Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

क्‍या वाकई लंबा जीते हैं शाकाहारी?

एक हालिया शोध में यह बात सामने आई है कि शाकाहारी मांसाहार का सेवन करने वाले लोगों की अपेक्षा लंबा जीवन व्‍यतीत करते हैं। क्‍या वाकई ऐसा होता है।

एक्सरसाइज और फिटनेस By Bharat MalhotraJan 09, 2015

लंबा जीते हैं शाकाहारी

मांसाहार के सेवन में कोई बुराई नहीं है, बशर्ते कि आप उसका सेवन संतुलित में करें। लेकिन शोध में यह साबित हुआ है कि शाकाहारी ज्यादा स्वस्थ होते हैं और यहां तक कि वे अपेक्षाकृत अधिक लंबा जीवन जीते हैं।

इसके साथ ही कुछ ऐसी अन्य बातें भी हैं जिन पर शाकाहारी नाज कर सकते हैं। जामा (JAMA) इंटरनल मेडिसिन में एक शोध प्रकाशित किया जिसमें सात अन्‍य क्लिनिकल स्‍टडीत और 32 अन्‍य शोधों का आकलन किया था। ये शोध 1900 से 2013 के बीच किये गए थे। इसमें प्रतिभागियों ने शाकाहार अपनाया था। इस शोध के परिणामों में पाया गया कि शाकाहारियों का रक्‍तचाप मांसाहार खाने वालों की अपेक्षा कम रहा। कुछ ऐसे तरीके हैं जिनके जरिये शाकाहारी स्‍वस्‍थ रह सकते हैं और साथ ही लंबा जीवन भी जी सकते हैं।
Images courtesy: © Getty Images

रक्‍तचाप कम

एक हालिया शोध में शोधकर्ताओं ने पाया कि न सिर्फ शाकाहारियों का रक्‍तचाप मांसाहार का सेवन करने वालों की अपेक्षा कम रहता है, बल्कि साथ ही साथ जिन लोगों को अपना रक्‍तचाप सामान्‍य करना हो, वे भी शाकाहार अपना सकते हैं।
Images courtesy: © Getty Images

मौत का कम खतरा

2013 में 70 हजार लोगों पर एक शोध किया गया। इस शोध में यह पाया गया कि शाकाहारी लोगों में मौत का खतरा 12 फीसदी कम होता है। शाकाहारी भोजन जिसमें सेचुरेटेड फैट और कोलोस्‍ट्रॉल नहीं होता वह दिल की धमनियों को सही प्रकार से काम करने में मदद करता है। इससे धमनियां बंद नहीं होतीं। इसके साथ ही कुल मिलाकर भी शाकाहारियों को दिल की बीमारियां होने का खतरा कम होता है।
Images courtesy: © Getty Images

अच्‍छा मूड

2012 में प्रतिभागियों को तीन प्रकार के आहार समूहों में बांटा गया- कुछ भी खाना, सिर्फ मछली का सेवन और शाकाहारी भोजन जिसमें किसी प्रकार का मीट खाने की इजाजत नहीं थी। शोधकर्ताओं ने दो सप्‍ताह के बाद पाया कि शाकाहारी भोजन करने वाले लोगों का मूड अन्‍य दो प्रकार के आहार खाने वाले लोगों की अपेक्षा बेहतर रहा।
Images courtesy: © Getty Images

दिल कम होता है बीमार

2013 में हुए एक अन्‍य शोध में यह पाया गया है कि शाकाहार अपनाने वाले लोगों का दिल कम बीमार पड़ता है। 44 हजार लोगों पर किये गए शोध में यह बात सामने आई कि शाकाहार अपनाने वालों में दिल की बीमारियां होने का खतरा 32 फीसदी कम होता है।
Images courtesy: © Getty Images

कैंसर का खतरा कम

कैलिफोर्निया स्थित लोमा लिंडा यूनिवर्सिटी के शोध के मुताबिक ने शाकाहारी आहार योजनाओं और कैंसर के खतरों पर जांच की। उन्‍होंने पाया कि शाकाहारी भोजन करने वाले लोगों में सभी प्रकार के कैंसर का खतरा अपेक्षाकृत कम होता है। इसके पीछे की वजह यह मानी गई कि शाकाहार में कैंसर से बचाने वाले तत्‍व अधिक होते हैं। हालांकि, यह शोध अपने आप में संपूर्ण नहीं है, वीगन (वे लोग जो जिसी भी पशु आधारित उत्‍पाद का सेवन नहीं करते यहां तक कि डेयरी उत्‍पादों का भी नहीं) में कैंसर का खतरा सबसे कम होता है। खासतौर पर महिलाओं में पाया जाने वाले कैंसर, जैसे स्‍तन कैंसर,  का खतरा सबसे कम होता है।
Images courtesy: © Getty Images

डायबिटीज का कम खतरा

शाकाहारी होने की एक वजह डायबिटीज से बचाव भी है। शोध में साबित हुआ है कि शाकाहारियों को डायबिटीज का खतरा बेहद कम होता है। हालांकि शाकाहार आपको डायबिटीज से तो नहीं बचा सकती, लेकिन इससे आप वजन कम रखने में मदद मिलती है और साथ रक्‍त शर्करा पर आपका नियंत्रण भी बढ़ जाता है।
Images courtesy: © Getty Images

मोटापा रहता है दूर

शोध में साबित हुआ है कि शाकाहारी मांसाहारियों की अपेक्षा अधिक पतले होते हैं। इसके साथ ही उनके शरीर में कोलेस्‍ट्रॉल की मात्रा भी कम होती है साथ ही साथ उनका बॉडी मॉस इंडेक्‍स भी अपेक्षाकृत अधिक सामान्‍य होता है। कुछ आंकड़े यह दिखाते हैं कि शाकाहार वजन कम करने में अधिक मददगार होता है और साथ ही इसे अपनाकर आप लंबे समय तक इस स्‍वस्‍थ वजन को कायम रख सकते हैं।
Images courtesy: © Getty Images

शाकाहार के नुकसान

शाकाहार रहे बिना भी आप स्‍वस्‍थ रह सकते हैं। और इसके साथ ही शाकाहार के अपने कुछ नुकसान भी हैं। शाकाहारियों में आयरन की कमी पाई जाती है। कुछ जानकार मानते हैं कि बचपन में केवल शाकाहार देने से बढ़ते बच्‍चों की पोषण आवश्‍यकतायें पूरी नहीं हो पातीं। आप कोई भी आहार लें, लेकिन इस बात का ध्‍यान रखें कि आपको सभी पोषक तत्‍व पर्याप्‍त मात्रा में मिल रहे हों। इसके साथ ही अपने डॉक्‍टर को भी खानपान संबंधी अपनी आदतों से वाकिफ रखें, ताकि वह आपको पोषण संबंधी सलाह दे सके।
Images courtesy: © Getty Images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK