• shareIcon

पिनवॉर्म के उपचार के लिए 5 प्रभावी घरेलू नुस्‍खे

पिनवॉर्म वे परजीवी होते हैं, जो आंतों को संक्रमित कर देते हैं और सबसे अधिक बच्चों में पाये जाते हैं। आपकी रसोईं में मौजूद कुछ चीज़ों से ही पिनवॉर्म का आसानी से इलाज किया जा सकता है।

घरेलू नुस्‍ख By Rahul Sharma / May 02, 2016

पिनवॉर्म का घरेलू उपचार

पिनवॉर्म वे परजीवी होते हैं, जो आंतों को संक्रमित कर देते हैं और सबसे अधिक बच्चों में पाये जाते हैं। तत्काल उपचार इस संक्रमण के लिए आवश्यक होता है, क्योंकि अधिक समय तक रहने पर यह बच्चे के आंतरिक अंगों के अपूरणीय (जो सुधार के योग्य न हो) क्षति का कारण बन सकता है। लेकिन घबराने की कोई बात नहीं हैं, क्योंकि आपकी रसोईं में मौजूद कुछ चीज़ों से ही इन पिनवॉर्म का आसानी से इलाज किया जा सकता है। पिनवॉर्म के उपचार के लिये इन घरेलू नुस्‍खों को आजमायें। 
Images source : © Getty Images

सिरके से करें उपचार (Vinegar)

चूंकि यह प्रकृति में अत्यधिक अम्लीय है, सिरका इस असहज संक्रमण पैदा करने वाले परजीवी को मारने में बहुत प्रभावी है। उपचार के लिये बस सिरके से अपने बच्चे के जननांगों को धो लें।

कैसे करें इस्तेमाल -
इसके लिये आपको पानी के 3 कप के साथ 1 कप सिरका मिलाना होता है, और फिर पानी और सिरके व जीवाणुरोधी साबुन के साथ बच्चे के जननांगों को धोना होता है। डितनी बार भी आपका बच्चा बाथरूम जाए, इस क्रिया को दोहराएं। लेकिन ध्यान रहे कि बिना पानी मिलाए सिरके से बच्चे के अंगों को न धाएं, वरना इससे उसकी कोमल त्वचा जल सकती है।
Images source : © Getty Images

लहसुन (Garlic)

अपने शक्तिशाली जीवाणुरोधी और फंगसरोधी गुणों के चलते लहसुन पिनवॉर्म के लिए एक महान प्राकृतिक उपचार है।

कैसे करें इस्तेमाल -
लहसुन की 3 से 4 लौंग ले और उन्हें छील लें। अब इन्हें हल्के से कुचलें और फिर बच्चे के गुप्तांगों पर लगाएं। इसे कुछ घंटों के लिये लगा रहने दें और फिर और कुनकुने पानी से अच्छी तरह से धो लें। परजीवी को तेजी से समाप्त करने के लिए हर दिन इसे 3 बार करें। इसके अलावा आपको अपने बच्चे के आहार में भी लहसुन को शामिल करना चाहिए, ताकि आंत्रिक ट्रैक्ट से भी परजीवी को खत्म किया जा सके। आप अपने बच्चे को पिसी लहसुन की कलियों को एक चम्मच शहद के साथ भी दे सकती/सकते हैं।
Images source : © Getty Images

अरंडी और नारियल के तेल (Castor And Coconut Oils)

अरंडी और नारियल के तेल का संयोजन, पिनवॉर्म को दूर करने के लिए एक जाना-माना घरेलू नु्स्खा है। इसे खाने पर यह सबसे अधिक प्रभावी ढंग से काम करता है। हालांकि, अरंडी और नारियल के तेल को मिलाकर बच्चे को खिलाना मिश्किल होता है, इसलिये नारियल तेल को अपने बच्चे का खाना बनाने में इस्तेमाल करें।   

कैसे करें इस्तेमाल -
अरंडी और नारियल तेल के 1-1 चम्मच को लेकर गर्म करें और कुनकुना हो जाने पर इसे अपने बच्चे के जननांगों पर लगाएं। इससे खुजाने की वजग से हो रही जलन और लालिमा दूर होती है। दिन में 3 बार इसका उपयोग करें ताकि आपका बच्चा आराम से सो पाए।
Images source : © Getty Images

वैसलीन और अरंडी के तेल (Vaseline And Castor Oil)

वैसलीन में मौजूद मजबूत रसायन, पिनवॉर्म के विकास को रोकने में बेहद प्रभावी होते हैं।

कैसे करें इस्तेमाल -
शक्तिशाली रसायनों को डायलूट करने के लिए वैसलीन को गर्म अरंडी के तेल के साथ मिलाएं। अब इस मिश्रण के कुनकुना हो जाने पर बच्चे के जननंगों पर लगाएं। तकरीबन आधा घंटे के लिये इसे लगा रहने दें और फिर एंटिबायोटिक साबुन और कुनकुने पानी से इसे धो दें। जल्द लाभ के लिये इसे दिन में तान बार लगाएं।
Images source : © Getty Images

गोभी और गाजर (Cabbages And Carrots)

इस पौष्टिक सब्जियों में न सिर्फ स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण आवश्यक पोषक तत्व होते हैं, बल्कि गंधक यौगिकों (sulfur compounds) की उच्च मात्रा भी होती है, जोकि पिनवॉर्म को नष्ट करने में बेहद प्रभावी होता है।

कैसे करें इस्तेमाल -

इस संक्रमण के इलाज के लिए इन्हें अपने दैनिक आहार में शामिल करें। आप पिनवॉर्म क पूरी तरह खतम हो जाने तक रोज़ना सुबह अपने बच्चे को कसा हुआ पत्तागोभी और गाजर भी खाने के लिये दे सकती/सकते हैं। इन पिनवॉम को दूर करने वाले घरेलू नुस्खों के अलावा आपको घर और बच्चे की साफ-सफाई का पूरा खयाल रखना चाहिये, ताकि संक्रमण फैल न सके। सुनिश्चित करें कि घर में सभी एंटिबायोटिक साबुन का इस्तेमाल करें और हाथ समय-समय पर धोते रहें। अगर एक हफ्ते तक इन घरेलू उपचार का कोई फायदा न हो तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।
Images source : © Getty Images

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK