Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

अपनी रनिंग तकनीक बेहतर बनाने के तरीके

रनिंग बेहद कमाल का व्यायाम है, लेकिन लेकिन हर एक्सरसाइज की तरह दौड़ने के लिए भी कुछ नियम होते हैं, ताकि शरीर की ऊर्जा भी बर्बाद न हो और दौड़ने का पूरा लाभ मिले।

एक्सरसाइज और फिटनेस By Rahul SharmaSep 26, 2014

रनिंग तकनीक

दौड़ना सेहत के लिए बेहद कमाल का व्यायाम है। दिल की सहेत हो या मोटापा कम करना रनिंग से कई स्वास्थ लाभ होते हैं। लेकिन हर एक्सरसाइज की तरह दौड़ने के लिए भी कुछ नियम होते हैं। इन नियमों का पालन करने से जहां एक्सरसाइज का अधिक से अधिक लाभ मिलता है, वहीं शरीर की ऊर्जा भी बर्बाद होने से बच जाती है। कुछ खास बातें, जैसे लंबे कदम बढ़ाने की बजाय तेजी से छोटे-छोटे कदम बढ़ाना आदि इन तकनीक में से एक हैं। इससे आपकी कमर पर दबाव भी कम पड़ता है और आप जल्दी थकते भी नहीं। तो चलिये आपको दौड़ने का पूरा लाभ मिले, इसके लिए हम बताते हैं आपको रनिंग तकनीक बेहतर बनाने के कुछ तरीके।
Image courtesy: © Getty Images

लचीलापन

बेहतर रनिंग के लिए न केवल अपनी मांसपेशियों में, बल्कि अपके टेंडॉन्स (tendons), स्नायुबंधन, और जोड़ों में लचीलापन होना बेहद जरूरी होता है। ये लचीलेपन के साथ बेहतर काम करते हैं, अगर ये अंग लचीले न हों तो इनका मूवमेंट और मोशन ठीक से नहीं होता और चेट भी लग सकती है। इसके लिए आपको रनिंग से पहले स्ट्रेचिंक करनी चाहिए।
Image courtesy: © Getty Images

सिर की पोजिशन

रनिंग के समय सिर की पोजिशन पर ही पूरा पॉश्चर निर्भर करता है और इसी पर यह निर्भर करता है कि आप कितनी क्षमता से दौड़ रहे हैं। दौड़ते समय सिर को सीधा रखते हुए सामने की ओर देखना चाहिए। नीचे अपने पैर की तरफ या कहीं और देखने से पूरे शरीर का पॉश्चर बिगड़ जाता है और इससे आपके दौड़ने पर असर पड़ता है। सात ही गर्दन और पीठ भी तनी हुई और एक सीध में होनी चाहिए।
Image courtesy: © Getty Images

सांस लेने का तरीका (ब्रीदिंग)

पेट से गहरी सांस लेना या "स्टमक ब्रीदिंग" रनिंग के लिए आदर्श होती है। पेट से सांस लेने का अभ्यास करने के लिए कमर के बल समतल सतह पर लेट जाएं और पेट को कोई किताब रख लें। अब धीरे से सांस को भीतर खींचे और किताब को ऊपर की ओर आनें दें, और फिर धीकरे से ही सांस को छोड़ें।
Image courtesy: © Getty Images

बॉडी पॉश्चर

अपने शरीर के पॉश्चर को सही रखते हुए 5 डिग्री खुद को आगे रखें। इस स्थिति को समझने के लिए दोनों पांवों पर खड़े होकर अपना वजन एड़ी पर उठाए बिना तलवे पर डालें। अब कदम रखते हुए एड़ी और तलवे के बीच के हिस्से को आराम से पहले टिकाए। कदम धीरे-धीरे बढ़ाएं और पांव के अगले हिस्से (टो) से खुद को आगे धकेलें। साथ ही टखनों में लचीलापन बनाए रखें। ध्यान रहे कि जमीन पर पैर पड़ने की आवाज ज्यादा नहीं होनी चाहिए।
Image courtesy: © Getty Images

कंधे

दौड़ते समय शरीर के ऊपरी हिस्से को शांत और शिथिल रखने में कंधों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। अच्छे रनिंग प्रदर्शन के लिए  आपके कंधे ऊपर उठे व तने होने चाहिए। जब आप थक जाएं, तो राहत पाने के लिए कंधों को कान की तरफ उठाने की जगह, थोड़ा हिला लें।
Image courtesy: © Getty Images

धड़ की स्थिति

आपके धड़ की स्थिति सिर और कंधे की स्थिति पर निर्भर करती है। यदि सिर सीधा और कंधे थोड़े झुके व लचीले रहेंगे, तो धड़ अपने आप सीधा रहेगा और आप आसानी से दौड़ पाएंगे। अर्थात दौड़ते समय धड़ को सीधा और तना हुआ रखना लाभदायक होता है।
Image courtesy: © Getty Images

बाजुएं

रनिंग करते समय हाथ शरीर के ऊपरी हिस्से में तनाव व मूवमेंट को नियंत्रित रखते हैं। इसलिए हाथों को बंद रखें, लेकिन जोर से मुठ्ठी न भींचें। हाथों को आगे और पीछे ही हिलना चाहिए, न कि कमर के बीच या छाती की ओर। कोहनी 90 डिग्री पर मुड़ी होनी चाहिए। बीच-बीचट में हाथों को नीचे की ओर सीधा कर सकते हैं और मुट्ठी खोल कर हाथों को हिला सकते हैं।  
Image courtesy: © Getty Images

कूल्हे

हिप्स अर्थात कूल्हे शरीर के लिए सेंटर ऑफ ग्रेविटी होते हैं। इसलिए रनिंग के दौरान हिप्स की स्थित काफी अहमियत रखती है। यदि आपका धड़ सही स्थिति में है कूल्हों की स्थिति भी सही रहती है। ध्यान रहे शरीर का पिछला भाग, धड़ और कूल्हे एक सीध में होने चाहिए।
Image courtesy: © Getty Images

पैर और लंबे डग

जो लोग बहुत कम दूरी की रनिंग करते हैं, उन्हें जहां तक हो सके अपने घुटने ऊपर की ओर उठा कर दौड़ना चाहिए। इससे वे पैर की ताकत का अधिकतम उपयोग कर पाते हैं। लेकिन लंबी दूरी तक रनिंग करने वालों के लिए ऐसा करना मुम्किन नहीं होता। इसलिए उन्हें कदम जल्दी-जल्दी उठाने  चाहिए और ज्यादा लंबे डग नहीं भरने चहिए। इससे दौड़ने का पूरा लाभ मिलता है और शरीर की ऊर्जा भी बर्बाद नहीं होती।
Image courtesy: © Getty Images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK