Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

अर्थराइटिस के उपचार के लिए असरदार हर्ब्स

अर्थराइटिस जोड़ों के दर्द की एक ऐसी समस्या है जो मरीज को काफी परेशान करती है। लोग इस दर्द से छुटकारा पाने के लिए जाने कितने डॉक्टरों के चक्कर लगाते हैं। लेकिन शायद आपको नहीं मालूम, कुछ ऐसे हर्ब्स भी हैं जिनके इस्तेमाल से आप घर पर ही इस दर्द को कम कर

घरेलू नुस्‍ख By Shabnam Khan Apr 24, 2015

अर्थराइटिस के लिए हर्ब्स

जब हड्डियों के जोडो़ में यूरिक एसिड जमा हो जाता है तो वह अर्थराइटिस का रूप ले लेता है। यूरिक एसिड कई तरह के आहारों को खाने से बनता है। मरीज के एक या कई जोड़ों में दर्द, अकड़न या सूजन आ जाती है। इस रोग में जोड़ों में गांठें बन जाती हैं और शूल चुभने जैसी पीड़ा होती है, इसलिए इस बीमारी को अर्थराइटिस कहते हैं। यह कई तरह का होती है, जैसे-एक्यूट, आस्टियो, रूमेटाइट, गाउट आदि।

Image Source - Getty Images

सूखा अदरक या सौंठ

सौंठ एक बहुत उपयोगी घरेलू औषधि है। दरअसल सौंठ अदरक का ही एक रूप है, अदरक को सुखाकर सौंठ बनाई जाती है। सौंठ का सेवन करने से गठिया के रोग में आराम मिलता है, इसे आप किसी भी रूप में पकाकर या किसी चीज में मिलाकर खा सकते हैं। ये थोड़ी तीखी होती है लेकिन अर्थराइटिस के मरीजों को इसके नियमित सेवन से काफी लाभ मिलता है।

Image Source - Getty Images

तुलसी के पत्ते

वैसे तो तुलसी के पत्तों के फायदों की फेहरिस्त बहुत लंबी है लेकिन यहां हम अर्थराइटिस के लिए इसके फायदों की बात कर रहे हैं। तुलसी में कुछ ऐसे तत्व होते हैं जो अर्थराइटिस में होने वाले दर्द को दूर करते हैं। इसके लिए तुलसी के पत्तों को उबालें। भाप उठने दें। प्रभावी अंग पर यह भाप पड़ने दें। बाद में इसका पानी जब सहन करने योग्य गर्म रह जाए तो इससे प्रभावी अंग की सिकाई करें। धोयें। आराम मिलेगा।

Image Source - Getty Images

लहसुन

गठिया के रोग में लहसुन बेहद लाभकारी होता है। इसके सेवन से गठिया के रोग में आराम मिलता है। वैसे अगर इसे खाना पसंद न हो तो इसमें सेंधा नमक, जीरा, हींग, पीपल, काली मिर्च और सौंठ की सभी की 2 - 2 ग्राम मात्रा लेकर अच्‍छे से पीस लें। इस पेस्‍ट को अरंडी के तेल में भून लें और बॉटल में भ लें। दर्द होने पर लगा लें। आराम मिलेगा।     लहसुन की पांच कलियां मामूली कूटकर दूध में उबालें। इसकी दो खुराक प्रतिदिन लेने से गठिया रोग का प्रभाव नहीं रहता।

Image Source - Getty Images

अरंडी का तेल

अर्थराइटिस में जोड़ों में होने वाला दर्द बहुत अधिक होता है। जो अक्सर रात में होता है। ऐसे में अलग अलग तेलों की मालिश से फायदा होता है। ऐसा ही एक तेल अरंडी का तेल यानी कैस्टर ऑयल है। ये आसानी से उपलब्ध भी हो जाता है। भंयकर दर्द होने पर अरंडी के तेल से मालिश कर लें, इससे दर्द में राहत मिलने के साथ-साथ सूजन में भी कमी आती है।

Image Source - Getty Images

एलोविरा

गांव की पथरीली जमीन में उगने वाला या फिर घर की छत पर लटाकाया जाने वाला एलोवेरा आज आज कई औषधियों में इस्तेमाल किया जा रहा है। अर्थराइटिस में भी इसका इस्तेमाल राहत देता है। एलोविरा के पत्‍ते को काटकर उसका जेल दर्द होने वाली जगह पर लगाएं। इससे काफी राहत मिलेगी।

Image Source - Getty Images

बथुआ

बथुआ हरा शाक है जो नाइट्रोजन युक्त मिट्टी में फलता-फूलता है। सदियों से इसका उपयोग कई बीमारियों को दूर करने में होता रहा है। बथुए के ताजा पत्‍तों का रस हर दिन 15 ग्राम पिएं। इसमें स्‍वाद के लिए कुछ भी न मिलाएं। खाली पेट पीने से ज्‍यादा लाभ होता है। तीन महीने पीने से दर्द से हमेशा के लिए निजात मिल जाती है।

Image Source - Getty Images

आलू का रस

आलू के आपको बहुत से फायदे और नुकसान होते हैं। उनमें से एक अर्थराइटिस से जुड़ा है। अर्थराइटिस का दर्द होने पर हर दिन खाना खाने से पहले से दो आलूओं का रस निकाल लें और पिएं। हर दिन कम से कम शरीर में 100 मिली. रस पीने से आराम मिलेगा।

Image Source - Getty Images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK