Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

पुरुषों में क्‍यों होती है स्‍वप्‍नदोष की समस्‍या, जानें कारण और उपचार

स्वप्नदोष एक स्वाभाविक क्रिया है जिसमें किसी पुरुष को सोते समय वीर्यपात (स्खलन) हो जाता है। इसके कई कारण हो सकते हैं।

पुरुष स्वास्थ्य By Atul ModiJan 22, 2014

स्‍वप्‍नदोष

पुरुषों में सोते समय वीर्य के स्खललित हो जाने को स्वप्नदोष कहते हैं। स्वप्नदोष, किसी सपने के बाद होने वाली एक स्वाभाविक शारीरिक प्रतिक्रिया है। इसके कारण किसी पुरुष के भीतर लगातार बन रही शुक्राणु कोशिकाओं की बहुतायत को शरीर बाहर निकालती है। स्वप्नदोष की स्थिति के पीछे खान-पान या ऐसे ही कई अन्य कारण हो सकते हैं। स्‍वप्‍नदोष महिलाओं को भी होता है, हांलाकि महिलाओं में स्‍वप्‍नदोष के लक्षण व कारण थोड़े भिन्न होते हैं। यह एक समान्य घटना है।

पुरुषों में स्‍वप्‍नदोष

पुरुषों में स्वप्नदोष स्वाभाविक क्रिया है जिसके अंतर्गत किसी पुरुष को नींद के दौरान वीर्यपात (स्खलन) हो जाता है, इसके दौरान पुरुष एक स्वतः स्फूर्त यौनानन्द का अनुभव भी करते हैं। कुछ लड़कों के लिए, स्वप्नदोष उनका पहला वीर्यपात भी हो सकता है।

अश्लील कल्पनाएं

स्वप्नदोष के प्रमुख कारण अश्लील चिंतन, अश्लील फिल्म देखना व नारी स्मरण हैं। मन में भोग-विलास के वासनात्मक ख्याल या मन में काम-वासना के स्‍वप्‍नदोष का कारण बनते हें। हालांकि कई बार बिना सेक्स के बारे में सोचे भी स्वप्नदोष हो सकता है।

मिल्क प्रोडक्ट्स का अधिक सेवन

अधिक मात्रा में घी-दूध, मेवे-मिठाई, या कई बार रात को अदिक गर्म दूध पी कर सोने के कारण पुरुषों में स्‍वप्‍नदोष हो सकता है। खाना खाने के तुरंत बाद सो जाने से भी यह हो सकता है।

खराब खान-पान और पेट में कब्ज

पेट में कब्ज रहना व नाड़ी तन्त्र की दुर्बलता भी इस समस्या के होने का कारण बन सकती है। साथ ही ज्यादा मिर्च मसालों का प्रयोग, सुस्वादु व गरिष्ठ भोजन तथा विलासता पूर्ण रहन सहन भी इस समस्या के लिए उत्तरदायी हैं। सोने से पहले जररूत से ज्यादा भोजन भी इसका कारण हो सकता है।

साथी से दूरी

कभी-कभी प्रेमिका या पत्नी से किसी कारण कफी समय तक दूरी हो जाने पर भी स्‍वप्‍नदोष प्रारम्भ हो सकता है। प्रेमी-प्रेमिका का आपस में प्रवल आकर्षण होने पर भी स्वप्न दोष हो जाता है। देर से शादी होना भी इसका एक कारण हो सकता है।

मानसिक दबाव के कारण

कभी-कभी अचानक भय लगने के कारण भी शरीर बहुत शिथिल हो जाता है, जिस कारण शरीर के अंग प्रत्यंगो की कार्यप्रणाली पर दिमाग का कंट्रोल कम हो जाता है, फलस्वरुप ऐसे में भी स्वप्न दोष हो सकता है।

स्‍वप्‍नदोष का इलाज

स्‍वप्‍नदोष से बचने के लिए आंवले का मुरब्बा रोज खाएं और इसके ऊपर से गाजर का रस पिएं। या फिर तुलसी की जड़ के टुकड़े को पीसकर पानी के साथ पिएं। अगर जड़ नहीं मिले तो इसके 2 चम्मच बीज शाम के समय लें। रोज नीम की पत्तियां चबाने से भी स्वप्नदोष की समस्या से मिजात मिलती है।

सोते समय अश्लील सहित्य या फिल्में न देखें

सोने से पहले अश्लील सहित्य पढ़ने या पोर्न फिल्म देखने से रात को वे दृष्य ज़हन में घूमते हैं, जो आपकी सेक्स की भावनाओं को काबू से बाहर कर देते हैं और स्वप्नदोष हो जाता है। इसलिए यदि आपको स्वप्नदोष की समस्या हो रही है तो कोशिश करें कि आप इस प्रकार की सामिग्री से बचे रहें।

नियमित ध्यान व योग

रोजाना योग और ध्यान लगाने से इच्छा शक्ति दृण होती है, और आपका दिमाग भी शांत रहता है। इसलिए रोज थोड़ी देर यौग करें और ध्यान में बैठें। इसके लिए आप किसी योग एक्सपर्ट की मदद भी ले सकते हैं।

डॉक्टर की मदद लें

यदि स्वप्नदोष काफी समय से लगातार हो रहा है, और आप काफी दुर्बलता का अनुभव कर रहे हैं तो ये आपके अपने डॉक्टर से मिलने का समय है। संभव है कि आपको यह समस्या किसी शारीरिक का मानसिक विकार के कारण हो रही हो। इसलिए किसी सेक्सोलॉजिस्ट से मिले और अपनी समस्या के बारे में बात करें।

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK