• shareIcon

10 प्रकार की भूख और उन्‍हें नियंत्रित करने के तरीके

भूख को लेकर आपका शरीर और मस्तिष्‍क वास्‍तव में क्‍या चाहता है, यह जानने के लिए आपको भूख के प्रकार के बारे में जानकारी हासिल करनी होगी।

एक्सरसाइज और फिटनेस By Pooja Sinha / Sep 08, 2014

भूख के प्रकार

भूख एक रहस्य है। कभी-कभी आप अपने थाली में मौजूद खाने से संतुष्‍ट हो जाते है तो कभी इससे आपका पेट खाली रह जाता है। इसके पीछे भूख (खाने के लिए एक शारीरिक आवश्यकता) और खाने की इच्छा की दुविधा हो सकती है। इस फर्क के बारे में आपको तब पता चलता है जब आपका वजन घटने या बढ़ने लगता है। यह जानने के लिए कि आपका शरीर और मस्तिष्‍क वास्‍तव में क्‍या चाहता हैं आपको भूख के प्रकार के बारे में जानना होगा। image courtesy : getty images

वास्‍तविक भूख

वास्‍तविक भूख सबसे महत्‍वपूर्ण प्रकार की भूख है। यह बताती है कि आपको कब खाना चाहिए! सुसान एल्बर्स, पीवाइसडी, इटक्‍यू के लेखक के अनुसार, रियल भूख, ब्‍लड शुगर में कमी, सिर में दर्द, ऊर्जा की कमी, या पेट में गड़गड़ाहट की तरह शारीरिक लक्षण महसूस कराती है। यह बहुत आसान लगता है, लेकिन जब तक हम खाने का इंतजार करते हैं, अक्सर भूख आपात बढ़ जाती है। इसलिए भूख को शांत करने के लिए हमेशा तैयार रहना चाहिए। image courtesy : getty images

टीवी बढ़ाये भूख

कई शोधों में यह बात प्रमाणित साबित हो चुकी है कि खाना खाते वक्त टीवी देखने से हम अक्सर ज्यादा खा लेते हैं। असल में विज्ञापनों में लजीज खाने की तस्वीरों से हमारी भूख बढ़ने लगती है। क्लीनिकल न्यूट्रीशन के अमेरिकन जर्नल में 2013 के एक अध्ययन के अनुसार, खाने के समय ध्‍यान टीवी की तरफ ध्‍यान होने पर अक्‍सर उस पल में लोग अत्‍यधिक कैलोरी का उपभोग कर लेते हैं। एल्बर्स सलाह देते हैं कि आपको कितनी भूख लगी है इसके बारे में पता लगाने से पहले टीवी को बंद कर देना चाहिए। image courtesy : getty images

उबाऊ भूख

आप बोर हो रहे हैं। करने के लिए कुछ नहीं है, तो आप कहते हैं कि चलो फ्रिज में देखते हैं क्‍या है, उबाऊ महसूस होने पर आप अपने आप से अक्‍सर यह कहते है। एल्बर्स के अनुसार, अक्‍सर बोर महसूस होने पर हमें भूख लगने लगती है। और हम न चाहते हुए भी खाने लगते है। इस समस्‍या से बचने के लिए आप अपना ध्‍यान दूसरे चीजों में लगाये। इसके लिए अपने पसंद की किताबें पढ़ें, अपने अच्‍छे दोस्‍त के साथ समय बिताये। image courtesy : getty images

गुस्‍सा और भूख

जब आप गुस्‍से में होते हैं और आपको भूख लगती है, तब ब्‍लड शुगर का स्‍तर कम हो जाता है। ऐसे में आपको  अस्‍पष्‍ट सोच और चिड़चिड़ापन होने लगता है। जिससे भूख पर आपका नियंत्रण नहीं रहता। हाल के शोध प्रपत्र ओहियो स्टेट यूनिवर्सिटी के एक शोध के अनुसार, शादीशुदा लोगों में रक्त शर्करा के कम स्‍तर के कारण उनके अपने जीवन साथी के प्रति आक्रमक होने की अधिक आशंका रहती है। जब आप भूखे होते है तो मीठे स्‍नैक्‍स की और अधिक प्रभावित होते हैं। लेकिन अपने रिश्‍ते और कमर के लिए अपनी भूख को पहचाने और रक्त शर्करा के स्तर को बनाये रखने के लिये स्‍वस्‍थ कार्बोंहाइड्रेट जैसे फल और पूरे अनाज को चुनें। image courtesy : getty images

दोपहर की भूख

डॉक्‍टर मिशेल मय मिंडफुल-ईटिंग एक्सपर्ट के अनुसार, दोपहर के भोजन के कुछ घंटों के बाद आपको वास्‍तव में भूख लगने लगती है। इस तरह की भूख से बचने के लिए आपको योजना बनाने की जरूरत है। साथ ही विकल्‍प के तौर पर अपने साथ प्रोटीन से भरपूर स्‍नैक्‍स को रखना होगा। भूख पर हुए एक अध्‍ययन के अनुसार, प्रोटीन युक्त स्‍नैक्‍स खाने से भूख कम लगती है और आप अगला भोजन कम मात्रा में करते हैं।  image courtesy : getty images

तनाव के दौरान भूख

इसके अलावा लंबे समय से चले आ रहे मानसिक तनाव के कारण भी कई लोगों को भूख लगती है। ऐसा तब होता है जब तनाव गेर्लिन के स्तर को बढा़ता है और इसका स्तर बढ़ने से अवसाद एवं बेचैनी से संबंधित व्यवहार घट जाता है। इसका एक नकारात्मक प्रभाव यह होता है कि भूख बढ़ जाती है।
2013 में हुए अध्ययन में पाया कि स्‍ट्रेस ईटर परेशानी की हालत में अधिक भोजन करते है, लेकिन चीजों के ठीक होने पर वह स्‍वाभाविक रूप से कम खाने लगते हैं। इसलिए तनाव से बचने के लिए एक गहरी सांस लें और रिलेक्‍स करें। image courtesy : getty images

पीएमएस भूख

पीएमएस में भूख के बढ़ने का मुख्‍य कारण महिलाओं में होने वाला हार्मोनल बदलाव है। इस्‍टा्रोजेन के स्‍तर में अचानक बदलाव आने से शरीर में कोर्टिसोल और स्‍ट्रेस हार्मोंन स्राव होता है। रक्‍त में कोर्टिसोल हार्मोंन बढ़ने पर शरीर का मेटॉबोलिज्‍म बढ़ जाता है। जिससे भूख लगने लगती है। इससे बचने के लिए भूख के संकेतों पर ध्यान दें। साथ ही आप वास्‍तव में भूख लगने पर थोड़ा अधिक खायें। जल्‍द ही, लक्षण खत्म हो जायेगें और आप फिर से संतुलन कर लेगें। image courtesy : getty images

मस्तिष्क की भूख

आपको भूख या थकान नहीं है। लेकिन आप कुछ खाना चाहते हैं। इस समस्‍या से बचने के लिए माइंडफुल न्‍यूट्रीशन सिएटल के मिन्ह हाई एलेक्स, आरडी का सुझाव कारगर हो सकता है। एलेक्‍स स्‍वयं से सवाल पूछने को कहते हैं कि आखिर खाद्य पदार्थ मेरे लिए क्‍या करते हैं? आपको वास्‍तव में नाश्‍ते की जरूरत है यह तय करने के लिए यूरेका पल (मैंने पा लिया) का उपयोग करें। image courtesy : getty images

आंखें बढ़ायें भूख

यह शॉर्ट सर्किट ऑटोमेटिक आदत में आपको सोच और आनंद के बिना सिर्फ देखने मात्र से भूख लगने लगती है। एक कुकीज को देखकर उसे खाये या छोड़ दे यह पूरी तरह से आपका फैसला है। हालांकि एक कुकीज के खाने से आपका वजन नहीं बढ़ता। लेकिन, इनका अधिक सेवन सेहत के लिहाज से अच्‍छा नहीं। तो, स्‍वयं पर नियंत्रण रखें और विचारों को काबू रखें। image courtesy : getty images

सेलिब्रेशन की भूख

खास मौकों पर दोस्‍तों अथवा प्रियजनों के साथ बाहर खाना बुरा नहीं। असल में भोजन हमें एक दूसरे से जोड़ने का काम करता है। लेकिन, हर खुशी को बाहर केक, पित्‍जा या जंक फूड खाकर सेलिब्रेट करने को सही नहीं माना जा सकता। तो बेहतर रहेगा कि आप खुशी मनाने के स्‍वस्‍थ तरीकों पर विचार करें। image courtesy : getty images

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK