• shareIcon

एक्सरसाइज के दौरान लगने वाली इन चोटों के प्रति रहें सचेत

एक्सरसाइज के दौरान लगने वाली चोटों से काफी समस्या हो सकती है, ऐसे में इन चोटों से बचाव, इनका सही इलाज और इनके बारे में सही जानकारी होना बेहद जरूरी होता है, आइए हम इन चोटों के बारे में आपको बताते हैं।

एक्सरसाइज और फिटनेस By Rahul Sharma / Aug 13, 2015

एक्सरसाइज के दौरान चोट

हैवी वेट या इंटेंस एक्सरसाइज के दौरान अक्‍सर चोट लग जाती है। ऐसी तमाम एक्सरसाइज हैं जिनमें थोड़ा सा भी ध्यान हटते ही एक्सरसाइज करने वाला चोटिल हो सकता है। एक्सरसाइज के दौरान लगने वाली चोटों से काफी समस्या हो सकती है। ऐसे में इन चोटों से बचाव, इनका सही इलाज और इनके बारे में सही जानकारी होना बेहद जरूरी होता है। चलिये आज एक्सरसाइज के दौरान लगने वाली ऐसी 8 चोटों के बारे में जानते हैं और ये भी जानते हैं कि कैसे इनसे सचेत रहें।
Images source : © Getty Images

गर्दन में मोच आना

एक्सरसाइज के दौरान गर्दन में मोच आना एक आम समस्या है। यह परेशानी गर्दन में अचानक झटका या चोट लगने पर गर्दन के गलत दिशा में मुड़ जाने की वजह से होती है। एक हल्का सा झटका भी कई बार गर्दन में चोट का कारण बन सकता है, और आपको कई दिनों तक दर्द का सामना करना और एक्सरसाइज छोड़नी पड़ सकती है तो इसके प्रति सचेत रहें।  
Images source : © Getty Images

एखीलीज टेंडन रप्चर (Achilles Tendon Rupture)


अखलीज़ टेंडन के रप्चर का सही कारण अभी भी स्पष्ट नहीं है। हालांकि अखलीज़ टेंडन में तंग या कमजोर पिंडली की मांसपेशियों से रप्चर होने की संभावना बढ़ जाती है। तो इसके प्रति भी सचेत रहने की जरूरत होती है।
Images source : © Getty Images

एंकल स्प्रेंस (Ankle Sprains)


एंकल इंजरी अर्थात चखने की चोटों में सबसे आम एंकल स्प्रेंस तक होती है जब टकने के आप-पास के स्नायुबंध (लिगमेंट) में किसी तरह का खिंचाव आ जाए या वे टूट जाएं। तो इससे प्रति सचेत रहना चाहिये।
Images source : © Getty Images

एंटीरियर क्रूशिएट लिगमेंट इंजरी (ACL Injuries)

 
एंटीरियर क्रूशिएट लिगमेंट इंजरी अर्थात एसीएल आंशिक या पूर्ण टीअर तब हो सकता है जब एथलीट तेजी से दिशा परिवर्तन करता है, पैरों को घुमाए बिना मुड़ता है, अचानक गती धीमा कर देता है या फिर कूदते समय ठीक से लेंड नहीं करता है।  
Images source : © Getty Images

शोल्डर फ्रैक्चर (shoulder fracture)


शोल्डर फ्रैक्चर का अर्थ होता है, जब हंसली (कॉलर बोन) या बांह की हड्डी की गर्दन पूर्ण या आंशिक रूप से टूट जाए। यह आपतौर पर कंधे पर किसी ठोस चीज के तेजी से लगने से होती है। इसलिये वजन उठाते समय इसके प्रति सचेत रहें।
Images source : © Getty Images

घुटनों का दर्द (Knee Pain)


एथलीटों में घुट ने के दर्द की समस्या आप होती है। घुटनों में दर्ध के कई अलग-अलग कारण होते हैं, जैसे मांशपेशियों में खिंचाव आना, कोई चोट लग जाना या कुछ प्रकार के सिंड्रोम आदि। इसलिये इसके कारणों के बारे में जानकारी रखते हुए इनका उपचार करना चाहिये।
Images source : © Getty Images

घुटनों का दर्द (Knee Pain)

एथलीटों में घुट ने के दर्द की समस्या आप होती है। घुटनों में दर्ध के कई अलग-अलग कारण होते हैं, जैसे मांशपेशियों में खिंचाव आना, कोई चोट लग जाना या कुछ प्रकार के सिंड्रोम आदि। इसलिये इसके कारणों के बारे में जानकारी रखते हुए इनका उपचार करना चाहिये।
Images source : © Getty Images

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK