• shareIcon

सोशल मीडिया खराब कर सकता है आपका जीवन

सोशल मीडिया का प्रयोग भले ही आपको दोस्‍तों के संपर्क में रहने के लिए अच्‍छा लगता हो। लेकिन इनका ज्‍यादा इस्‍तेमाल आपके स्‍वास्‍थ्‍य और रिश्‍तों पर विपरीत असर डालता है।

मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य By Pooja Sinha / May 24, 2014

सोशल मीडिया से जीवन पर असर

फेसबुक, ट्विटर जैसी सोशल मीडिया वेबसाइट्स आज लोगों की जिंदगी का हिस्‍सा बन गई हैं। यदि इन सभी से आदमी थोड़ी देर के लिए भी दूर होता है तो वह बेचैन हो जाता है। सोशल मीडिया का प्रयोग भले ही आपको दोस्‍तों के संपर्क में रहने के लिए अच्‍छा लगता हो। लेकिन इनका ज्‍यादा इस्‍तेमाल आपके स्‍वास्‍थ्‍य और रिश्‍तों पर विपरीत असर डालता है। image courtesy : getty images

सिगरेट और शराब की आदत

सोशल मीडिया पर अपने दोस्‍तों अपने दोस्‍तों द्वारा पर शेयर की गई तस्‍वीरों का असर युवाओं पर पड़ता है। एक नए अध्‍ययन के अनुसार, फेसबुक और ट्विटर आदि सोशल मीडिया शेयर की गई तस्‍वीरों में दोस्‍तों को सिगरेट और शराब पीते हुए देखकर युवा इससे दूर नहीं रह पाते।दक्षिणी कैलिफोर्निया विश्‍वविद्यालय के थॉमस डब्ल्यू वेलेन्टे ने बताया कि मित्रों की ऑनलाइन तस्वीरें युवाओं को शराब और सिगरेट के प्रति प्रोत्साहित कर सकती हैं। image courtesy : getty images

याद्दाश्‍त पर असर

फेसबुक और ट्विटर जैसी सोशल मीडिया का प्रयोग भले ही आपको दोस्‍तों के संपर्क में रहने के लिए अच्‍छा लगता हो। लेकिन इनका ज्‍यादा इस्‍तेमाल आपकी याद्दाश्‍त पर विपरीत असर डालता है। स्‍टॉकहोम के केटीएच रॉयल इंस्‍टीट्यूट ऑफ टेक्‍नोलॉजी के शोधकर्ताओं के अनुसार, दिमाग खाली समय में जानकारियों को सुरक्षित करने का काम करता है। सोशल मीडिया के इस युग में हर समय ऑनलाइन रहने साथ ही अन्‍य कामों में लगे रहने के कारण दिमाग हर समय व्‍यस्‍त रहता है और उसे आराम नहीं मिल पाता। जिससे दिमाग को जानकारियों को सुरक्षित रखने की प्रक्रिया पूरा करने के लिए समय नहीं मिल पाता। जिसका सीधा असर उनकी याद्दाश्‍त पर पड़ता है। image courtesy : getty images

सामाजिक संबंधों पर असर

सोशल मीडिया का मकसद लोगों को एक-दूसरे से जोड़ने के साथ ही संचार माध्यम को मजबूती देना है। और इस मकसद में सोशल मीडिया को सफलता भी मिली। लेकिन साथ ही इसने सामाजिक संबंधों को भी प्रभावित किया है। कहते है न कि हर सिक्के के दो पहलू होते हैं दूसरे पहलू में सोशल मीडिया ने लोगों के संबंधों में दखल देना शुरु कर दिया। image courtesy : getty images

रिश्ते में असंतोष का कारण

सोशल मीडिया अधिकांश लोगों के जीवन का हिस्सा बन चुकी हैं। शुरूआत में इसने आपसी संबंधों को मजबूती दी, लेकिन अब यह रिश्‍तों में समस्‍या पैदा करने का भी कारण बन गई हैं। जब आपका साथी सोशल मीडिया पर समय बिताता है तो आपकी भावनाओं को ठेस पहुंचती है। ऐसे में आप खुद को उपेक्षित महसूस करने लगते है। इस तरह से सोशल मीडिया किसी रिश्ते में असंतोष का कारण बन सकती है। image courtesy : getty images

लोग की राय में बदलाव

पहले सोशल मीडिया का इस्तेमाल पुराने स्कूल के दोस्तों को खोजने और परदेश में रह रहे रिश्तेदारों से संपर्क बनाने के लिये किया जाता था। हाल के वर्षों में सोशल मीडिया ने हमारे जीवन और संबंधों के सभी पहलुओं को घेर लिया है। यह लोगों को उनके दोस्तों व रिश्‍तेदारों की पसंद-नापसंद को सामाजिक दायरे से जोड़ता है। इस पूरे कार्यक्रम में कोई प्रत्यक्ष वार्तालाप या मुलाकात शामिल नहीं होती है। साथ ही किसी के बारे में लोग राय उसकी द्वारा की पोस्ट और टिप्‍पणियों के आधार पर करते हैं। image courtesy : getty images

गलत जानकारी

कम उम्र के लड़के और लड़कियों की आदत होती है कि उत्साह में सोशल मीडिया की साइट्स पर प्रोफाइल पर अपना फोन नंबर, घर का पता या फिर कोई भी प्राइवेट इनफार्मेशन अपनी सभी जानकारी साझा कर देते हैं। ऐसा करने से कई बार समस्या आ जाती है। क्‍योंकि कुछ लोग खुद को जैसा प्रदर्शित करते हैं वे वास्तविक जीवन में वैसे नहीं होते। बाद में हकीकत जानने पर रिश्ते में दरार आने लगती हैं। image courtesy : getty images

पीठ और गर्दन में दर्द

सोशल मीडिया की यह लत आपको बीमार भी बना सकती है। दिन भर सोशल मीडिया पर एक्टिव रहने वाले लोगों के पीठ और गर्दन में दर्द होना स्‍वाभाविक है। लगातार कई घंटों तक कंप्यूटर पर बैठकर चैट करेंगे तो आपके शरीर पर इसका असर तो होगा ही। image courtesy : getty images

ब्रेकअप व तलाक की नौबत

अमेरिकी रिसर्च के अनुसार सोशल मीडिया पर पार्टनर का दोस्‍त होना भी रिश्ते के लिए खतरनाक साबित हो सकता है। यूनिवर्सिटी ऑफ मिसौरी स्कूल ऑफ जर्नलिजम में पीएचडी के छात्र रसल क्लेटन के अनुसार, ट्विटर पर ज्यादा सक्रिय रहने वाले लोग को अपने रोमांटिक पार्टनर के साथ ट्विटर संबंधित झगड़ों का अनुभव करने की अधिक संभावना होती है। इस झगड़े का संबंधों पर नकारात्मक असर पड़ता है, जिसके फलस्वरूप ब्रेकअप व तलाक की नौबत आ जाती है। image courtesy : getty images

विविध किस्‍म के लोग

सोशल म‍िडिया के सभी सदस्य गुणी नहीं होते। अनेक अवगुणी सदस्य और शरारती भी होते हैं। सोशल नेटवर्क के सभी दोस्त मूल्यवान नहीं होते। इसमें विविध किस्म के लोग होते हैं। इससे परंपरागत संप्रेषण और सामाजिक बंधनों की सीमाएं टूट रही हैं। image courtesy : getty images

दिन-दुनिया से बेखबर

सोशल मिडिया यूजर और भी अधिक आलसी बनता हैं, हममें से ज्यादातर लोग इसको इस्‍तेमाल करने के चक्‍कर में इससे दिन-दुनिया से बेखबर इसी में लगे रहते हैं। जिससे स्थानीय समाज और संस्कृति से बेगानापन बढ़ रहा हैं। image courtesy : getty images

नींद में कमी

सोशल मीडिया से जुडे लोगों की नींद पर गहरा असर पड़ता है। नींद आने पर भी आप सोने की बजाय सोशल मीडिया पर एक्टिव रहते हैं। इससे आप अनिद्रा, थकान और चिड़चिड़ेपन का जल्दी शिकार हो जाते हैं। साथ ही आपके शरीर की पूरा सिस्‍टम बिगड़ जाता है। image courtesy : getty images

 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK