Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

घरेलू उपायों से करें कॉर्न्‍स का इलाज

कॉर्न्‍स को दूर करने के लिए घरेलू उपचार प्रभावी होते हैं। हालांकि कॉर्न्स के इलाज के लिए घरेलू उपचार में समय लगता है, लेकिन यह सर्जरी की तरह प्रभावी और कम खर्च में किये जा सकते हैं।

घरेलू नुस्‍ख By Pooja SinhaNov 11, 2014

कॉर्न्‍स के लिए घरेलू उपचार

कठोर त्‍वचा समय के साथ कॉर्न का रूप ले लेती है। कॉर्न्‍स मोटी त्‍वचा के धब्‍बे की तरह उभरता है और दबाव के माध्‍यम से बढ़ता है। कॉर्न्‍स अक्‍सर तेज दर्द का कारण बन सकता है। कॉर्न्स का जल्द से जल्द इलाज नहीं किये जाने पर इससे छुटकारा पाना थोड़ा कठिन हो सकता है। चिकित्‍सकीय रूप में कॉर्न्‍स केवल एक छोटी सी शल्‍य चिकित्‍सा द्वारा हटाया जा सकता है। साथ ही कॉर्न्स के इलाज के लिए ओवर-द-काउंटर क्रीम और औषधीय बैंड उपलब्ध हैं, लेकिन इनकी प्रकृति अधिकतर बनावटी होती हैं। इसलिए कॉर्न्‍स को दूर करने के लिए आप इन सिद्ध और प्रभावी घरेलू उपचार को अपना सकते हैं। हालांकि कॉर्न्स के इलाज के लिए घरेलू उपचार में समय लगता है, लेकिन यह सर्जरी की तरह प्रभावी और कम खर्च में किये जा सकते हैं।
image courtesty : thefootfairynurse.com

मुलेठी

अद्भुत चिकित्‍सा और औषधीय गुणों के कारण आयुर्वेंद में कॉर्न्‍स के इलाज के लिए मुलेठी की सिफारिश की जाती है। कॉर्न्‍स के उपचार के लिए एक चम्‍मच मुलेठी में पर्याप्‍त मात्रा में सरसों का तेल मिलाकर गाढ़ा पेस्‍ट बना लें। इस पेस्‍ट को सोने से पहले प्रभावित क्षेत्र पर लगा लें। इसपर पट्टी बांधकर रात भर के लिए छोड़ दें। अगली सुबह पट्टी को हटाकर गुनगुने पानी से उस क्षेत्र को धो लें। ऐसा तब तक करें जबतक कॉर्न्‍स नर्म और आकार में कम न हो जाये।
image courtesty : getty images

प्‍यूमिक स्‍टोन

सबसे पहले हार्ड त्‍वचा को नर्म करने के लिए अपने पैरों को गीला करें। फिर हल्‍के दबाव का उपयोग कर, गीले प्‍यूमिक स्‍टोन को कॉर्न के आगे पीछे रगड़ें। मृत त्‍वचा को धोने के लिए हर कुछ मिनट के लिए रुकें, और कॉर्न्‍स को थोड़ा नर्म होने तक दोहराये। 
image courtesty : getty images

सफेद सिरका

सिरका सॉस सहित कई व्यंजन की तैयारी में प्रयोग किया जाती है। साथ ही यह पैर पर कॉर्न्‍स को दूर करने का एक शानदार और परखा हुआ उपाय है। सफेद सिरका आसानी से खरीदा जा सकता है। एक साफ औषधीय कॉटन बॉल लेकर उसे सफेद सिरका में डुबोकर इसे कॉर्न पर लगाये। कॉर्न्‍स पर कॉटन को सुरक्षित रखने के लिए डक्ट टेप का उपयोग करें। तीन से चार घंटे तक इसे ऐसे ही छोड़ दें। निर्धारित समय के बाद डक्ट टेप और कॉटन निकाल लें।
image courtesty : getty images

टी ट्री ऑयल

टी ट्री आवश्‍यक तेल में मौजूद एंटीफंगल और एंटी-बैक्‍टीरियल गुण इसे कॉर्न्‍स के इलाज के लिए बेहतर बनाते है। एक साफ कॉटन बॉल लेकर, उसपर आवश्‍यक तेल की पांच बूंदों डालकर कॉर्न्‍स पर रगडें। फिर कॉर्न्‍स पर कॉटन को लगा रहने दें। रात भर लगा रहने के बाद सुबह इसे पानी से धो लें।
image courtesty : getty images

पपीता

पैर से कॉर्न्‍स को दूर करने के लिए एक और बहुत ही आसान और कारगर उपाय है। पपीते में मौजूद कई एंजाइम कठिन और मृत त्वचा को दूर करने में मदद करते हैं। इसके अलावा, पपीता किसी भी दर्द या बेचैनी को कम करने और यहां तक कि कॉर्न्‍स को सूखने और तेजी से गिरने में मदद करता है। सर्वोत्तम परिणामों के लिए, कच्चे पपीता का उपयोग करें। कच्‍चे पपीते के रस में कॉटन को डूबोकर उसे कॉर्न्‍स पर लगाये और इसपर पट्टी के साथ सुरक्षित करें। इसे रात भर के लिए छोड़ दें। अगली सुबह धीरे से त्‍वचा को प्‍यूमिक स्‍टोन से एक्‍सोफोलिएट करें।
image courtesty : getty images

लहसुन

लहसुन प्रकृति से एंटीऑक्सीडेंट होने के कारण यह एंटी-बैक्टीरियल और फंगल संक्रमण से लड़ने में उपयोगी होती है। लहसुन के साथ कॉर्न्‍स के इलाज के लिए लहसुन की तीन कली को अच्‍छे से भूनकर कुचलकर पाउडर बना लें। फिर लहसुन के साथ लौंग पाउडर को मिलाकर इसे कॉर्न्‍स पर लगाये। इसे पट्टी से कवर करके पूरी रात के लिए छोड़ दें। अगली सुबह पट्टी को खोलकर गुनगुने पानी से पैरों को धो लें। इस उपाय कॉर्न्‍स के गायब होने तक करें।
image courtesty : getty images

तारपीन का तेल

तारपीन का तेल एक मजबूत एंटीसेप्टिक है, जो कॉर्न्‍स के इलाज में मदद करता है। तेल त्‍वचा में जल्‍दी प्रवेश कर जाता है जिससे उपचार तेजी से किया जा सकता है। एक पतले कपड़े में बर्फ लपेटकर प्रभावित क्षेत्र में दो मिनट के लिए मसाज करें। कॉर्न्‍स वाले हिस्‍से को अच्‍छे सुखाकर उसपर थोड़ा सा तारपीन का तेल लगाये। फिर इस पर पट्टी बॉधकर रात भर के लिए छोड़ दें। रात को सोने से पहले इस उपाय को नियमित रूप से करें।  
image courtesty : getty images

नींबू का रस

यह इलाज धीमी गति से काम करता है, लेकिन कॉर्न्‍स के लिए किसी भी अन्‍य घरेलू उपचार की तरह प्रभावी है। ताजा नींबू का एक चम्‍मच रस लेकर उसमें लौंग के दो टुकड़े मिलाये। 15 मिनट के लिए नींबू के रस में लौंग को छोड़ दें। फिर लौंग को हटाकर, नींबू के रस को कॉर्न्‍स पर अच्‍छी तरह से रगड़ें। कुछ देर सुखने के बाद पानी से इसे साफ कर लें।
image courtesty : getty images

हल्‍दी

कॉर्न्‍स को दूर करने के लिए हल्‍दी भी बहुत अच्‍छा उपाय है। एंटी-इफ्लेमेंटरी प्रकृति के कारण, हल्‍दी परेशानी और दर्द को कम करने और उपचार को गति प्रदान करती है। एक चम्‍मच शहद में थोड़ी सी हल्‍दी मिलाकर गाढ़ा पेस्‍ट बना लें। इस पेस्‍ट को कॉर्न्‍स पर लगाकर इसे सुखने के लिए छोड़ दें। कॉर्न्‍स के निकलने तक इस उपाय को कम से कम एक सप्‍ताह में दिन में दो या तीन बार दोहराये।
image courtesty : getty images

कैमोमाइल चाय

कैमोमाइल चाय में अपने पैरों को भिगोना सुखदायक होता है और यह अस्‍थायी रूप से त्‍वचा के पीएच को बदल कर पसीने से तर पैर को सूखने में मदद करता है। गुनगुने पानी में सेंधा नमक और कैमोमाइल चाय को मिलाकर उसमें पैर भिगोना, कॉर्न्‍स को नर्म करने की चिकित्‍सा के लिए फायदेमंद होता है। हालांकि चाय से पैर में दाग हो सकते हैं, लेकिन इसे आसानी से साबुन और पानी से हटाया जा सकता है।
image courtesty : getty images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK