• shareIcon

अपनी ऊर्जा को कैसे बढ़ायें

सबके भीतर ऊर्जा समाहित होती है, यदि हम उस ऊर्जा का सही प्रयोग करें जीवन सही दिशा में चलने लगता है, लेकिन, सवाल यही है कि आखिर हम अपनी ऊर्जा को कैसे बढ़ा सकते हैं।

विभिन्न By Bharat Malhotra / Nov 29, 2014

ऊर्जा को कैसे बढ़ायें

हम सबके भीतर ऊर्जा समाहित होती है। यदि हम उस ऊर्जा का सही इस्‍तेमाल कर सकें तो हमारा जीवन सही दिशा में चलने लगता है। लेकिन, सवाल यही है कि आखिर हम अपनी ऊर्जा को कैसे बढ़ा सकते हैं।
image source - getty images

 

अपनी प्रतिभा को निखारें

अपनी प्रतिभा को पहचानें तथा उसे निखारने का काम करें। हमारी प्रतिभा अलग होती है जो हमें एक नये रास्‍ते पर ले जाती है। अपने जुनून का पीछा करें और जल्‍द ही आपको अपने सही मुकाम का अंदाजा हो जाएगा।

image source - getty images

बिखराव को सुधारें

अनसुलझी समस्‍यायें हमें भावनात्‍मक और मानसिक रूप से परेशान करती हैं। ऐसी परेशानियों का ढंग से सामना करें और उन्‍हें खत्‍म करके ही चैन लें। इसके साथ ही भविष्‍य की समस्‍याओं को भी नजरअंदाज न करें। अगर जख्‍म का समय रहते इलाज न किया जाए तो वह नासूर बन जाता है। याद रखिये समस्‍याओं को दबाने से वे भविष्‍य में फिर सामने आ जाती हैं। तो समस्‍यओं का सामना करना उनसे छुपने की अपेक्षा बेहतर रहता है।

image source - getty images

रिश्‍ते का सम्‍मान करें

रिश्‍तों में एक दूसरे पर आरोप लगाना बंद करें। इससे कुछ हासिल होने वाला नही है। इससे बेहतर है कि आप अपने रिश्‍ते की समस्‍याओं को समझें। रिश्‍ते में अपनी गलतियों को स्‍वीकार करें। अपनी नाकामी को मानें। और इसके बाद जो गलत हुआ है उसे सुधारने का प्रयास करें। याद रखें सुधार करने के लिए जरूरी है कि पहले आप उन भूलों को स्‍वीकार करें जो आपसे हुई हैं। किसी से कुछ उम्‍मीद रखने से अच्‍छा है कि आप खुद रिश्‍ते को बेहतर बनाने का प्रयास करें।

image source - getty images

जाने देना है बेहतर

हर रिश्‍ता अपने मनचाहे मुकाम तक नहीं पहुंचता। कई बार चाहकर भी आप दोनों साथ चल पाते। किस्‍मत से आपके रास्‍ते जुदा हो जाते हैं। और ऐसे में जबरन किसी के साथ चलने या उसे अपने साथ चलाने से बेहतर है कि आप उसे जाने दें। कहते हैं ना, 'चाहते हैं जिसे मुक्‍त कर दें उसे, मोहब्‍बत का तकाजा यही है। वो आएगा और आएगा जरूर, न आए तो समझो तुम्‍हारा नहीं है।

image source - getty images

बेकार के जुड़ाव

जीवन में आगे बढ़ने के लिए पीछे की कुछ चीजों को छोड़ना बेहतर होता है। यदि हम जीवन में अपने साथ बेकार की चीजें जमा करते रहेंगे तो अपने भविष्‍य को मुश्किल बनाते जाएंगे। इससे हमारा जीवन दुष्‍कर हो जाता है। जो चीजें आपके काम की नहीं हैं उनमें दिल और दिमाग उलझाये रखना वास्‍तव में ऊर्जा का नुकसान करना ही है। स्‍वयं को इन बेकार के झंझटों से मुक्‍त कीजिये।

image source - getty images

अपने भीतर की बुराइयों से लड़ें

हर इनसान गलती करता है और उसे अपने कुछ पुराने फैसलों पर पछतावा होता है। अपनी कमियों को पहचानना और उन्‍हें सुधारने में कोई बुराई नहीं। इससे हमारी समझदारी पर सवाल नहीं खड़े होते। आपको अपने गलत फैसलों से सीखना चाहिये। ये सीख आपको भविष्‍य में काफी कुछ सिखा सकती है। इनसे सीखकर आप बेहतर इनसान बनते हैं। गलत कामों को स्‍वीकार न करना कहीं न कहीं शर्म से जुड़ा मसला हो सकता है। और ऐसा करके आप खुद के साथ न्‍याय नहीं करते।

image source - getty images

बदलाव को स्‍वीकार करें

डर और सावधानी के बीच एक महीन रेखा होती है। हम अध्‍यात्म के मार्ग पर लगातार बढ़ते रहते हैं। इनसान एक ही स्‍थान पर लंबे समय तक रुके रहने के लिए नहीं बना है। हां, कई बार बदलाव डरावना हो सकता है, लेकिन बदलाव प्रकृति का नियम है। और इसी से आपको काफी कुछ सीखने को मिलता है। तो आखिर इसे क्‍यों न स्‍वीकार किया जाए। जब हम परिवर्तन की राह में बाधा उत्‍पन्‍न करते हैं, तो हम जीवन की राह में बाधक बनते हैं।

image source - getty images

देरी को स्‍वीकार करें

कई बार आपको इंतजार करना पड़ता है। असंयम और चिढ़चिढ़ापन हालात को बेहतर नहीं बना सकते। कई बार मनचाहे बदलाव के लिए कुछ वक्‍त लगता है। आपको लगता है कि आपको फौरन एक काम करना चाहिये। लेकिन, रुकें और हालात का जायजा लें। हो सकता है कि हालात ही आपको इंतजार करवाना चाहते हों। बस स्‍टॉप पर कुछ देर और बैठने में कोई बुराई नहीं। आखिर में बस आनी ही है। यानी हालात बदलने ही हैं, लेकिन अति अधीरता अच्‍छी नहीं।

image source - getty images

आत्‍मसम्‍मान है जरूरी

क्‍या आप अपना खयाल रख रहे हैं। आपका शरीर ही आपकी पूंजी है। और आप इसी को खर्च कर जीवन बिता रहे हैं। तो अगर आप व्‍यायाम और आहार के जरिये अपने शरीर को फिट रखेंगे तो इससे आपको आपको काफी फायदा होगा। अपना खयाल रखें, बीमारी का खयाल रखें, सही आहार और व्‍यायाम का सहारा लें।

image source - getty images

मौत और बीमारी

शारीरिक जीवन वह तोहफा है जो कई अनुभवों के साथ आता है। बीमारी से पीडि़त होना भी अनुभवों का पिटारा है। हालांकि शरीर की अपनी एक्‍सपायरी डेट होती है, लेकिन हमारी ऊर्जा कभी खत्‍म नहीं होती। तो, आपको चाहिये कि अपने जीवन और अपनी ऊर्जा का ऐसे इस्‍तेमाल करें कि आपके जाने के बाद भी लोग आपको याद रखें।

image source - getty images

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK