• shareIcon

अपनी इंद्रियों की मदद से कैसे करें खुद को 'टर्न-ऑन'

किसी भी इंसान की यौनिकता उसके शरीर के किसी विशेष भाग तक ही सीमित नहीं होती, इंसान के विचार, कल्पना, स्पर्श, ध्वनि, स्वाद, पसंद और नापसंद आदि उसे उसके भीतर की कामुकता का अहसास करते हैं।

सभी By Rahul Sharma / Jul 19, 2014

कई तरीके हैं इजहार के

नैसर्गिक रूप से सभी मनुष्य कामुक होते हैं। और यह स्थिति आजीवन बनी रहती है चाहे वो यौन क्रियाओं में संलग्न हों या नहीं हों। किसी भी इंसान की यौनिकता शरीर के किसी विशेष भाग तक ही सीमित नहीं रहती। यह आकार, आकृति, रंग या वजन के परे अपने आप में संपूर्ण शरीर है। यौनिकता शारीरिक से ज्यादा मानसिक होती है। इंसान के विचार, कल्पना, पसंद और नापसंद ही हैं जो उसे  कामुक बनाते हैं। यौनिकता मनुष्य की अभिव्यक्ति का माध्यम है। आपकी यौनिकता आपके कार्यों के अतिरिक्त विचारों, कल्पनाओं, भावनाओं, इच्छाओं, और भाषा के द्वारा भी व्यक्त होती है। यह एक कला है जिसे इंद्रियों की मदद से महसूस किया जा सकता है।
Image courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

स्पर्श को महसूस करें

मनोवैज्ञानिक मानते हैं कि छूने और नॉन-सेक्सुअल स्पर्श में कमाल की उपचार क्षमता होती है। यह किसी इंसान को दोबारा जवां कर सकती है। एक प्यार भरा स्पर्श हजार शब्दों से ज्यादा बोलता है। रोजाना की बातचीत में यदि आप लोगों की पीठ पर हाथ रख कर, बांह पर एक दोस्ताना स्पर्श के साथ या हार्दिक आलिंगन के द्वारा मदद करते हैं, तो आपकी भावनाएं दूसरे तक अच्छी तरह पहुंचती हैं। यौनिकता में भी स्पर्श की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। खुद को किये कुछ खास स्पर्श भी आपको आपके भीतर की कामुकता का अहसास करते हैं।  
Image courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

दृश्य – आपको क्या उत्तेजित करता है!

कई बार एक कामुक दृष्य भी आपको झकझोड़ कर रख देता है और आपके भीतर की कामुकता से आपका परिचय करता है। इसलिए कभी - कभी ऐसे दृष्यों का आनंद लें जो आपकी इंद्रियों को जाग्रत कर आपको यौनिकता का अनुभव कराएं। यह दृष्य किसी एडल्ट फिल्म के हो सकते हैं या जीवित भी हो सकते हैं। ध्यान रखें यहां कुंठा जाग्रत करने की बात नहीं हो रही बल्की अपने भीतर की यौनिकता को महसूस करने की बात की जा रही है।   
Image courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

ध्वनि को महसूस करें

कई बार बिस्तर पर आराम से लेटकर, गहरी सांस लेते हुए किसी फिल्‍म की सिर्फ रोमांटिक आवाज सुनकर ही आपके रोंगटे खड़े हो जाते हैं। यही नहीं कई बार जब आप सुकून से गहरी सांस लेते हैं और खुद उस आवाज़ को सुनकर महसूस करते हैं तो आपको एक नये से कामुक भाव का अनुभव होता है।    
Image courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

स्वाद

जब भी हम किसी भोजन को प्रेम से जोड़ा जाता है तो उनके आकार, स्वाद और गंध को ध्यान में रखा जाता है। यौन इच्छाओं को बढ़ाने वाले कई खाद्य पदार्थ किसी न किसी रूप में जननांग से मिलते-जुलते होते हैं। इन कामोत्तेजक खाद्य पदार्थो पर बड़ी बहस भी होती है कि ये असरदार है भी या नहीं। जैसे वाइन पीना अपने आप में एक कामुक अहसास देता है।
Image courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

गंध – सुगंध का प्रयोग करें

आपका मूड सुधारने में गंध का बड़ा महत्‍व होता है। कामसूत्र के साहित्य में इत्र और सुगंधित तेलों के महत्व का उल्लेख है। प्राचीन काल से ही कुछ तेलों का उपयोग इच्छाओं और कामुक भावनाओं को जगाने के लिए व्यापक रूप से किया जाता है। जैसे गुलाब का तेल, चमेली का तेल, क्लैरी सेज तेल तथा लौंग का तेल।
Image courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

फेंटेसी का आंनद

यदि आप तनाव मुक्त होकर सेक्स को पूरी तरह से महसूस कर आनंद उठाना चाहते हैं तो आप ऐसा माहौल बनाएं कि आपका पार्टनर आपसे अपनी फेटसी शेयर कर सके। साथ ही आप दोनों उसका बेहतरीन प्रयोग कर सकें। इससे आप अपने जीवन के सबसे महत्वपूर्ण पलों को खुलकर महसूस कर पाएंगे व उनका लुत्फ उठा पाएंगे।
Image courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

कुछ पढ़ें

काम साहित्य पढ़ने पर आप न सिर्फ इसके वास्तविक अर्थ को समझ पाते हैं, बल्कि इसे ठीक से महसूस कर पाते हैं। तो थोड़ा काम साहित्य भी पढ़ें। शब्दों में बड़ी ताकत होती है। वे कहानियों को घुमा सकते हैं और सपने बना सकते हैं। इनकी मदद से आप पहले से कहीं ज्यादा रोमांचित महसूस कर सकते हैं।  
Image courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

स्वाभाविक काम वासना

स्वाभाविक काम वासना को सिर्फ भोगें ही नहीं, इनके भोग के साथ-साथ इन पर ध्यान भी दें। भोग में उतरना, लेकिन होश के साथ  उतरना। यह पहचानने की कोशिश करना कि उसमें कौन से सुख की, कौन से आनंद की उपलब्धि हो रही है।
Image courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

काम की तृप्ति की वास्तविकता

काम की तृप्ति में जो सुख मिलता है, उसका वास्तविक कारण दरअसल काम नहीं है। सेक्स के शिखर पर पहुंच कर एक क्षण के लिए मन जैसे शून्य हो जाता है। इस शून्य में ही आपको अनंत सुख की झलक मिलती है। आप उसमें इतने तल्लीन हो जाते हैं, जितने कभी किसी और में नहीं होते। इस तल्लीनता की वजह से ही कारण मन शांत होता है। ध्यान, समाधि, योग ये सब शांति के उसी एक क्षण की झलक पाने के उपाय हैं।
Image courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK