• shareIcon

क्या है एनोर्गेसिमिया, इसके कारण और उपचार

एनोर्गेसिमिया आपकी सेक्स लाइफ को खराब कर सकता है। इसे बचने के लिए जानें कि यह क्या है और इसके कारणों किस प्रकार आपकी सेक्स लाइफ को प्रभावित कर सकते हैं।

सभी By Pradeep Saxena / Apr 15, 2014

एनोर्गेसिमिया को जानें

एनोर्गेसिमिया से ग्रस्त महिलाएं और पुरुष सेक्स लाइफ का आनंद नहीं उठा पाते हैं। उन्हें सेक्स के दौरान काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। एनोर्गेसिमिया को विस्तार से जानने के लिए इसके कारणों को जानना भी जरूरी है। इस समस्या को दूर करने के लिए इसके इलाज के बारे में भी जानें।  

एनोर्गेसिमिया क्या है

एनोर्गेसिमिया एक प्रकार का सेक्स समस्या है जो पुरुषों और महिलाओं दोनों को हो सकती हैं। इस समस्या से ग्रस्त लोग सेक्स के दौरान चरम सुख की प्राप्ति नहीं कर पाते हैं। यह समस्या महिलाओं में ज्यादा देखी जाती है। एनोर्गेसिमिया कई तरह का होता है- प्राइमरी, सेकेंडरी और स्थिति के अनुसार।

प्राइमरी एनोर्गेसिमिया

यह वह अवस्था है जब एनोर्गेसिमिया से ग्रस्त व्यक्ति अपने जीवन में कभी भी सेक्स का आनंद नहीं ले पाता है। यह समस्या सामान्य तौर पर महिलाओं में देखी जाती है लेकिन जिन पुरुषो में ग्लैडीप्यूडेंडल रिफलक्स नहीं होते हैं वे इस समस्या से शिकार हो सकते हैं।    

सेकेंडरी एनोर्गेसिमिया

एनोर्गेसिमिया की इस अवस्था के दौरान महिलाएं या पुरुष जब भी सेक्स करते हैं तो दोनों ही सेक्स का आनंद ले पाने में असमर्थ होते हैं। इसके अलावा उन्हें सेक्स का आनंद लेने में भा काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

स्थितिनुसार एनोर्गेसिमिया

इस प्रकार के एनोर्गेसिमिया के दौरान महिलाएं व पुरुष सिर्फ कुछ स्थिति में ही आर्गेज्म का आनंद ले पाते हैं जैसे ओरल सेक्स,मैस्टर्बैशन आदि। यह समस्या महिलाओं में ज्यादा देखने को मिलती है।  

शारीरिक कारण

किसी भी प्रकार की बीमारी इंसान के सेक्स की इच्छा को प्रभावित कर सकती है जिसमें मधुमेह, न्यूरोलॉजिकल बीमारी जैसे विभिन्न प्रकार के डिस्ऑर्डर और जनन संबंधी समस्याएं। इस तरह की बीमारियां एनोर्गेसिमिया के लक्षणों को पैदा करते हैं।  

महिलाओं की समस्या

महिलाओं में ऐसी कई समस्या है जो एनोर्गेसिमिया के लक्षणों को दर्शाते हैं जैसे हिस्टरेक्टमी और कैंसर की सर्जरी भी ऑर्गेज्म को प्रभावित कर सकता है। इसके अलावा सेक्स के दौरान दर्द या किसी प्रकार की समस्या से ऑर्गेज्म में होने वाली कमी भी इसका कारण हो सकती है।  

चिकित्सा

कई बार कुछ खास तरह की चिकित्सा भी एनोर्गेसिमिया का कारण बन सकता है। रक्त संबंधी चिकित्सा, ऐन्टीहिस्टमीन और डिप्रेश संबंधी चिकित्सा भी सेक्स के प्रति रुचि कम करती है जिसेक कारण एनोर्गेसिमिया के लक्षण दिखते हैं।

बढ़ती उम्र

उम्र बढ़ने के साथ ही शरीर में और हार्मोन में कई सारे बदलाव होते हैं जिसकी वजह से सेक्स संबंधी समस्या होती है। उम्र बढ़ने और मेनोपॉज के दौरान महिलाओं में एस्ट्रोजेन लेवेल कम हो जाता है जिससे सेक्स के प्रति रुचि कम होने लगती है।

मनोवैज्ञानिक कारण

मनोवैज्ञानिक कारणों से भी एनोर्गेसिमिया की समस्या हो सकती है। इसमें मानसिक समस्या जैसे चिंता, तनाव, वित्तीय दबाव और अपराधबोध जैसी भवनाएं होने पर आप सेक्स को पूरी तरह से एन्जॉय नहीं कर पाते हैं जिसकी वजह से एनोर्गेसिमिया की समस्या होती है।

इलाज

एनोर्गेसिमिया के इलाज के लिए मनोवैज्ञानिक तरीके, कपल्स काउंसलिंग, सेक्स थेरेपी व दवाओं की मदद ली जाती है। इन इलाजों की शुरुआत करने से पहले महिलाओं या पुरुषों की समस्या के बारे में पूरी तरह से जानकारी हासिल की जाती है उसके बाद ही विशेषज्ञ उन्हें उचित इलाज की सलाह देते हैं।

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK