• shareIcon

तलाक कैसे करता है आपकी सेहत को प्रभावित, जानिए

तलाक न सिर्फ दो लोगों को कानूनी तौर पर एक दूसरे से अगल कर देता है बल्कि मानसिक व शारीरिक तौर पर भी गहरा नुकसान पहुंचाता है। शायद आप इस तथ्य से वाकिफ न हों, लेकिन तलाक सेहत पर भी कई प्रकार से दुष्प्रभाव ड़ालता है।

डेटिंग टिप्स By Rahul Sharma / Oct 26, 2016

तलाक से सेहत को होने वाले दुष्प्रभाव

कहते हैं कि किसी प्यार भरे रिश्ते में जुड़ना जितना आसान और आनंदमय होता है उस रिश्ते से बाहर आना उससे कहीं मुश्किल और दुख से भरा होता है। ज़माना तेज़ी से बदल रहा है और इस बदलाव के दौर में प्यार के रिश्ते की डोर भी कमज़ोर होती दिखाई पड़ती है। तलाक के बढ़ते मामले इस बात समाज के लिए जिंता का विषय हैं और ये साफ करते हैं कि कहीं न कहीं हमें इस गंभार सामाजिक विषय पर काम करने की ज़रूरत है। तलाक न सिर्फ दो लोगों को कानूनी तौर पर एक दूसरे से अगल कर देता है बल्कि मानसिक व शारीरिक तौर पर भी गहरा नुकसान पहुंचाता है। शायद आप इस तथ्य से वाकिफ न हों, लेकिन तलाक सेहत पर भी कई प्रकार से दुष्प्रभाव ड़ालता है। आज हम आपको तलाक के कारण सेहत पर होने वाले ऐसे ही कुछ दुष्प्रभावों से अवगत कराने जा रहे हैं।

Image Source : Getty

इंसोमेनिया (Insomnia)

कई शोध बताते हैं कि तलाक के सबसे त्वरित दुष्प्रभावों में नींद न आने की समस्या प्रमुख रूप से देखी जा सकती है। तलाक के दौर से गुज़र रही सुमन बाजवा  (बदला हुआ नाम) बताती हैं कि आमतौर पर होने वाली समस्याओं में उन्हें काफी नींद आती थी, लेकिन जब से उनके तलाक की प्रक्रिया शुरू हुई है उन्हें इंसोमेनिया (नींद न आना) की समस्या हो गई है। क्योंकि यह समस्या किसी विशेष समय अवधी के लिए होती है,, विशेषज्ञ इस तरह के इंसोमेनिया को "सेकंड्री इंसोमेनिया" पुकारते हैं। लेकिन वे सचेत भी करते हैं कि यदि इसका समय रहते प्रबंधन व सही उपचार न किया जाए तो आगे चलकर यह स्थाई समस्या का रूप ले सकती है। इसलिए तलाक की स्थिति में यदि इंसोमेनिया के लक्षण दिखाई दें तो एक बार डॉक्टर से इस संबंध में सलाह अवश्य लें। 

Image Source : Getty

कमज़ोर इम्यून सिस्टम (Weakened Immune System)

एक अध्ययन के दौरान, तलाक की प्रक्रिया से गुज़र रहे कई लोगों ने बताया कि इस दौरान उन्हें ज़ुख़ाम बुख़ार जैसी छोटी-मोटी संक्रामक बीमारियां आसानी से अपनी चपेट में  ले लेती थीं।  कई मैरिज काउंसलर भी इस बात पर अपनी सहमती देते हैं। विशेषज्ञ बताते हैं कि तलाक मानसिकतौर पर झकझोड़ देनी वाली प्रक्रिया होती है और इसमें तनाव व अपसाद हो जाना बेहद आम होता है। और इसका सीधा प्रभाव  सेहत पर पड़ता है और हमारा इम्यून सिस्टर गड़बड़ा जाता है। ऐसे में बीमारिओं के लगने की आशंका भी बढ़ जाती है।

Image Source : Getty

वज़न का बढ़ना (Weight Gain)

तलाक से गुज़र रहे लोगों को तनाव हो जाना सामन्य सी बात होती है। कई शोध बताते हैं कि तनाव के कारम लोग में सामान्य से ज्यादा भोजन करने की आदत लग जाना देखा जा सकता है। ऐसे में एक तो व्यक्ति ज़रूरत से अधिक खाना खा लेता है और वह ठीक से पचता भी नहीं है। जिसके चलते वज़न का बढ़ जाना भी लाज़मी होता है। तो तलाक के मुश्किल दौर से गुज़र रहे लोगों में वज़न बढ़ने की समस्या देखी जा सकती है।

Image Source : Getty

मूड डिसॉर्डर और हृदर संबंधी समस्याएं

नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ के अनुसार तलाक जैसे मुश्किल दौर में अधिक तनाव हो जाना और फिर इसके अवसाद का रूप ले लेने का जोखिम हमेशा ही बना रहता है। वहीं महिलाएं के इस दौरान मूड डिसॉर्डर काशिकार होने की आशंका अधिक होती है। उनके साथ ऐसा हार्मोन द्वारा दिमाग के रसायनों के साथ छेड़-छाड़ किए जाने के कारण होता है। इसके अलावा कुछ शोध यह भी बताते हैं कि तलाक जैसे पीड़ादायक दौर से गुज़रे या गुज़र रहे लोगों में सामान्य लोगों की तुलना में हृदय संबंधी समस्याओं होने की आशंका 20 गुना तक अधिक होती है।

Image Source : Getty

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK