Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

इन दस पौधों के संपर्क में आने से होती है एलर्जी

आपके घर के आसपास अगर इस प्रकार के पौधे दिखें तो उनसे संभलकर रहें, क्‍योंकि ये एलर्जी का कारण बन सकते हैं।

एलर्जी By Nachiketa SharmaMay 21, 2014

एलर्जी और पौधे

प्रकृति से आपका लगाव होना लाजमी हैं, आप हर वक्‍त नेचर की गोद में रहने और पौधों से खेलने के लिए लालायित रहते हैं। लेकिन कुछ पौधे ऐसे भी हैं जो एलर्जी का कारण बन सकते हैं। इन पौधों के संपर्क आने मात्र से आपको एलर्जी हो सकती है। इसमें त्‍वचा की एलर्जी और आंतरिक एलर्जी (खांसी, छींक आना, सर्दी-जुकाम होना आदि) भी शामिल है। तो अगर घर में पौधे लगायें या पौधों के बीच जायें तो इनसे बचकर।

image courtesy - getty images

रागवीड (Ragweed)

ये पौधे सड़क के किनारे, नदी के किनारे, ग्रामीण इलाकों में, मैदानी इलाकों में पाये जाते हैं। गर्मी के मौसम में ये पौधे सबसे अधिक पनपते हैं। अमेरिका के अस्‍थमा और एलर्जी फाउंडेशन के मुताबिक अमेरिका में एलर्जी के लिए जिम्‍मेदार कारकों में लगभग 75 प्रतिशत मामले इस पौधे के संपर्क में आने के कारण होते हैं। तो आप भी इस पौधे से दूरी बनाकर रखिये।

image courtesy - getty images

पर्वतीय देवदार (Mountain cedar)

अगर आपको पर्वतीय इलाकों में घूमने का शौक है तो इस पौधे से बचकर रहिये, नहीं तो यह आपकी त्‍वचा को एलर्जेटिक कर सकता है। वसंत के मौसम में यह पेड़ सबसे ज्‍यादा खतरनाक हो जाता है।

image courtesy - getty images

रेग्रास (Ryegrass)

शांत जगहों, घास के मैदानों, चराई के क्षेत्रों में यह पौधा पाया जाता है। गर्मी और वसंत के मौसम में यह पौधा अपने चरम पर होता है, यानी इस मौसम में इसके कारण एलर्जी फैलने की संभावना अधिक होती है। चूंकि यह चराई के क्षेत्रों में भी पाया जाता है तो इसके संपर्क में आप आसानी से आ सकते हैं क्‍योंकि यह अन्‍य घासों के साथ धुल-मिल जाता है।

image courtesy - getty images

मेपल (Maple)

नदियों में, जंगल के किनारे, नदियों के किनारे यह पाया जाता है। यह पौधा भी वसंत यानी स्प्रिंग के समय होता अधिक खतरनाह हो जाता है, इस समय इसकी नये पौधे पनपते हैं। हालांकि इस पौधे की पत्तियों का प्रयोग दवा के रूप में किया जाता है, लेकिन अगर यह आपकी त्‍वचा के संपर्क में आ जाये तो एलर्जी हो सकती है।

image courtesy - getty images

एल्‍म (Elm)

यह पौधा हर उस जगह पर पाया जाता है जो जमीन खेती के लायक होती है, इसके अलावा नम जलवायु वाले स्‍थानों पर भी यह पाया जाता है। इसका भी समय वसंत ही है। इस पौधे की एलर्जी के कारण आदमी का बुरा हस्र हो सकता है, तो इससे बचकर ही रहना बे‍हतर है।

image courtesy - getty images

शहतूत (Mulberry)

इसका फल खाने में बहुत ही स्‍वादिष्‍ट होता है। जंगलों में और बगीचों में यह पाया जाता है, लोग इसे अपने घरों के सामने भी लगाते हैं।  सर्दी खत्‍म होने के बाद और गर्मी के मौसम की शुरूआत में यह पेड़ फल देता है। लेकिन इसकी पत्तियां और पेड़ के संपर्क में आने से एलर्जी हो सकती है। तो अगर इसका फल खा रहे हैं तो संभलकर खायें।

image courtesy - getty images

पीकन - एक प्रकार का अखरोट (Pecan)

जंगलों और बगीचों में यह पौधा पाया जाता है। इसका फल खाया जाता है और यह बहुत ही पौष्टिक होता है। वसंत के मौसम में यह अपने चरम पर होता है। लेकिन अगर इसकी पत्तियों और टहनियों के संपर्क में आपकी त्‍वचा आ जाये तो यह एलर्जी का कारण बन सकता है।

image courtesy - getty images

बांज (Oak)

वसंत के मौसम में होने वाला यह पौधा जंगलों में पाया जाता है। इसके पौधे का प्रयोग कई तरह के उत्‍पादों में होता है। लेकिन यह एलर्जी के लिए भी जिम्‍मेदार हो सकता है।

image courtesy - getty images

पिगवीड/टंबलवीड (Pigweed/tumbleweed)

लॉन में और सड़क के किनारे आप इस पौधे को आसानी से देख सकते हैं। वंसत के मौसम में यह सबसे अधिक पनपता है। अगर आपकी त्‍वचा इसकी संपर्क में आये तो इससे एलर्जी और खुजली हो सकती है, इसलिए इस पौधे से बचकर रहिये।

image courtesy - getty images

एरीजोना सरू (Arizona cypress)

यह पौधा उस जगह पाया जाता है जहां की जलवायु गर्म होती है, यानी यह पूरी तरह सूखी मिट्टी पर वसंत के मौसम में होता है। इसकी संपर्क में आने से होने वाली एलर्जी कुछ सप्‍ताह के लिए आपको प्रभावित कर सकती है।

image courtesy - getty images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK