• shareIcon

आंखों को कमजोर कर सकती हैं ये आदतें

बिना आंखों के हम अपने जीवन की कल्पना भी नहीं कर सकते हैं। लेकिन जाने अनजाने हम कुछ ऐसी आदतों को अपना लेते हैं जिसके चलते हमारी आंखों को नुकसान होने लगता हैं। फोन, टैबलेट, टीवी और कंप्यूटर का लगातार इस्तेमाल हमारी आंखों को नुकसान पहुंचा रहे हैं। आइए ऐ

आंखों के विकार By Pooja Sinha / May 15, 2015

अनमोल हैं आंखें

आंखे कुदरत की अनमोल देन है। बिना आंखों के हम अपने जीवन की कल्पना भी नहीं कर सकते हैं। यानी आंखें न हों तो इस खूबसूरत दुनिया को हम देख नहीं सकते। इसलिए आंखों की देखभाल बहुत आवश्‍यक हो जाती है। लेकिन कई ऐसी चीजें हमारी आदतों या रुटीन में शुमार हैं जो आपकी आंखों की रोशनी को नुकसान पहुंचाती हैं। इनके बारे में जानकर आप जरूर चौंक जाएंगे। आइए आंखों को नुकसान पहुंचाने वाले आदतों के बारे में जानें।  
Image Source : Getty

कम रोशनी में पढ़ना

कम रोशनी में या लेटकर पढ़ने की आदत भी आंखों की सेहत के लिए हानिकारक होती है। अंधेरे में पढ़ने से आंखों को आगे चलकर नुकसान हो सकता है। क्‍योंकि रोशनी की कमी से आंखों की पुतलियां फैल जाती हैं, जिसका परिणाम होता है, दृष्टि क्षेत्र की गहनता यानी आंख के फोकस में नजदीक और दूर की चीजों के बीच फर्क का कम होना।
Image Source : Getty

लगातार इलेक्ट्रॉनिक स्क्रीन देखना

कुछ आंखों के डॉक्‍टरों के अनुसार, इलेक्ट्रॉनिक स्क्रीन, जैसे हमारे कंप्यूटर, टेबलेट्स और स्‍मार्टफोन से निकालने वाली नीली लाईट सूरज की पराबैंगनी किरणों की तरह हानिकारक हो सकती है। इसके अलावा कंप्यूटर और लैपटॉप के स्क्रीन से निकलने वाली नीली रोशनी से आंखें खराब होने के साथ-साथ मोतियाबिंद जैसी बीमारी तक हो सकती है। कई लोग इस वजह से अनिद्रा के भी शिकार हो जाते हैं।
Image Source : Getty

सीधे संपर्क में रहना

मोबाइल और कंप्यूटर हमारी आंखों के सीधे संपर्क में रहते हैं, इसलिए सबसे इससे ज्यादा नुकसान आंखों को ही होता है। कंप्यूटर और मोबाइल से अपनी आंखों की दूरी कम होती हैं, जिससे आंखों की मूवमेंट कम होती है। इस कारण लंबे समय तक आंखें एक ही पॉइंट पर फोकस रहती है। मोबाइल और कंप्यूटर अधिक उपयोग करने वाले लोगों में मुख्य समस्या ड्राई आई सिंड्रोम की होती है। इसमें या तो आंखों में नमी कम होने लगती है ।
Image Source : Getty

लंबे समय तक मोबाइल का इस्‍तेमाल

बहुत अधिक समय तक मोबाइल के इस्‍तेमाल से भी आंखों को नुकसान हो सकता है। क्‍योंकि लंबे समय तक मोबाइल का इस्तेमाल करने से उसकी स्क्रीन से निकलने वाली एलेक्ट्रोमैग्नेटिक किरणें आंखों के विभिन्न हिस्सों जैसे रेटिना और कॉर्निया पर अपना असर डालती हैं।
Image Source : Getty

कम क्षेत्र होना

2007 में हुए एक शोध के अनुसार, कम दायरे में देखने के कारण भी आंखों की रोशनी कम होती है, यानी जब हम एक केंद्रीय बिंदु पर अधिक देर त‍क ध्‍यान लगाये रहते हैं और अन्‍य वस्‍तुओं को नहीं देखते तब भी हमारी आंखों की रोशनी कम होती है। उम्रदराज युवाओं में यह समस्‍या अधिक देखने को मिलती है। यह शोध इन्‍वेस्टिगेटिव ऑप्‍थॉल्‍मेलॉजी एंड विजुअल साइंस में छपा था।
Image Source : Getty

धूम्रपान का आंखों पर असर

धूम्रपान करने का असर भी आंखों पर पड़ता है। सिगरेट में लगभग 4000 केमिकल्स मौजूद होते हैं, जो शरीर के भीतर जाकर शरीर के अन्य अंगों के साथ-साथ आंखों को भी नुकसान पहुंचाते हैं। ज्यादा सिगरेट पीने से आंखों में लाल धब्बे होने के साथ-साथ आंखों से जुड़ी अन्य बीमारियों का खतरा भी बढ़ता है। रेटिना के केंद्र को मैक्युला कहते हैं। हम अपनी आंखों की सीध में जिन चीजों को देखते हैं, उसके लिए मैक्युला जिम्मेदार होता है। उम्र बढ़ने पर खासकर 60 साल की उम्र के बाद मैक्युला की कार्यक्षमता धीरे-धीरे कम होने लगती है। लेकिन अगर आप धूम्रपान करते हैं तो मैक्युला की कार्यक्षमता समय से काफी पहले ही कम होकर आपकी आंखें खराब हो जाती हैं।
Image Source : Getty

अल्ट्रावॉयलेट किरणों का प्रभाव

यह बात जानकर आपको थोड़ा अटपटा लग सकता हैं लेकिन अगर आप बाहर धूप में ज्यादा देर तक रहते हैं तो आपको मोटियाबिंद का खतरा अन्‍य लोगों की तुलना में अधिक होता है। सूर्य की अल्ट्रावॉयलेट किरणें कोर्निया को जला देती हैं जिससे आंखों की रोशनी जा सकती है।
Image Source : Getty

आंखों को कम झपकना

आपने देखा होगा कि लगातार कंप्यूटर स्क्रीन पर काम करते रहने से उनमें असहजता, खुजली महसूस होने लगती है। आमतौर पर आंखें एक मिनट में 12-15 बार  झपकती हैं, लेकिन कंप्यूटर स्क्रीन पर काम करने वाले एक मिनट में केवल 4-5 बार ही आंखों को झपकाते हैं। आंखों को कम झपकाना और अधिक समय तक काम करते रहने से ड्राई आई सिंड्रोम, खुजली जैसी समस्याएं हो सकती हैं। वहीं दूसरी ओर कंप्यूटर पर लगातार काम करने वालों की आंखों से पानी निकलने की समस्या भी हो जाती है क्योंकि आंखें नहीं झपकाने से ल्युब्रिकेंट सही तरीके से आंखों में फैलता नहीं और उससे खुजली होती है और पानी बहता है।
Image Source : Getty

लेटकर टीवी देखना

लगातार टीवी देखने से आंखों की रोशनी कम होने लगती है क्योंकि टीवी से निकलने वाली घातक किरणें हमारी आंखों को बहुत ज्यादा नुकसान पहुंचती है। कभी भी बहुत पास या बहुत दूर और लेटकर भी टीवी नहीं देखना चाहिए।
Image Source : Getty

एल्कोहल का अधिक सेवन

बहुत अधिक एल्‍कोहल पीने वाले लोगों की आंखों को भी उतना ही नुकसान होता है जितना कि लीवर को। कई शोधों से यह बात साबित हो चुकी है कि बहुत अधिक शराब पीने वाले लोगों की आंखे तो कमजोर होती है ही, लेकिन साथ ही उनकी आंखों में लालीपन, तेज गति की चीजें न दिखना, रंगों के प्रति संवेदनशीलता जैसी कुछ समस्याएं भी हो सकती हैं।
Image Source : Getty

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK