रोक्कोली) तथा विटामिन ई (मूंगफली, पालक, बादाम, चीनिया/पहाड़ी बादाम, पिंघल फल) शुक्र के स्वास्थ्य को आदर्श बनाते हैं।
courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

स्पर्म काउंट

आपके लिए अपनी प्रजनन क्षमता को बढाना जितना जरुरी है, उससे भी जरुरी है आपके पार्टनर का स्पर्म काउंट और उसकी गुणवत्ता को बेहतर बनाना। विश्व स्वास्थ्य संगठन के मानक निर्देशों के अनुसार दो मिलीलीटर सिमेन वोल्यूम में स्पर्म की तादाद (स्पर्म काउंट) दो करोड़ (20 मिलियन) होनी चाहिए।  
courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

तनाव मुक्त रहें

स्वस्थ गर्भधारण के लिए आप दोनो के लिए ही तनाव मुक्त रहना बेहद ज़रूरी है। स्ट्रेकस लेने से भी प्रजनन समस्या पैदा होती है। इसको ठीक करने के लिये योगा करें और नियमित एक्सरसाइज कीजिये। सबसे ज़रूरी है आपका एक्टिीव बनना, आप जितना एक्टिव रहेंगे आपके लिए पिता बनने के मौके उतने ही बढ़ेंगे।
courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

सीरम अनेलेसिस टेस्ट करवाएं

समय-समय पर रोग नैदानिक जांच केन्द्रों पर या फिर निजी लेब्स में सीरम अनेलेसिस टेस्ट करवाएं और अपने शुक्राणुओं की सेहत का हाल जानते रहें। ऐसा करने से आपको पता रहता है कि कहीं कोई कमज़ोरी तो नहीं है।
courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

इन बातों का ध्यान रखें

यदि आप गर्म माहौल में काम करते हैं तब आपका स्पर्म काउंट गिर सकता है। देर तक "सौना बाथ" लेना, स्टीम बाथ लेना, 40 सेल्सियस तापमान वाले वाटर टब में आधा घंटा से ज्यादा समय बिताना भी स्पर्म काउंट को कम कर देता है. लैपटॉप गोद में रखके काम करना दूसरी वजह है इसमें कमी दर्ज़ होने की।
courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK