• shareIcon

सब्जियां जो आप नहीं खाते लेकिन खानी चाहिए

ऐसी कई सब्जियां जिनका स्वाद आपको पसंदा नहीं आता है लेकिन इसके स्वास्थ्य लाभ के बारे में जानने के बाद आप इसे खाने पर मजबूर हो जाएंगे।

स्वस्थ आहार By Anubha Tripathi / Mar 15, 2014

नापसंद सब्जियों के फायदे

हम मे से कई ऐसे लोग होंगे जो सारी सब्जियों का सेवन नहीं करते होंगे सिर्फ इसलिए क्योंकि उन्हें इसका स्वाद अच्छा नहीं लगता है। लेकिन अगर आप ऐसी सब्जियों के स्वास्थ्य लाभ के बारे में सुनेंगे तो हैरान रह जाएगें। स्वाद में नापसंद आने वाली इन सब्जियों का सेवन आपको गंभीर रोगों से बचा सकता है आइए जानें कैसे-

बैंगन

बैंगन एक बहुत ही पौष्टिक सब्जी है लेकिन कुछ लोग इसे बिना गुण वाली सब्जी मानते हैं। बैंगन के सेवन से रक्त में बैंगन के सेवन से रक्त में कोलेस्ट्रोल का स्तर गिरता है। बैंगन में पोटेशियम व मैंगनीशियम की अधिकता होने के कारण ऐसा होता है। बैंगन की पत्तियों के रस का सेवन करने से भी रक्त में कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम किया जा सकता है।

लौकी

कई लोगों को लौकी की सब्जी पसंद नहीं आती है। लौकी हमारे शरीर के कई रोगों को दूर करने में सहायक होती है। वास्‍तव में यह एक औषधि है और इसका उपयोग हजारों रोगियों पर सलाद के रूप में अथवा रस निकालकर या सब्‍जी के रुप में एक लंबे समय से किया जाता रहा है।

परवल

परवल की सब्जी खाने से पेट की सूजन दूर हो जाती है, जिन लोगों को अक्सर पेट में पानी भर जाने की शिकायत हो उनके लिए परवल वरदान है। हर्बल जानकारों के अनुसार अक्सर परवल की सब्जी खाते रहने से पेट से जुडी अनेक समस्याओं में आराम मिलता है।

करेला

करेला का नाम सुनते ही कड़वेपन का ख्याल आ जाता है। हरे या गहरे हरे रंग की इस सब्जी का स्वाद भले ही मन को न भाए पर इसमें ढेरों एंटीऑक्सीडेंट और जरूरी विटामिन पाए जाते हैं। करेले का सेवन हम कई रूपों में कर सकते हैं। हम चाहें तो इसका जूस पी सकते हैं, अचार बना सकते हैं या फिर इसका इस्तेमाल सब्जी के रूप में कर सकते हैं।

मशरुम

अगर आप मनशरुम का सेवन नहीं करते हैं तो जरा इसके गुणों के बारे में जान लें फिर शायद आप इसे खाने को मजबूर हो जाएं। मशरुम में मौजूद तत्व कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी से बचाता है। मशरुम में मौजूद पौष्टिक तत्‍वों के कारण सेहत विशेषज्ञ अब इसके सेवन की सिफारिश करने लगे हैं। मशरुम में उपयोगी मिनरल्‍स जैसे, पोटेशियम, फॉस्‍फोरस, कैल्शियम समेत तमाम उपयोगी प्रोटीन होते हैं जो हमारे शरीर को हृदय रोग और कैंसर से बचाने में मदद करते हैं।

जिमीकंद

जिमीकंद में शरीर के लिए जरूरी पोषक तत्व मौजूद होते हैं। इसमें विटामिन ए, विटामिन बी, आयरन, फॉस्पोरस, प्रोटीन, वसा, कार्बोहाईड्रेट, क्षार, कैल्शियम आक्ज्लेट आदि तत्व पाए जाते हैं। इसे देश के अधिकाशतः राज्यों में सूरन, ओल, जिमीकंद के नाम से ही जानते हैं।

सहजन

सहजन से तो आप भलि-भाति परिचित होगें। यह एक ऐसी हरी सब्‍जी है जो बाजार में चारों ओर बिकती है पर हम में ऐसे बहुत से लोग हैं तो इस सब्‍जी को देख कर भी अनदेखा कर देते हैं। सहजन में विटामिन सी की मात्रा बहुत होती है। विटामिन सी शीर के कई रोगों से लड़ता है, खासतौर पर सर्दी जुखाम से। अगर सर्दी की वजह से नाक कान बंद हो चुके हैं तो, आप सहजन को पानी में उबाल कर उस पानी का भाप लें। इससे जकड़न कम होगी।

ब्रोकली

ब्रोकली को पका कर या फिर कच्चा भी खाया जा सकता है, लेकिन अगर आप इसे उबाल कर खाएंगे तो आपको ज्यादा फायदा होगा। इस हरी सब्जी में लोहा, प्रोटीन, कैल्शियम, कार्बोहाइड्रेट, क्रोमियम, विटामिन ए और सी पाया जाता है, जो सब्जी को पौष्टिक बनाता है। ब्रोकली क्रोमियम का बहुत अच्छी स्रोत है, जो मधुमेह पर नियंत्रण और शरीर में इंसुलिन के उत्पादन को नियंत्रित करती है।

रोजमेरी

खाने में रोजमेरी का प्रयोग करने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है यानी आपका शरीर बीमारियों का बेहतर ढंग से सामना कर पाता है। रोजमेरी में याद्दाशत बढ़ाने वाले तत्व भी पाए जाते हैं। रोजमेरी में कारनोसिक नामक तत्व होता है, जो मस्तिष्‍क को स्‍वस्‍थ रख उसकी कार्यक्षमता बढ़ाता है। इससे स्‍मरण शक्ति तो तेज रहती ही है  साथ ही अल्‍जाइमर जैसे मानसिक रोग से भी बचाव होता है।

चुकंदर

चुकंदर एक ऐसी सब्जी है जिसे बहुत से लोग नापसंद करते हैं। इसके रस को पीने से न केवल शरीर में रक्त में हीमोग्लोबिन की मात्रा बढ़ती है बल्कि कई अन्य स्वास्थ्य लाभ भी होते हैं। चुकंदर में लौह तत्व की मात्रा अधिक नहीं होती है, किंतु इससे प्राप्त होने वाला लौह तत्व उच्च गुणवत्ता का होता है, जो रक्त निर्माण के लिए विशेष महत्वपूर्ण है। यही कारण है कि चुकंदर का सेवन शरीर से अनेक हानिकारक पदार्थों को बाहर निकालने में बेहद लाभदायक है।

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK