• shareIcon

नाकामयाब लोगों में होती हैं ये दस खामियां

हर बार आपको नाकामी ही क्‍यों‍ मिलती है। हर बार क्‍यों सफलता आपसे रूठी रहती है। इसे किस्‍मत का दोष कहकर कहीं आप अपनी कमजोरी तो नहीं छुपा रहे। जानिये वे दस आदतें जो आपको कभी कामयाब नहीं होने देंगी।

मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य By Bharat Malhotra / Oct 31, 2014

कामयाबी के कई नाम, नाकामी अकेली

नाकामयाबी को लोग कई प्रकार से पुकारते हैं। कोई किस्मत कहता है, तो कोई मेहनत। कोई लगन कहता है, तो कोई अनुशासन। लेकिन, नाकामी सिर्फ नाकामी होती है। आप इसके कितने की कारण तलाश है असफलता हर मायने में असफलता ही है। लेकिन, आखिर क्या वे क्या वजह होती हैं, जो लोगों को नाकाम या कामयाब बनाती हैं। क्यों कुछ लोग नाकाम होते हैं। असल में ये आदते होती हैं जो किसी को सफल बनाती हैं और किसी को असफल।

वे वक्त की कीमत नहीं समझते

नाकामयाब लोग अपने वक्त की कीमत नहीं समझते। वे किसी भी समय, किसी भी जगह जा सकते हैं। उनके पास यह क्षमता नहीं होती कि वे अपना समय अपने लक्ष्यों के प्रति समर्प‍ित कर सकें। हर साल वे अपने लिये नये लक्ष्य बनाते हैं, लेकिन उनके लक्ष्य कभी पूरे नहीं हो पाते, क्योंकि वे उन लक्ष्यों में लगने वाला समय देने को तैयार ही नहीं होते। समय प्रबंधन का हुनर, ना कहने की कला और अपने वादों को पूरा करने के रास्ते में आने वाले पड़ावों के बारे में सही जानकारी होनी जरूरी है।

लक्ष्य से जुड़े काम न करना

लक्ष्य पर पहुंचने के लिए जरूरी है कि आपकी सोच स्पष्ट हो। उसके लिए कुछ नियम हों। और अनुशासन से उन कामों करने की दक्षता आप में हो। आप ऐसे काम करें जिनका संबंध आपके द्वारा निर्धारित किये गए लक्ष्यों से हो। आपका लक्ष्य जितना छोटा होगा सिद्धांत, अनुशासन और नियम उतने ही लचीले होंगे। और साथ ही उनके टूटने की आशंका भी उतनी ही ज्यादा होगी। नाकामयाब लोग व्यस्तता को उत्पादकता समझते हैं। वे हर काम का हिस्सा होते हैं, लेकिन उनमें से शायद ही कोई ऐसा होता हो, जिसे वे अपने लक्ष्य के साथ जोड़कर देख सकें। अपने लक्ष्यों और उस तक पहुंचने की रणनीति के बारे में लिखकर रखने से आपको उन बेकार के कामों के बारे में जानकारी मिलेगी, जिनका आपके लक्ष्य से कोई  संबंध नहीं है।

सही संतुलन है जरूरी

आपका बॉस आपको परेशान करता है, और आपको आपका काम भी बिलकुल पसंद नहीं। लेकिन, क्या यह कारण काफी है कि आप दूसरे दर्जे का काम करके दें। आपको काम करने के पैसे मिलते हैं, तो अपने काम को निष्ठा और ईमानदारी से निभाइये। जिंदगी से आपको वही मिलता है जो आप उसे देते हैं, यही सत्य है।  हालात कैसे भी हों हमेशा अपना सर्वश्रेष्ठ देने का ही प्रयास करें। वही लोग हमेशा नाकाम होते हैं, जो एक बार नाकामयाब होने के बाद सफलता के नये रास्ते नहीं तलाशते। वे न तो अपनी कामयाबी की वजह की ही तलाश करते हैं और ही उस वजह को दूर करने की कोश‍िश ही करते हैं। कामयाबी के लिए जरूरी है अपनी असफलता से सीखना। खुद में सुधार करते रहना और हमेशा बेहतर इनसान बनने की कोश‍िश करते रहना।

खुद को बांधे रखते हैं

नाकाम लोग हमेशा खुद को बांधे रखते हैं। 'मेरी अंगरेजी कमजोर है' यह मानना बुरी बात नहीं। लेकिन, यह जानकर और मानकर भी उसमें सुधार न करना तो सही नहीं है। अगर आपको अपनी खामियों के बारे में मालूम है, तो आपने आधी जंग तो जीत ही ली है। तो, फिर आगे बढ़िये और पूरी जंग जीतने का प्रयास कीजिये। वे अपने इर्द-गिर्द सीमायें तय करते हैं और हमेशा अपने बर्ताव के लिए कोई न कोई कारण बनाते रहते हैं। अपना लक्ष्य वे जानबूझकर नीचे रखते हैं ताकि वे उसे कभी मिस न कर पायें। इस सोच से निजात पाइये। यह छोड़ना छोड़ दीजिये कि आप कुछ खास काम ही कर सकते हैं। यह सोचना छोड़ दीजिये कि आप सामने वाले इनसान की तरह समझदार नहीं हैं। जीवन का उद्देश्य है कि आप अपनी पूरी क्षमता का दोहन करें और अपनी क्षमताओं को लगातार विस्तार देते रहें।

बहाने बनाने में तेज

बहाने बनाना नाकाम लोगों की एक और आदत होती है। वास्तव में यही आदत उन्हें पीछे धकेलती रहती है। काम क्यों नहीं हुआ या वे यह काम क्यों नहीं कर सकते, इसके पीछे उनके पास कई तर्क होते हैं। कई बार अपनी इस गलती को व्यावहारिकता बताते हैं। उनकी सोच सीमित होती है। वे कल्पनाशील नहीं होते। किसी काम के नहीं होने के उनके पास कई कारण होते हैं, लेकिन वास्तव में वे उसे करने का कभी प्रयास भी नहीं करते। इसका सबसे अच्छा इलाज यही है कि जब भी आपके दिमाग में कोई बहाना आने लगे, तो अपनी सोच को वहीं रोक दें। दिमाग के इंजन को शुरू से शुरू करें।

उनका कोई स्तर नहीं होता

नाकाम लोगों का आमतौर पर सामाजिक आईक्यू जीरो होता है। उन्हें नहीं पता होता कि दूसरे लोगों के साथ कैसे बर्ताव करना है। ज्यादातर समय वे बेवजह ही रूखा व्यवहार करते हैं। ज्यादा बोलने वालों और दिखावा करने वाले लोगों को कोई भी पसंद नहीं करता। अपने मित्रों और पसंद के लोगों के साथ अच्छा व्यवहार तो सभी कर लेते हैं, लेकिन ऐसा व्यक्ति जिसे झेलना आपके लिए मुश्क‍िल हो या जिसके साथ आपके लगातार मतभेद होते रहते हों, के साथ अच्छे बने रहना ही वास्तव में आपके चरित्र की तस्वीर बयां करता है। कुछ ही लोगों को सामाजिक स्तर पर अच्छी तरह बात करने की कला आती है। कहा जाता है कि किसी व्यक्ति के चरित्र के बारे में पता लगाना हो तो इस बात पर गौर करें कि एक लंबी लाइन में खड़ा होने के बाद अगर उसे बुरी सर्विस मिले तो वह कैसा बर्ताव करता है। जब आप उसकी कोई महंगी चीज तोड़ दें, तब वह क्या करता है। ये सब छोटी-छोटी बातें ही चरित्र निर्माण की प्रक्रिया का अहम हिस्सा हैं।

वे शिथिल होते हैं

सबसे हैरान करने वाली बात यह है कि ज्यादातर लोगों को अपनी इस कमजोरी के बारे में मालूम होता है। लेकिन, उन्हें इससे कोई परेशानी नहीं होती। इसके तार फिर उसी बात से जुड़ते हैं कि ऐसे लोग वक्त की बेकदरी करते हैं। वे अपनी जिंदगी में किसी तरह का बदलाव नहीं करना चाहते। वे दूसरों की तरह ही अपनी जिंदगी बिताना चाहते हैं। ऐसे में यह समझने की जरूरत है कि वक्त बड़ा कीमती होता है। आपको हर दिन की कीमत समझनी चाहिये। हर दिन आपके लिए तोहफा है और आपको उसका पूरा सदुपयोग करना चाहिये। आज को जियें और इसे अपनी बेहतरी में इस्तेमाल करें। कल का क्या होगा किसको खबर।

वे कुछ नहीं करते

सहजता ऐसे लोगों के जीवन का फलसफा होती है। लेकिन हकीकत में वे सहजता का अर्थ सही मायनों में समझते ही नहीं हैं। नाकाम लोग सिर्फ सोचने में वक्त गंवाते हैं। वे बड़ी-बड़ी बातें तो करते हैं लेकिन उनके पास आगे बढ़कर उन्हें पूरा करने का सामर्थ्य नहीं होता। क्या होगा इस बारे में सपने देखना बंद करें। सपने देखना बुरा नहीं, लेकिन सिर्फ सपने ही देखते रहना बहुत बुरा है। लोगों से बेकार में मिलने में वक्त खराब न करें। उठें और कुछ अलग करें।

वे विपरीत परिस्थ‍ितियों का सामना नहीं कर सकते

हालात हमेशा आपके साथ नहीं होंगे। जब वे आपके ख‍िलाफ हों, तब आपको उनका सामना करने के लिए उठ खड़े होना चाहिये। समस्यायें उतनी ही बड़ी होती हैं, जितना बड़ा हम उन्हें होने देते हैं। हमारी कमजोरियां ही परेशानियों को बड़ा बनाती हैं। नाकाम लोग इस बात को नहीं समझते और जरा सी परेशानी होते ही वे हार मान जाते हैं। छैनी की चोट ही पत्थर को मूर्ति बनाती है। समस्याओं का सामना करना हमें केवल अपने लक्ष्यों के करीब ही नहीं पहुंचाता, बल्कि हमें एक बेहतर इनसान भी बनाता है। अपने कम्फर्ट जोन से बाहर आयें और खुद के लिए नयी-नयी चुनौतियां पेश करें। मुश्किल हालात में ही साहस का जन्म होता है। जब तक आप मुश्किलों का सामना नहीं करेंगे, आपको अपनी ताकत का अंदाजा नहीं होगा।

उदासीन होते हैं

समुंदर में उतरे बिना उसकी गहराई को नहीं मापा जा सकता। वे किसी बारे में राय नहीं बनाते। वे किसी बात पर फैसला नहीं ले पाते। अगर उन्हें किसी बात की जानकारी न हो, तो वह समझदारी भरा संवाद नहीं कर सकते। वे पढ़ते नहीं हैं, स्कूली ज्ञान के अलावा वे कुछ और न तो पढ़ते हैं और न ही वे इसकी जरूरत ही समझते हैं। वे इस पर भी ध्यान नहीं देते कि आख‍िर वे खुद को कैसे प्रस्तुत करेंगे। अपनी क्षमताओं का पूरा दोहन कर पाने का उन्हें कोई मलाल नहीं होता। रोचक और जानकारी से भरी इस दुनिया में भी वे बोर होने का तरीका तलाश ही लेते हैं। उदासीनता एक साइलेंट किलर है। देखें आप किस बात को लेकर जुनूनी हैं, भले ही आपको इसके लिए पैसे न मिलते हों। लेकिन, इसे पूरा करने की पूरी कोशिश करें।

अलग नहीं होते कामयाब लोग

कामयाब लोग वास्तव में उतने खास होते नहीं जितना हम सोचते हैं। देखने में वे काफी साधारण किस्म के लोग होते हैं, लेकिन उनकी कामयाबी की बड़ी वजह होती है अनुशासन। और साथ ही सही समय पर मौजूद होने की कला। शायद आप काफी कुछ करना चाहते हैं, लेकिन अकसर वक्त की कमी के कारण नहीं कर पाते हैं। तो एक काम कीजिये। अपना फोन बंद कीजिये, कंप्यूटर लॉग ऑफ कीजिये, दूसरे क्या कर रहे हैं इस बात से ध्यान हटाइये, और अपने भीतर झांककर देख‍िये । खुद के भीतर छुपी प्रतिभा और क्षमता को देखकर आप स्वयं चकित हो जाएंगे।

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK