Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

किडनी और दिल को स्‍वस्‍थ रखने में मददगार टिप्‍स

क्रोनिक किडनी डिजीज से पीडि़त ज्यादातर लोगों को दिल की बीमारियों का खतरा रहता है। किडनी की बीमारी से पीडि़त ज्यादातर लोगों की मौत भी दिल की बीमारियों से ही होती है। इसलिए दोनों को स्‍वस्‍थ रखना बहुत जरूरी होता है।

एक्सरसाइज और फिटनेस By Pooja SinhaMar 03, 2015

किडनी और दिल को स्‍वस्‍थ रखने के उपाय

क्‍या आपको दिल और किडनी के संबंध के बारे में पता है। जिन लोगों की किडनी फेल हो जाती है उनमें दिल की बीमारी होने की आशंका लगभग तीन गुना ज्‍यादा होताहै। एक नए अध्‍ययन के अनुसार, किडनी से पीड़ि‍त लोग, डायबिटीज से पीड़ि‍त लोगों की तरह दिल की बीमारी के जोखिम पर होते हैं। क्रोनिक किडनी डिजीज से पीडि़त ज्यादातर लोगों को दिल की बीमारियों का खतरा रहता है। किडनी की बीमारी से पीडि़त ज्यादातर लोगों की मौत भी दिल की बीमारियों से ही होती है। इसलिए दोनों को स्‍वस्‍थ रखना बहुत जरूरी होता है। इस स्‍लाइड शो में ऐसे की कुछ उपायों के बारे में बताया गया है। इन उपायों को अपनाकर आप किडनी और दिल को स्‍वस्‍थ रख सकते हैं।
Image Courtesy : Getty Images

धूम्रपान से बचें

दिल और किडनी दोनों के स्‍वास्‍थ्‍य के लिए धूम्रपान छोड़ने से बेहतर कोई उपाय हो ही नहीं सकता। धूम्रपान दिल और किडनी दोनों को रोगग्रस्‍त करने का कारण बन सकता है, जो उच्च रक्तचाप के लिए एक जोखिम कारक है। इसके कराण ऐथेरोस्कलेरोसिस रोग भी होता है। जिससे रक्त नलिकाओं में रक्त का बहाव धीमा पड़ जाता है और किडनी में रक्त कम जाने से उसकी कार्यक्षमता घट जाती है। इसलिए धूम्रपान और तंबाकू का सेवन ना करें।
Image Courtesy : Getty Images

ब्‍लड प्रेशर को कंट्रोल करें

हाई ब्‍लड प्रेशर से दिल पर तनाव बढ़ने से, दिल का आकार सामान्‍य से बड़ा और मोटा हो जाता है। इसके कारण हार्ट फेल्यिर की समस्‍या हो सकती है। साथ ही हाई बीपी के कारण रक्‍त नालिकाओं में नुकसान पहुंचाने से किडनी विफलता की समस्‍या होने लगती है। हार्ट फेल्यिर की अवस्‍था में किडनी ट्रासप्‍लॉट और डायलिसिस मुश्किल हो जाता है। इसलिए दिल और किडनी को स्‍वस्‍थ रखने के लिए ब्‍लड प्रेशर को कंट्रोल में रखें।
Image Courtesy : Getty Images

सही आहार लें

कहते है न कि सही खानपान से बीपी की समस्या पर काबू पाया जा सकता है। और बीपी की समस्‍या पर काबू पाकर आप दिल और किडनी दोनों को स्‍वस्‍थ रख सकते है। इसके लिए डाक्‍टर डैश डाइट की सलाह देते हैं। डैश डाइट नमक के कम सेवन और सब्जियों और लो फैट डेयरी प्रोडक्‍ट के सेवन को बढ़ावा देती है। इसमें शरीर के लिए जरूरी कैलोरी के लिए साबुत अंकुरित अनाज, सब्जियां, ताजा फल, छिलके वाली दालें, बींस, मूंगफली, लो फैट डेयरी उत्पाद शामिल होते हैं।
Image Courtesy : Getty Images

वजन नियंत्रित रखें

दिल और किडनी को स्‍वस्‍थ रखने के लिए वजन को नियंत्रित करना भी बहुत जरूरी होता है। बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) से अपने वजन का आकलन करें। बॉडी मास इंडेक्स कमर के घेरे और नितंब का अनुपात आदि फॉर्मूलों के आधार पर आप मोटे या ओवरवेट हैं या नहीं, तय किया जाता है। किसी भी वयस्क के लिए बीएमआई अगर 18.5 से 25 के बीच हो तो ठीक समझी जाती है। हल्का सा वजन कम करना भी काफी फायदेमंद हो सकता है।
Image Courtesy : Getty Images

योग

योग और ध्यान से भी दिल के रोगों को दूर भगाया जा सकता है। रोजाना 15 मिनट तक ध्यान और हल्का योग करें। ध्यान और योग से तनाव से मुक्ति मिलेगी और यह ब्लड प्रेशर को कम करेगा। इसकी वजह से आप दिन भर तरोताजा रहेंगे और यह दिल और किडनी रोगों को नियंत्रित करने में कारगर तरीका साबित होता है। साथ ही योग आपकी किडनी को स्वस्थ और निरोग बनाता है। किडनी से जुड़े रोगों को दूर करने के लिए हर रोज योग की आदत डालें।
Image Courtesy : Getty Images

नियमित जांच करायें

किडनी और दिल को स्‍वस्‍थ रखने के लिए इनमें से किसी भी एक समस्‍या से ग्रस्‍त होने पर आपको दूसरे की जांच अवश्‍य करवानी चाहिए। रोगों के निदान के लिए सबसे पहले रक्त यूरिया नाइट्रोजन तथा किरेटिनाइन का रक्त परीक्षण करवाना चाहिए। साथ ही यूरीन जांच भी करा लेना चाहिए क्योंकि इससे यह पता चलता है कि किडनी  की कार्यशीलता और कर्यक्षमता कैसी है। साथ ही दिल की हिफाजत करने के लिए नियमित स्वास्थ्य जांच में लिपिड प्रोफइल या ब्‍लड में फैट की मात्रा (एचडीएल और एलडीएल) को शामिल करना चाहिए।
Image Courtesy : Getty Images

शुगर पर रखें नजर

अगर आप डायबिटीज से पीड़ित हैं तो शुगर को नियंत्रण में रखें, क्‍योंकि इससे आपके किडनी और दिल पर असर पड़ने लगता है। आपका फास्टिंग ब्लड शुगर 100 एमजी/ डीएल से नीचे होना चाहिए और खाने के दो घंटे बाद उसे 140 एमजी/ डीएल से नीचे होना चाहिए। एक्‍सरसाइज, वजन में कमी, भोजन में अधिक फाइबर तथा मीठे भोज्य पदार्थों से बचते हुए डायबिटीज को खतरनाक न बनने दें। अगर जरूरत पड़े तो हल्की दवाओं का सेवन भी करना चाहिए।(
Image Courtesy : Getty Images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK