Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

दस स्‍थान जहां हो सकते हैं कीटाणु

कई ऐसी जगह हैं जहां पर कीटाणु होते हैं, ये आपकी रोजमर्रा की जिंदगी से जुड़े हैं, और इनके संपर्क में आने से आप बीमार हो सकते हैं, इसलिए इन जगहों की सफाई पर ध्‍यान दीजिए।

तन मन By Nachiketa SharmaJan 02, 2015

नुकसानदेह हैं कीटाणु

घर में कई जगह ऐसे हैं जहां पर छोट-छोटे कीटाणु छिपे होते हैं और इनके संपर्क में आने से स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍या जैसे - कोल्‍ड, फ्लू, संक्रमण आदि हो सकता है। इनके कारण त्‍वचा भी संक्रमित हो सकती है। आपके घर के दरवाजे के कुंडे से लेकर स्‍टोर रूम में ढेर सारे कीटाणु छिपे हैं, जो आपके साथ बच्‍चों की बीमारियों का कारण बनते हैं। अमेरिका के सेंटर फार डिजीज कंट्रोल एंड प्रीवेंशन द्वारा कराये गये शोध की मानें तो घर में छिपे कीटाणुओं के कारण 2-3 साल के बच्‍चे संक्रमित होते हैं, और बीमारी की चपेट में आते हैं। इसलिए घर के इन स्‍थानों की सफाई पर विशेष ध्‍यान दीजिए जहां कीटाणु हो सकते हैं।

image courtesy : getty images

मॉल्‍स की ट्रॉली

शॉपिंग करनी हो या फिर घर का कोई सामान खरीदना हो, आप सीधे मॉल्‍स या सुपरमार्केट का रुख करते हैं। वहां पर सामान ढोने के लिए आप ट्रॉली का प्रयोग करते हैं, लेकिन क्‍या आपको पता है इस ट्रॉली को आप जहां से पकड़ते हैं वो कीटाणु युक्‍त होती है। यह ट्रॉली कई लोग प्रयोग करते हैं, जिसये आपके हाथ के संपर्क में भी कीटाणु आते हैं, हाथ के जरिये ये आपके शरीर में प्रवेश करते हैं।

image courtesy : getty images

कारपेट या दरी-चटाई

घर के कारपेट, दरी-चटाई और पायदानों में हजारो कीटाणु होते हैं। इनमें अगर गंदगी अगर अधिक हो जाये तो फंगस हो जाते हैं और बाद में ये बदबू देने लगते हैं। इनके संपर्क में आने से त्‍वचा के संक्रमण के साथ पेट की समस्‍यायें हो सकती हैं। इसलिए इनकी सफाई पर विशेष ध्‍यान दीजिए। बच्‍चों को गंदे कारपेट पर न चलने दें।

image courtesy : getty images

शॉवर हेड

जिस शॉवर हेड से आप रोज अपने शरीर को साफ करते हैं, वही आपको बीमार कर सकता है। अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ कोलोरेडो के शोधकर्ताओं ने पाया है कि शॉवर हेड के नीचे ऐसे कीटाणु हो जाते हैं, जो कई बीमारियों का कारण बन सकते हैं। इस शोध में जिन शॉवर हेड्स को जांचा गया, उनमें से 30 प्रतिशत में माइक्रोबैक्टीरियम ओवम मिले। ये एक तरह के कीटाणु हैं, जो फेफड़े की बीमारियों के लिए जिम्मेदार होते हैं।
image courtesy : getty images

कार्यालय में काम करने की जगह

ऑफिस में आप जिस जगह घंटों बैठकर काम करते हैं, वह कीटाणु मुक्‍त नहीं होती है, बल्कि इसमें हजारों हानिकारक कीटाणु होते हैं। सफाई का ध्‍यान न रख पाने के कारण आप बीमार भी हो सकते हैं। कार्यालय में एक ही जगह पर बैठकर आप काम भी करते हैं और बिना हाथ साफ किये खाने का सामान भी खा लेते हैं। इससे ये हानिकारक कीटाणु आपके शरीर में प्रवेश करते हैं।
image courtesy : getty images

रसोई भी है कीटाणुयुक्‍त

आपकी रसोई में भी हजारो कीटाणु मौजूद हैं। फ्रिज से कुछ निकालना हो, मसाले वाला दराज खोलना हो, ओवन को प्री‍-हीट करना हो या माइक्रोवेव में कुछ रखना हो। इन सब जगहों के लिए आप अपने हाथ का प्रयोग करते हैं और कीटाणु एक जगह से दूसरी जगह जाते हैं। ये कीटाणु खाने के जरिये आपके शरीर में प्रवेश करते हैं। इसलिए किचन के सामानों की सफाई का विशेष ध्‍यान रखें। image courtesy : getty images

तकिये और चादरें

सोते वक्‍त आराम का अनुभव करने के लिए बेड पर तकिया बहुत जरूरी होता है। लेकिन शायद ही आपको पता हो यह तकिया कीटाणुयुक्‍त होता है, इस में सिर्फ रुई ही नहीं होती, इनमें संक्रमण फैलाने वाले कई फंगस भी हो सकते हैं। ये पसीने, गंदगी आदि भी धूल कणों और एलर्जी को बढ़ाने का काम करते हैं।

image courtesy : getty images

मोबाइल

मोबाइल के बिना वर्तमान में लोग अपनी जिंदगी अधूरी मानते हैं, शायद ही ऐसा कोई इनसान होगा जो मोबाइल का प्रयोग न करता हो। लेकिन क्‍या आपको पता है आपके मोबाइल में हजारो कीटाणु मौजूद हैं, जो आपको बीमार भी कर सकते हैं। खुद को स्‍वस्‍थ रखने के लिए जरूरी है मोबाइल का प्रयोग करने के बारद हाथ साफ कीजिए।

image courtesy : getty images

घर के फर्नीचर

घर में मौजूद सभी तरह के फर्नीचर कीटाणुयुक्‍त हैं। दरअसल, इनसे फार्मलडिहाइड नामक गैस निकलती है। यह उबकाई, एलर्जी के लिए जिम्मेदार होती है। इसलिए घर में मौजूद सभी फर्नीचर की सफाई पर विशेष ध्‍यान दीजिए।

image courtesy : getty images

एयर फ्रेशनर एवं क्लीनर्स

यूनिवर्सिटी ऑफ केलीफोर्निया के एक अध्ययन में पाया गया कि सफाई में प्रयोग किए जाने वाले उत्पादों से टॉक्सिक लेवल बढ़ता है। वहीं एयर फ्रेशनर्स में नाइट्रोजन डाइऑक्साइड का प्रयोग होता है, जो हवा में मौजूद ओजोन के साथ मिलकर फार्मलडिहाइड बनाते हैं, और ये फेफड़ों में जाकर जम जाते हैं। इनके कारण एलर्जी और पेट की समस्‍या हो सकती है।

image courtesy : getty images

बच्‍चों के खिलौने

बच्‍चों के खिलौने में कई तरह के कीटाणु होते हैं, इनके कारण बच्‍चे बीमार पड़ सकते हैं। इसलिए बच्चों के खिलौनों को साफ रखें। टेडीज यानी सॉफ्ट टॉयज को वॉशिंग मशीन में धो सकती हैं। प्लास्टिक खिलौनों को एंटीसेप्टिक घोल से साफ कर लें। इससे बच्‍चों को संक्रमण नहीं होगा और वे स्‍वस्‍थ भी रहेंगे।

image courtesy : getty images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK