Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

इन वजहों से टूट जाती है रात में आपकी नींद

दिनभर की थकान के बाद सुकून की नींद सभी की चाहत होती है, लेकिन अगर रात में बार-बार आपकी नींद में खलल पड़ रहा है तो यह किसी समस्‍या की निशानी है, इसके बारे में जानना जरूरी है।

अन्य़ बीमारियां By Aditi Singh Apr 10, 2015

नींद में खलल के कारण

जब नींद पूरी नहीं होती तो जाहिर है, पूरा दिन थकान और आलस के साथ बीतेगा। सोते वक्‍त बार-बार नींद टूटने का अहम कारण 'ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एप्‍नीया' (ओएसए) है। इसे नींद में खलल डालने वाली बीमारी कहा जा सकता है। हर उम्र में शरीर की नींद को लेकर जरूरत बदलती है। वयस्कों को औसतन 8 घंटे की नींद की जरूरत होती है। इससे दिमाग भी सक्रिय रहता है और आप पूरे दिन ऊर्जावान रहते हैं। लेकिन अगर आपकी नींद अचानक से टूट रही है तो इसके पीछे के कारणों के बारे में जानें।
Image Courtesy@Gettyimages

पैरों में ऐंठन

अक्सर रात में पैरों मे ऐंठन की वजह से नींद टूट जाती है। ये ऐंठन जरूरत से ज्यादा व्यायाम करने, गलत खान-पान और स्‍टैटिन (दवा) की वजह से होता है। ट्रेडमिल पर ज्यादा वर्कआउट करने से कैल्शियम और मैग्निशियम का स्तर कम हो जाता है। ये मांसपेशियों के विस्तार और अनुबंध में जरूरी होते है। ऐंठन का एक कारण परिधीय धमनियों के गलत खान-पान की वजह से खराब हो जाना भी होता है। स्टैटिन नामक दवा आपके दिल के लिए भले ही अच्छी हो, पर ये ऐंठन की समस्या को 20 फीसदी बढ़ा देती है। स्ट्रेचिंग करके और रात में नहाकर आप इस समस्‍या से बच सकते हैं।
Image Courtesy@Gettyimages

खांसी की समस्या

खांसी भी एक आम समस्‍या है जो मौसम बदलने के अलावा दूसरे कारणों से भी होती है। नाक में एलर्जी और अन्य कारणों के चलते होने वाली खांसी पूरे शरीर को प्रभावित कर देती है। खांसी की समस्या होने पर आप सुकून से कोई काम नहीं कर सकते हैं। खांसी किसी भी वजह से हो सकती है। बदलता मौसम, ठंडा-गर्म खा या पी लेना या फिर धूल या किसी अन्यी चीज से एलर्जी के कारण। सूखी खांसी होने पर ज्यादा तकलीफ होती है। ये रात में आपको सोने में भी परेशान करती है।

Image Courtesy@Gettyimages

कमर दर्द

रात को बार बार नींद टूटने का एक कारण कमर दर्द भी होता है। नींद न आने का मुख्य कारण शारीररिक दर्द भी हो सकता है। कई लोग घुटनों के दर्द ,कमर के दर्द, सिर दर्द जैसी कई अन्य बीमारियों से परेशान होते है जिससे उन्हें रात को नींद नहीं आती इसीलिए उन्हें अपने आराम के लिए भी वक्त निकालना चाहिए।अच्छी नींद लेने के लिए सिरहाने तकिया सभी लगाते हैं, लेकिन पैरों के नीचे तकिया लगाने से नींद तो अच्छी आएगी ही, साथ ही कमर दर्द से भी राहत मिलेगी। पैरों के नीचे तकिया लगाने से कमर पर कम दबाव पड़ेगा।
Image Courtesy@Gettyimages

सांस लेने में परेशानी

नींद के दौरान श्वास नली में परेशानी होती है। कई बार सांस 10 या उससे ज्यादा सेकंड के लिए रुक जाती है। सोते वक्त अचानक सांस धीमी हो जाना या सांस लेने में प्रयास करने से लगातार नींद में खलल पड़ने से सबसे अधिक महिलायें परेशान रहती हैं और जिन महिलाओं को उच्च रक्त चाप होता है या अधिक मोटी होती हैं उन्हें यह बीमारी जल्दी पकड़ती है। इस कारण से भी रात में अचानक नींद टूट जाती है।
Image Courtesy@Gettyimages

दिमागी तनाव

दिनभर की थकान और काम का तनाव शरीर की क्रियाओं को प्रभावित कर देता है। कई बार दिमाग में चल रही पुरानी बातों के चलते ही रात में नींद टूट जाती है।एक रात न सोने पर एक स्वस्थ इंसान के शरीर में ऊर्जा की खपत में 5 से 20 फीसदी तक कमी आ जाती है। ठीक से नींद न आने पर अगली सुबह ही ब्लड शुगर, भूख नियंत्रित करने वाले हार्मोन घ्रेलीन और तनाव बढ़ाने वाले हार्मोन कोर्टिजोल की मात्रा बढ़ जाती है।  
Image Courtesy@Gettyimages

पसीने का आना

नींद ना आने पर कुछ लोग शराब का सहारा लेने लगते हैं। लेकिन डॉक्टर इस आदत को गलत बताते हैं। अगर एक ग्लास बीयर या वाइन ली जाए तो ठीक है, लेकिन सोने से ठीक पहले इस से ज्यादा शराब लेने से शरीर उसे पचाने के काम में लग जाता है। रेगेंसबुर्ग युनिवर्सिटी में जैविक मनोविज्ञान के प्रोफेसर अर्गेन सुलाई कहते हैं, अल्‍कोहल गहरी नींद और सपने के चक्र को छेड़ता है और नतीजा पसीना आना, दिल की धड़कन बढ़ना और बार बार नींद का खुलना हो सकता है।
Image Courtesy@Gettyimages

वॉशरूम जाना

बहुत से लोग रात को कई बार उठकर बाथरूम जाते हैं। ये बहुत सामान्य सी बात है, और इसमें किसी प्रकार की कोई समस्या नहीं है। लेकिन जब ऐसा रात में दो से तीन बार होता है तो ये एक प्रकार की बीमारी होती है, जिसे नोक्टूरिया कहा जाता है। नोक्टूरिया आपकी नींद बाधित कर सकता है। साथ ही इस समस्या की वजह से आपके दिन के वक्त की परफॉर्मेंस और मूड दोनों पर ही प्रभाव पड़ सकता है।
Image Courtesy@Gettyimages

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK