Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

खाने में नमक डालते वक्‍त इन बातों का रखें खयाल

नमक के बिना खाना स्वादहीन हो जाता है। पर ये स्वाद सेहत पर कई बार भारी पड़ जाता है। नमक की ज्यादा मात्रा सेहत की लिए नुकसानदायक होती है। इसलिए खानें में नमक का सेवन संभाल कर करें।

स्वस्थ आहार By Aditi Singh Apr 06, 2015

नमक और सेहत का संबंध

बदलती लाइफस्टाइल में हमारा खानपान तो बदला ही है, खानपान की आदतें भी बदली हैं। खाने की टेबल से लेकर फास्ट फूड तक सबमें तेज नमक होता है, फास्‍ट फूड में तो नमक की मात्रा सामान्‍यतया ही अधिक होती है। इसके कारण हम अधिक नमक खाने के आदी हो जाते हैं। जबकि ज्यादा नमक खाने से न केवल उम्र कम हो सकती है, बल्कि सेहतमंद जिंदगी के लिए भी यह एक बड़ा खतरा है। लंबी और सेहतमंद जिंदगी के लिए नमक का सेवन कम करना जरूरी है। आगे की स्‍लाइड में जानिये आपके लिए कितना नमक फायदेमंद है और खाने में कितना नमक डालना चाहिए।
ImageCourtesy@gettyimages

हमें क्‍यों पड़ती है नमक की जरुरत

खाने केा अवशोषित करने के लिए नमक की आवश्यकता होती है। नमक मस्तिष्क की कोशिकाओं से एसिडिटी को बाहर निकालता है। किडनी नमक के बिना ठीक तरह से काम नहीं करती। नमक तनाव, अवसाद और भावनात्मक समस्याओं में भी राहत देता है। यह ब्‍लड में शुगर के स्तर को कम करता है और डायबिटीज से पीड़ित लोगों को इंसुलिन की जरूरत कम पड़ती है। साथ ही मांसपेशियों के सुचारू रूप से काम करने में नमक की अहम भूमिका होती है।
ImageCourtesy@gettyimages

ब्लड प्रेशर में फायदा

डेलीमेल पर प्रकाशित इस शोध में 8000 फ्रेंच लोगों का अध्ययन किया गया है और इस आधार पर यह निष्कर्ष निकाला है। शोधकर्ताओं ने अपने अध्ययन में माना है कि ब्लड प्रेशर के मामले में नमक की भूमिका उतनी नुकसानदायक नहीं है जितनी हम सोचते हैं। शोध के दौरान हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों की उम्र, शराब का सेवन, बीएमआई आदि स्तरों पर अध्ययन किया गया है।
ImageCourtesy@gettyimages

आयोडीन की भरपूर मात्रा

ज्यादा नमक के खतरों को देखते हुए नमक खाया ही न जाए। बाजार में जब कई तरह के नमक उपलब्ध हों, तो यह सवाल भी लाजिमी है कि कैसे नमक का इस्तेमाल किया जाए। डॉक्टरों के मुताबिक, नमक आयोडीन युक्त होना चाहिए, क्योंकि उसकी कमी से घेंघा नाम की बीमारी का खतरा रहता है। हालांकि, सिर्फ आयोडीन के चक्कर में ज्यादा नमक खाना समझदारी नहीं है, क्योंकि आयोडीन हमें आलू, अरवी के साथ-साथ हरी सब्जियों से भी मिल जाता है।
ImageCourtesy@gettyimages

हृदयाघात से बचाव

एक शोध के अनुसार एक आश्चअर्यजनक खुलासा हुआ है जिसमें पाया गया कि वास्तव में कम नमक वाले खाघ पदार्थ का सेवन करने वाले व्यक्तियों की अधिक नमक खाने वाले व्यक्तियों के मुकाबले हार्ट अटैक के दौरान म़ृत्यु का खतरा बढ़ जाता है। ये अनुसंधान अमेरिका के अमेरिकन ऑफ जनरल मेडीकल ऐसोसिएशन द्वारा किया गया है।
ImageCourtesy@gettyimages

स्ट्रोक से बचाव

आजकल जंकफूड और रेडी टू ईट फूड पर हम ज्यादा निर्भर हैं, जिसमें नमक की मात्रा ज्यादा होती है। इस तरह के फूड का सेवन स्ट्रोक जैसे गंभीर खतरे को बढ़ा सकता है। दुनिया भर में हर साल लाखों लोगों की हृदय रोग एवं स्ट्रोक की वजह से असमय मौत हो जाती है। अगर डब्‍ल्यूएचओ के तय मानक के मुताबिक नमक का सेवन दैनिक भोजन में किया जाए, तो दुनिया भर में हर साल होने वाली 25 लाख असमय मौतों को कम किया जा सकता है।
ImageCourtesy@gettyimages

कितना नमक है जरूरी

ज्यादा नमक हाई ब्लड प्रेशर और कम नमक लो ब्लड प्रेशर का कारण बनता है। कम या अधिक मात्रा में नमक का सेवन करने से मांसपेशियों में ऐंठन हो जाती है। इसलिए जरूरी है कि नमक की उचित मात्रा का सेवन किया जाये। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, उच्च रक्तचाप के शिकार लोगों को प्रतिदिन 2/3 चम्मच से ज्यादा नमक नहीं खाना चाहिए।
ImageCourtesy@gettyimages

बदलिए आदत

डब्‍ल्यूएचओ के मुताबिक गंभीर बीमारियों से बचने के लिए हमारे दैनिक आहार में रोजाना महज 5 ग्राम नमक पर्याप्त है। ज्यादा नमक खाने की आदत को बदलने के लिए अपने किचन से ही शुरुआत करें। खाने में कम नमक डालें।
ImageCourtesy@gettyimages

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK