• shareIcon

मेटाबॉलिज़्म बढ़ाने के लिए शीर्ष 10 आहार

कुछ ऐसे खाद्य पदार्थ हैं जिनके संतुलित और नियमित सेवन से आप अपने चयापचय को बढ़ाने के साथ-साथ फैट को भी कम कर सकते हैं।

स्वस्थ आहार By Rahul Sharma / Feb 15, 2014

क्या है मेटाबॉलिज़्म (चयापचय)

चयापचय जीवों में जीवनयापन के लिये होने वाली जरूरी रसायनिक प्रतिक्रियाओं को कहा जाता है। ये प्रक्रियाएं जीवों को बढ़ने, प्रजनन करने, अपनी रचना को बनाए रखने और उनके पर्यावरण के प्रति सजग रहने में सहायता करती है। सामान्य तौर पर चयापचय को दो प्रकारों में बांटा गया है। अपचय कार्बनिक पदार्थों का विघटन करता है। किसी जीव का चयापचय निश्चित करता है कि उसके लिये कौन सा पदार्थ पौष्टिक होगा और कौन सा नहीं।

खाद्य पदार्थ और मेटाबॉलिज़्म

वास्तव में कुछ ऐसे खाद्य पदार्थ हैं जिनके संतुलित और नियमित सेवन से आप अपने चयापचय को बढ़ाने के साथ-साथ फैट को कम और हार्मोनों को संतुलित कर सकते हैं। इन खाद्य पदार्थों के सेवन अपने शरीर के विषाक्त पदार्थों भी बाहार निकल जाते हैं। लेकिन इस पदार्थों से पूरा लाभ प्राप्त करने के लिए इन्हें एक स्वच्छ आहार के भाग के रूप में लिया जाना चाहिए। आगे जानें कौंन से ये खाद्य पदार्थ।

ओट्स

ओट्स अपने चयापचय बढ़ाने के लिए कमाल का काम करते हैं, क्योंकि शरीर रोल्ड ओट्स में मौजूद वसा में घुलनशील फाइबर को तोड़ने में लंबा समय लगता है। यह भोजन शरीर के इंसुलिन के स्तर को कम करता है, जिसके परिणाम स्वरूप चयापचय गति तेज होती है। ओट्स प्रोटीन और वसा के युक्त सबसे अच्छा सुबह में खाया जा सकने वाला व चयापचय बढ़ाने वाला आहार है।

पालक

पालक एंटीऑक्सीडेंट युक्त होता है, जो क्षतिग्रस्त मांसपेशियों की मरम्मत में मदद करता है। साथ ही पालक में आयरन, विटामिन सी, पोटेशियम और मैग्नीशियम भी उच्च मात्रा में होता है। यह हरी पत्तेदार सब्जी किसी भी अन्य भोजन से अधिक पोषक तत्व प्रदान करती है। रेड मीट की तुलना में, पालक आयरन प्रप्त करने का बेहतर श्रोत है। पालक कम कैलोरी के साथ आयरन प्रदान करता है और पूरी तरह से वसा रहित होता है।

बादाम

बादाम में स्वस्थ वसा, फाइबर, और अपूर्ण प्रोटीन (incomplete protein) की अच्छी खासी मात्रा होती है। जब अपूर्ण प्रोटीन को पूर्ण वसा (complete protein) जैसे दही के साथ लिया जाता है तो आपके शरीर के सभी नौ आवश्यक अमीनो एसिड मिल जाते हैं। क्योंकि बादाम में आवश्यक फैटी एसिड होते हैं, यह चयापचय को बढ़ाता है।

सेब

सेब का ग्लाइकमिक सूचकांक (glycemic index) कम होता है जो एक आहार को पूर्ण और पौष्टिक बनाए रखने के लिए रोज खाया जाना चाहिए। सेब में फाइबर उच्च मात्रा में होता है, जो आपके पेट को भी भरा लखता है। वास्तम में “An apple a day keeps the doctor away.” यह कहावत सच है।

टर्की

टर्की का प्रोटीन युक्त मांस दुबली मांसपेशियों के ऊतकों का निर्माण करने में मदद करता है। जिससे आपके शरीर की अतिरिक्त कैलोरी बर्न होती है और आपका चयापचय बढ़ाता है। टर्की में चिकिन की तुलना में कम सेचुरेटिड फैट और अधिक प्रोटीन होता है।

दही

दही में कई सारे प्रोबायोटिक होते हैं, जो कि स्वस्थ पाचन तंत्र के लिए आवश्यक होते हैं। दही भी स्वस्थ वसा और प्रोटीन भी काफी होता है। नियमत रूप से दही खाने पर चयापचय बेहतर होता है।

बीन्स

बीन्स फाइबर में उच्च होने के अलावा कई अन्य गुषों के कारण भी कमाल का भोजन होते हैं। ये लो ग्लाइसमिक खाद्य पदार्थ होते हैं। इसका मतलब है कि इनके सेवन से रक्त शर्करा में वृद्धि नहीं होती है। साथ ही इनमें अच्च फाइबर होने के कारण इनका सेवन दिल के लिए भी अच्छा होता है।
इनमें पोटेशियम होता है जो स्ट्रोक और उच्च रक्तचाप के खतरे को कम करता है। बीन्स भी ग्रीन टी की तरह ही बल्ड कोलेस्ट्रॉल को कम करती है और एंटीऑक्सीडेंट युक्त होती है।

ग्रेपफ्रूट

ग्रेपफ्रूट वास्तव में कामाल के होते हैं। यह खट्टे फल आपके शरीर में वासा को बढ़ाने वाली इंसुलिन के स्तर को कम करते हैं। इनमें फाइबर भी प्रचुर मात्रा में होता है। ग्रेपफ्रूट का गुलाबी और लाल रंग लाइकोपीन की वजह से होता है। लाइकोपीन ट्यूमर सेल्स को नष्ट करने के लिए जाना जाता है, और कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाने वाले ऑक्सीजन मुक्त कणों से लड़ने में भी उच्चतम क्षमता रखता है।

मछली

केवल मछली के तेल में ही ओमेगा -3 फैटी एसिड पाया जाता है, जो नाटकीय रूप से प्रति दिन लगभग 400 कैलोरी के द्वारा अपके चयापचय को बढ़ाता है। मछली का तेल शरीर में वसा को जलाने वाले एंजाइमों का स्तर बढ़ाता है और वसा बबढ़ने वाले एंजाइमों का स्तर कम करता है।

पानी

पानी पीने से वास्तव में वजन घटाने में मदद मिलती है। 17 औंस पानी पीने के बाद चयापचय दर में 30% तक की वृद्धि होती है। पानी प्राकृतिक रूप से सोडियम और अन्य विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने का काम करता है।

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK