• shareIcon

सलमान खान की सज़ा से सीखें ड्रंक एंड ड्राइव का सबक

सलमान खान का हिट एंड रन केस पिछले दिनों सुर्खियों में था, हो भी क्‍यों न ड्रिंक एंड ड्राइव अपराध तो है ही साथ ही यह दूसरों के जीवन से खिलवाड़ भी है, इस मामले से आप भी कई सबक सीख सकते हैं।

एक्सरसाइज और फिटनेस By Rahul Sharma / May 14, 2015

सलमान से सीखें ड्रंक एंड ड्राइव के नुकसान

शराब पीकर गाड़ी चलाना हिम्मत का काम नहीं, बल्कि यह गैर-कानूनी है। शायद इस बात को पढ़ कर आपको इसमें इतना दम न लगे, लेकिन सलमान खान को 'हिट एंड रन' केस में दोषी पाए जाने के बाद हुई पांच साल की सजा हमें बहुत कुछ सिखाती है। आप सलमान के फैन हों या न हों, लेकिन शायद सलमान के माध्यम से ही आप ये बात बेहतर ढ़ंग से सीख जाएं कि, चंद पलों की बेखुदी के लिये शराब पीकर गाड़ी चलाने से न सिर्फ आप अपनी जान को दांव पर लगाते हैं, बल्कि कई घरों की जिंदगियां भी इस एक शौक की बली चढ़ती हैं। तो चलिये जानें शराब पीकर गाड़ी चनाने के नुकसान और कसम खाएं की अब शराब पीकर गाड़ी नहीं चलाएंगे।

Images source : www.youtube.com

शराब नहीं ये फंदा है

सड़क और ट्रैफिक आदि पर शोध करने वाली एक एजेंसी ने अपने हालिया अध्ययन में बताया है कि देश के राष्ट्रीय राजमार्गों पर होने वाली कुल दुर्घटनाओं में से तकरीबन 16 प्रतिशत दुर्घटनाएं नशे की हालत में गाड़ी चलाने की वजह से होती हैं। केन्द्रीय सड़क शोध संस्थान (सीआरआरआई) ने 5 साल के अध्ययन में पाया कि इस अवधि में नशे की हालत में गाड़ी चलाने वालों से हुई 620 दुर्घटनाओं की तुलना में नशा न करने वालों से हुई दुर्घटनाओं का आंकड़ा 3,316 रहा।
Images source : www.youtube.com

कितना हुआ नुकसान

बिना नशे की हालत में गाड़ी चलाने की वजह से हुई दुर्घटनाओं में 104 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ, और शराब पीकर गाड़ी चलाने से हुई दुर्घटनाओं में 20 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ। इन दुर्घटनाओं के कुल 3,316 मामले में से 371 मामले घातक और 942 काफी गंभीर थे। इन सड़क हादसों में से शराब पीकर गाड़ी चलाने के कारण हुए 620 हादसों में से 63 घातक, जबकि 221 गंभीर किस्म के थे। यह अध्ययन पांच साल देश भर के 11 राष्ट्रीय राजमार्ग से जमा आंकड़ों पर आधारित हैं।  
Images source : © Getty Images

बढ़ता जा रहा है मौतों का आंकड़ा

शराब पीकर गाड़ी चलाना एक बेहद गंभीर अपराध है और इसका खामियाजा पूरे समाज को ही उठाना पड़ता है। शराब पीकर गाड़ी चलाने से होने वाली मौतों का आंकड़ा दिन प्रति दिन बढ़ता ही जा रहा है। अगर वाहन चलाने वाले केवल यह तय कर लें कि वे पीकर गाड़ी नहीं चलाएंगे तो दुर्घटनाओं पर लगाम कसी जा सकती है।
Images source : © Getty Images

ऐसे मामलों में सख्‍त हो रही भारतीय कोर्ट

सलमाल खान के मामले से थोड़ा अलग शराब पीकर गाड़ी चलाने के एक दोषी को दिल्ली के डिस्ट्रिक्‍ट कोर्ट ने किसी तरह की राहत देने से इनकार कर दिया। अदालत ने 22 साल के इस युवक को सजा देते हुए कहा कि ये एक बेहद गंभीर आरोप हैं। कोर्ट ने कहा कि युवाओं को नशे में वाहन चलाने से रोकने और सबक सिखाने के लिए सख्त सजा दिया जाना ही सही समझा।
Images source : © Getty Images

सिमित मात्रा में पीना महज़ एक धोख़ा है

भारत में गाड़ी चलाने के लिए तय किया गया शराब सेवन का मानक 30 मिलीग्राम प्रति सौ मिलीलीटर रक्त या .03 प्रतिशत ब्लड एल्कोहल कंटेंट (बीएसी) है, जोकि जानलेवा हो सकता है। कैलिफोर्निया के सैन डिएगो विश्वविद्यालय के एक ताजा अध्ययन के अनुसार, .01 बीएसी (एक-दो पैग) भी वाहन चलाते वक्त प्रभावी हो सकता है और इससे ड्राइवर को दृष्टिभ्रम हो सकता है। ऐसे में थोड़ी मात्रा में शराब पीने से भी दुर्घटना की आशंका बनी रहती है।
Images source : © Getty Images

पुलिस की राय

दिल्ली पुलिस के अनुसार भारत में दुर्घटना की आशंका 40 मिलीग्राम प्रति सौ मिलीलीटर रक्त (बीएसी) से शुरू होती है। पुलिस के मुताबिक सधे हुए चालकों की तुलना में नौजवानों और किशोरों में शून्य से थोड़ा अधिक बीएसी भी दुर्घटना की आशंका को 2.5 गुणा तक बढ़ा देता है।
Images source : © Getty Images

कड़ी सजा या फिर जुर्माना या दोनों

शराब पीकर गाड़ी चलाने पर 2,000 से 10,000 रुपए का जुर्माना और छह महीने से चार साल तक की सजा का प्रस्ताव पारित किया गया है। मोटर वेहिकल्स ऐक्ट में प्रस्तावित इन बदलावों को आने वाले संसद सत्र में संशोधन के रूप में लाया जाएगा।
Images source : © Getty Images

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK