• shareIcon

आखिर क्यों आ जाती है रिश्ते में बोरियत

प्यार करने वालों के बीच बोरियत का आना रिश्ते का मजा किरकिरा कर देता है। आ‍प दोनों को इस बारे में सोचना चाहिये और साथ मिलकर इसे दूर करने का प्रयास करना चाहिये। लेकिन, उससे भी पहले उन कारणों को जानना जरूरी है, जिनकी वजह से रिश्तों में यह परेशानी आई है।

डेटिंग टिप्स By Pooja Sinha / Jul 05, 2014

रिश्ते में बोरियत

दो प्यार करने वाले जो साथ जीने मरने की कसमें खाते हैं, अचानक उन्हें क्या हो जाता है। वे जो एक दूसरे के साथ घंटों बतियाते रहते हैं, एक घर में रहने के बाद भी हफ्तों एक दूसरे के साथ बैठकर बात नहीं करते। एक दूसरे के साथ हर पल का आनंद उठाने वाले अचानक क्यों एक दूसरे से बोर हो जाते हैं। आखिर क्यों दो साथियों के बीच आ जाती है बोरियत...  image courtesy : getty image

डेली रूटीन

आपके रिश्ते एक बोरिंग रूटीन सा बन गया है। इसमें कुछ भी नया नहीं है। इसमें हर चीज संभावित ही होती है। आपको पहले से पता है कि सप्ताह के किस दिन आपके रिश्ते में क्या नया होने वाला है। आप एक ही ढर्रे पर चलने लगे हैं। हममें से ज्यादातर लोग इस बारे में कुछ नहीं कर पाते, लेकिन उन्हें ऐसा लगता है जैसेकि वे किसी बंद दरवाजे में फंस गए हैं।  image courtesy : getty image

कोई रोमांच नहीं

आपको याद है कि आप दोनों ने एक साथ आख‍िरी बार एक साथ कोई रोमांचक काम किया था। जब हम किसी रिश्ते की शुरुआत में होते हैं, तब सरप्राइज और रोमांच हमें बहुत पसंद आते हैं। अगर आप बोर हो रहे हैं कि रिश्ता आपको अब और ज्यादा रोमांचित नहीं करता है, तो जरूरत है कि आप इस बारे में कुछ करें। छुट्टियों पर साथ जाएं, हफ्ते में किसी भी दिन बाहर डिनर पर जाएं। या फिर कुछ भी। लेकिन कुछ तो जरूर किया जाना चाहिये।  image courtesy : getty image

बुनियाद होती है मजबूत

प्यार की शुरुआत बहुत नाजुक होती है। प्यार में पड़ने से पहले आप दोनों को एक दूसरे को जरूरी वक्त देना चाहिये। प्यार में जल्दबाजी से उसका आधार मजबूत नहीं बन पाता। इसलिए प्यार की शुरुआत में समय लें। एक दूसरे को अच्छी तरह जानें समझें। अगर ऐसा नहीं है, तो आगे चलकर आप दोनों के रिश्ते के लिए परेशानियां हो सकती हैं।  image courtesy : getty image

भावनात्मक जुड़ाव

हो सकता है कि आप अनजाने में ही किसी बहुत अच्छे दोस्त या सहकर्मी के साथ भावनात्मक रूप से जुड़ाव महसूस करते हों। क्या आप काम और निजी जीवन से जुड़ीं अपनी परेशानियों के बारे में अपने साथी से ज्यादा किसी और से बात करने में सहज महसूस करते हैं। जब तक अपने साथी से खुलकर बात नहीं करेंगे, तब आप बोरियात और अलगाव की भावना बनी रहेगी।  image courtesy : getty image

कुछ खास यादें

खूबसूरत चीजों को याद कर हम किसी भी समय मुस्कुरा सकते हैं। और किसी भी रिश्ते में भी कुछ खास यादें सबसे कीमती धरोहर होती हैं। जब आप मुड़कर अपनी जिंदगी को देखते हैं, तो आपको सबसे पहले और ज्यादा खूबसूरत चीजें ही याद आती हैं। और अगर आपके रिश्ते में ऐसा नहीं है, तो आपको सोचने की जरूरत है। आप दोनों की जिंदगी में ऐसी यादें जितनी ज्यादा होंगी आपका रिश्ता उतना ही गुलजार होगा। खास यादें रिश्ते में ईंट और गारे का काम करती हैं। इन्हीं से आपका रिश्ता मजबूत बना रहता है।  image courtesy : getty image

संवाद है जरूरी

आप अकसर अपने साथी को कोई बात बताने से महज इसलिए बचते हैं क्योंकि ऐसा करने में बहुत वक्त लगता है। रिश्तों में संवाद समाप्त होने का यह सबसे महत्वपूर्ण आधार होता है। कपल छोटी-छोटी बातों करने से बचने लगते हैं। वे समझते हैं कि ये गैरजरूरी हैं और इनके बारे में बात करके कोई फायदा नहीं। लेकिन वास्तव में ये छोटी-छोटी बातें बहुत मायने रखती हैं। इनसे रिश्ते में ताजगी और नयापन बना रहता है। संवाद बना रहता है, जो बोरियत को दूर रखने में मदद करता है।  image courtesy : getty image

सहजता

आप दोनों मिलकर अपने भविष्य की योजनायें तैयार करें। बात करें कि कैसे आप साथ पूरा जीवन बिताना चाहते हैं। लेकिन, कभी-कभार आप दोनों को गंभीरता छोड़कर कुछ मौज मस्ती भी करनी चाहिये। एक दूसरे के साथ का पूरा आनंद उठाना चाहिये। पागलपंती के ये चंद लम्हे आपके रिश्ते को मजबूत बनाने में मदद करेंगे।  image courtesy : getty image

लक्ष्य और जुनून करें साझा

अगर आप दोनों के पास कोई साझा लक्ष्य, शौक या फिर जुनून नहीं है, तो बेशक कुछ समय बाद आपके रिश्ते में बोरियत का आना तय है। और कुछ न हो तो साथ बैठकर हवाई किले ही बनाइये। अपना जीवन साथ जीने के बारे में विचार कीजिये। सोचिये कि आगे चलकर आप दोनों क्या करेंगे, कैसे करेंगे आदि। इससे आप दोनों के मन में समान लक्ष्य के लिए काम करने की प्रेरणा उत्पन्न होगी। और यही प्रेरणा आप दोनों को एक दूसरे के करीब लाने में मदद करेगी। image courtesy : getty image

साथ वक्त बितायें

साथ वक्त बिताने का कोई विकल्प नहीं, लेकिन ज्यादा साथ रहना भी कई बार परेशानी का सबब बन जाता है। आप दोनों  की एक दूजे के अलावा भी जिंदगी है। अपने दोस्तों के साथ समय बिताइये। जब शाम को आप दोनों फिर मिलेंगे तो आप दोनों के पास बात करने के लिए नये और रोमांचित मुद्दे होंगे। image courtesy : getty image

गुस्सैल है साथी

आपका साथी बहुत जल्दी चिढ़ जाता है या फिर उसे गुस्सा आता है। वह आलसी है या फिर उसका स्वभाव किसी और तरह का है। सबसे पहले संवाद करना शुरू करें। छोटी-छोटी बातों और मुद्दों पर चर्चा करें। अगर आप इन चीजों को यूं ही छोड़ देंगे तो वक्त के साथ-साथ यह जख्म गहरा और गहरा होता जाएग। इससे पहले कि यह नासूर बनकर लाइलाज हो जाए, समय से इसका इलाज करें। आपस में बात करें और एक दूसरे को समझने का प्रयास करें। image courtesy : getty image

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK