Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

स्वास्थ्य के लिए ख़राब हो सकते हैं ये नए साल के संकल्प

अक्सर हमारे दिमाग में फिटनेस को लेकर कई भ्रम होते हैं, या कहिये जानकारी की कमी होती है। जिसकी वजह से हम कुछ जरूरी फैक्ट्स को नजरअंदाज कर देते हैं और फायदे की जगह नुकसान के भोगी बनते हैं।

एक्सरसाइज और फिटनेस By Rahul SharmaDec 31, 2014

नए साल के जोख़िम भरे संकल्प

बस नया साल आने को है और नये साल में लोग कुछ न कुछ संकल्प लेते हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि फिटनेस के मद्देनज़र लिये गये साये साल के कुछ संकल्प आपके लिये हानिकारक सिद्ध हो सकते हैं। जी हैं अक्सर हमारे दिमाग में फिटनेस को लेकर कई भ्रम होते हैं, या कहिये जानकारी की कमी होती है। जिसकी वजह से हम कुछ जरूरी फैक्ट्स को नजरअंदाज कर देते हैं और फायदे की जगह नुकसान के भोगी बनते हैं। तो चलिये जानें कुछ ऐसे ही नए साल के संकल्पों के बारे में जो स्वास्थ्य के लिए ख़राब हो सकते हैं।
Images courtesy: © Getty Images

एक ही बॉडी पार्ट की या सातों दिन लगातार एक्सरसाइज

शरीर को मजबूत बनाने के लिए एक ही बॉडी पार्ट की रोजाना एक्सरसाइज करना, जैसे कि जल्द एब्स पाने के लिये केवल एब्स एक्सरसाइज ही करते रहना, या सातों दिन लगातार बिना ब्रेक एक्सरसाइज करना हानिकारक हो सकता है। इससे शरीर को नुकसान पहुंचाता है। मसल्स की एक्सर्साइज करने के बाद एक या दो दिन तक आराम लेना चाहिए। क्योंकि लगातार ज्यादा एक्सर्साइज करने से गंभीर नुकसान हो सकता है।
Images courtesy: © Getty Images

रोजाना पेट की कसरत करना

रोजाना पेट की कसरत करने से पेट अंदर हो जाने की उम्मीद करना गलत है। पेट या किसी भी दूसरी मसल्स को कसरत के बाद पूरा आराम चाहिए होता है। इसलिए जरूरी है कि एक-दो दिन के अंतराल पर ही पेट की एक्सर्साइज की जाए और साथ में खान-पान का भी पूरा खयाल रखा जाए। पेट की एक्सरसाइज लगातार करते रहने से पेट की नसें खिंच सकती हैं और नुकसान हो सकता है।
Images courtesy: © Getty Images

जरूरत से ज्यादा एक्सरसाइज

एक्सपर्ट्स के अनुसार स्क्रीन पर स्टार्स की बॉडी देखकर खुद भी वैसा बनने की होड़ आगे चलकर नुकसानदायक हो सकता है। क्योंकि हर व्यक्ति का मेटाबॉलिजम रेट अलग होता है। जर्नल ऑफ कार्डियोलजी द्वारा कराई गई एक शोध के नतीजों के अनुसार जरूरत से ज्यादा एक्सरसाइज दिल की बीमारियों का कारण बन सकती है। इस स्टडी के तहत कार्डियॉलजिस्ट डॉ एंथनी एजर ने 1700 पुरुषों पर शोध किया। शोध के दौरान उन्होंने पाया कि पांच से सात दिन तक खूब एक्सरसाइज करने वाले पुरुषों में एट्रियल फाइब्रिलेशन की समस्या हो सकती है।
Images courtesy: © Getty Images

ओवर वर्कआउट या डायटिंग

विशेषज्ञ बताते हैं कि जरूरत से अधिक वर्कआउट करने से शरीर प्रतिक्रिया देना बंद कर देता है इसके अलावा जिस फायदे की आप उम्मीद कर रहे होते हैं वो भी नहीं मिलता। तो यदि आपके साथ भी कुछ ऐसा ही हो रहा हो तो हो सकता है आप भी बिना सोचे-समझे एक्सरसाइज कर रहे हैं। आपको यह ऐसे में आपको ये जानना चाहिए कि ओवर एक्सरसाइज के कारण अकसर शरीर के विभिन्न हिस्सों में दर्द होने जैसी समस्या हो सकती है और इंजरी का खतरा भी बढ़ता है।
Images courtesy: © Getty Images

शाकाहार ही शाकाहार

लोगों के बीच खान-पान से जुड़े कई मिथ होते हैं, जैसे शुद्ध शाकाहारी लोग एकदम फिट होते हैं। इसलिये नॉनवेज खाना छोड़ दीजिए। लेकिन यह राय पूरी तरह सच नहीं है। लेकिन यह बात सही है कि खूब सारी सब्जियों का सेवन आपको सेहत लाभ देता है। इनमें एंटीऑक्सीडेंट्स और फाइबर भरपूर मात्रा में होते हैं, लेकिन यदि आप सिर्फ तला-भुना खा रहे हैं तो ऐसा शाकाहारी होना भी व्यर्थ है। नॉनवेज भी पौष्टिकता से भरपूर होता है, लेकिन यदि इसे बहुत तेल-घी में नहीं बनाया गया है तो यह वजन नियंत्रित रखने में मदद करता है। नॉनवेज खाएं, मगर प्रोसेस्ड और पैकेट बंद नॉनवेज से परहेज रखें।
Images courtesy: © Getty Images

खाना छोड़ना

बहुत ज्यादा डाइटिंग या केवल लिक्विड डाइट से कुछ समय के लिए वजन भले ही कम हो जाए, पर स्वस्थ बने रहते हुए वजम करने  के लिए केवल डाइट काम नहीं करती, इसके साथ वर्कआउट भी जरूरी होता है। एक्सरसाइज से केवल कैलोरी बर्न नहीं होती, बल्कि इससे मांसपेशियां भी बनती हैं। ध्यान रखें कि केवल डाइटिंग करने से वसा कम होने के साथ शरीर के पोषक तत्व भी कम हो जाते हैं। कुछ लोग डाइट से कार्बोहाइड्रेट को निकाल देते हैं, जेकि हानिकारक है। कार्बोहाइड्रेट को निकाल देने के बजाए अच्छे कार्बोहाइड्रेट का सेवन करें।
Images courtesy: © Getty Images

कुछ शोध

न्यूयॉर्क के वेल कार्नेल मेडिकल कॉलेज में क्लिीनिकल मेडिसिन के प्रोफेसर कार्डियोलॉजिस्ट इसाडोर रोसेनफेल्ड के अनुसार क्रैश डाइटिंग एक-दो बार में शरीर पर कोई असर नहीं डालती, पर बार-बार ऐसा करना हृदयाघात की आशंका बढ़ा देता है। तो आपको इसका भी ध्यान रखना चाहिये।
Images courtesy: © Getty Images

क्रियेटिन या प्रोटीन सप्लीमेंट का इस्तेमाल

मसल्‍स बनाने की चाह युवाओं में एक पैशन है। सिक्‍स एब्‍स पैक पाने के लिए वे किसी भी हद तक जाने को तैयार रहते हैं। तो इस साल यदि आप भी सिक्‍स एब्‍स पैक बनाने का संकल्प ले रहें हैं तो याद रखें कि इसके लिये क्रियेटिन या प्रोटीन सप्लीमेंट का उपयोग न करें। यही नहीं एथलिट्स, बाडी बिल्डर्स या वे सभी लोग जो एक आइडियल बॉडी पाना चाहते हैं उन्हें इस सच्चाई की ओर ध्यान देना चाहिए। क्योंकि बिना जाने क्रियेटिन या प्रोटीन सप्लीमेंट का इस्तेमाल करने के बहुत से साइड एफेक्ट हो सकते हैं।
Images courtesy: © Getty Images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK