Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

सनस्क्रीन लोशन चयन करने का सही तरीका

सनस्‍क्रीन लोशन सभी के लिए एक जैसा नहीं होता है, अगर आपका सनस्‍क्रीन त्‍वचा के अनुरूप नहीं है तो सूर्य की हानिकारक किरणें आपकी त्‍वचा को नुकसान पहुंचायेंगी, इसलिए सनस्‍क्रीन खरीदते वक्‍त कुछ बातों का ध्‍यान रखना जरूरी है।

फैशन और सौंदर्य By Rahul SharmaApr 10, 2015

सनस्क्रीन लोशन का चयन

गर्मियों में त्वचा को सनबर्न से बचाने के लिए सनस्क्रीन लोशन लगाना जरूरी होता है। लेकिन किसी भी तरीके का सनस्‍क्रीन लगाने से कोई फायदा नहीं होता है। जब त‍क आप ऐसे सनस्‍क्रीन का चयन नहीं करेंगे जो आपकी त्‍वचा के अनुरूप हो तबतक आपको उसका फायदा नहीं मिलेगा। तो चलिये जानें कि अपनी  त्वचा के हिसाब से सही सनस्क्रीन लोशन का चुनाव कैसे करें और इसे कैसे लगाएं।
Images source : © Getty Images

एसपीएफ (सन प्रोटेक्शन फैक्टर)

खुद के लिये सनस्क्रीन लोशन का चुनाव करते समय सबसे जरूरी है कि उसमें मौजूद सन प्रोटेक्शन फैक्टर अर्थात एसपीएफ की मात्रा की सही जानकारी लेना। अमेरिकन एकेडमी ऑफ डर्मोटोलॉजी के एक्सपर्ट मानते हैं कि कम से कम एसपीएफ 15 की मात्रा वाले सनस्क्रीन तो लेना ही चाहिए। गरतलब है, बढ़ती गर्मी और प्रदूषण के मद्देनज़र हमारे लिए एसपीएफ 15 से लेकर एसपीएफ 30 वाले सनस्क्रीन लोशन प्रभावी होते हैं।
Images source : © Getty Images

यूवीए और यूवीबी

कोई भी अच्छा सनस्क्रीन लोशन सूरज की अल्ट्रा वॉयलेट किरणों (यूवीए और यूवीबी) दोनों से ही त्वचा की रक्षा करता है। तो जब भी सनस्क्रीन खरीदें तो हमेशा जांच लें कि उसके लेबल पर यूवीए और यूवीबी प्रोटेक्शन (बोर्ड स्पेक्ट्रम) प्रिंट हो। यूवीए और यूवीबी प्रोटेक्शन न केवल सनबर्न से बल्कि त्वचा के कैंसर से भी बचाने में मदद करता है।
Images source : © Getty Images

वाटरप्रूफ और वाटर रेजिस्टेंट सनस्क्रीन

बाजार में अब वाटरप्रूफ और वाटर रेजिस्टेंट सनस्क्रीन लोशन भी मौजूद हैं जो पानी से चेहरा धोने के बाद भी या वाटर स्पोर्ट्स में भी कारगर होते हैं। आप भी जरूरत के हिसाब से कोई भी अच्छा वाटरप्रूफ सनस्क्रीन ले सकते हैं ये पानी के भीतर लगभग 80 मिनट तक प्रभावी होते हैं। वहीं वाटर रेजिस्टेंस सनस्क्रीन पानी में लगभग 40 मिनट के लिये काम टिके रहते हैं।  
Images source : © Getty Images

त्वचा के हिसाब से सनस्क्रीन

कुछ लोग शिकायत करते हैं कि सनस्क्रीन लगाने के बाद उनकी त्वचा बहुत तैलीय हो जाती है इसलिए वे सनस्क्रीन नहीं लगाते। तो यदि आपकी त्वचा तैलीय हो तो स्प्रे या फिर जेल वाला सनस्क्रीन चुनें। यह आपके रोमछिद्रों को बंद नहीं करता है और इससे त्वचा तैलीय भी नहीं होती है। जबकि शुष्क त्वचा के लिए मॉइस्चराइजर बेस्ड सनस्क्रीन लोशन का इस्तेमाल करना चाहिए। अगर सनस्क्रीन लगाने के बाद आपकी त्वचा की चमक चली जाती है तो समझ जाइये कि ये सनस्क्रीन आपकी त्वचा को सूट नहीं कर रहा है। इसलिए मैट फिनिश वाली सनस्क्रीन चुनें।
Images source : © Getty Images

कब लगाएं सनस्क्रीन

जितनी जरूरी सही सनस्क्रीन की पहचान करना होता है, ठीक उतना ही जरूरी होता है कि आप सनस्क्रीन लोशन कब लगाते हैं। धूप में बाहर निकलने के कम से कम 20 मिनट पहले सनस्क्रीन लगाने से ही इसका फायदा मिलता है।
Images source : © Getty Images

सनस्क्रीन बनाम सनब्लॉक

जब सनस्क्रीन और सनब्लॉक दोनों सूरज की किरणों से सुरक्षा देते हैं तो इनमें भला फर्क क्या है! दरअसल, अल्ट्रावायलेट किरणों के दो प्रकार होते हैं, पहली यूवीए और दूसरी यूवीबी। और यूवीए किरणें ज्यादा खतरनाक होती हैं क्योंकि ये त्वचा पर लंबे समय तक रहने वाले प्रभाव छोड़ती हैं। वहीं यूवीबी किरणें सनबर्न और फोटो एजिंग का कारण बनती हैं। एक्सर्पट्स बताते हैं कि, सनस्क्रीन यूवीबी किरणों को मामूली रूप से फिल्टर करता है जबकि सनब्लॉक में जिंक ऑक्साइड होता है जो दोनों प्रकार की किरणों से त्वचा की रक्षा करता है।
Images source : © Getty Images

मॉइश्चराइज करना भी है जरूरी

त्वचा की प्राकृतिक नमी बनाए रखने के लिए उसे मॉइश्चराइज करना बेहद जरूरी होता है। आजकल बाजार में ऐसे बहुत से मॉइश्चराइजर हैं जिनमें एसपीएफ भी होता है। तो ऐसे में आप अपने लिए मॉइश्चराइजर वाले सनस्क्रीन का चुनाव कर सकते हैं। आप चाहें तो पहले त्वचा पर मॉइश्चराइजर लगाएं, फिर सनस्क्रीन या फिर सनस्क्रीन में थोड़ा मॉइश्चराइजर मिलाकर लगा लें। अगर आपकी त्वचा तैलीय है या बहुत ज्यादा पसीना आता है तो सनस्क्रीन में थोड़ा लैक्टोकैलामाइन लोशन भी मिलाकर लगा सकते हैं।
Images source : © Getty Images

घर पर भी बना सकते हैं सनस्क्रीन लोशन

सन टैनिंग हटाने के लिए नारियल का तेल बेहद कारगर होता है। तो बाहर जाने से 25 से 30 मिनट पहले अपने शरीर पर नारियल का तेल लगा लें। और प्रभावी बनाने के लिये नारियल तेल में कोको बटर मिलाएं। आप इसमें थोड़ा सा पानी भी मिला सकते हैं जिससे वह थोड़ा सा पतला हो जाए।
Images source : © Getty Images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK