• shareIcon

बेहोश होने के कारण और इसकी रोकथाम

आमतौर पर बेहोश हो जाने की समस्‍या बच्‍चों और महिलाओं में अधिक देखी जाती है, इसकी प्रमुख वजहें शरीर में पानी की कमी या फिर लो ब्‍लड प्रेशर होता है, अगर आप भी इस समस्‍या से ग्रस्‍त हैं तो इसकी रोकथाम हो सकती है।

मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य By Rahul Sharma / Apr 13, 2015

बेहोशी क्या है

अक्‍सर लोग गर्मियों में अक्‍सर खड़े-खड़े चक्‍कर खाकर गिर पड़ते हैं और फिर बेहोश हो जाते हैं। आमतौर पर यह समस्‍या बच्‍चों और महिलाओं में अधिक देखी जाती है। बेहोशी की प्रमुख वजहें शरीर में पानी की कमी या फिर लो ब्‍लड प्रेशर होता है। गर्मी का दिन और सूरज की तपिश के कारण शरीर निढाल हो जाता है और बेहोशी आती है। हालांकि इसके कई अन्य कारण भी हो सकते हैं। तो चलिये विस्तार से जानते हैं बेहोशी के कराण, जटिलताएं और इसकी रोकथाम के बारे में।
Images source : © Getty Images

चक्‍कर आना और बेहोशी

चक्‍कर आना और बेहोशी एक आम अनुभव हैं। आंखों के आगे अंधेरा छा जाने और फिर इसके बाद शरीर के शिथिल पड़ जाने को बेहोशी कहा जाता है। ऐसा मस्तिष्क में खून की आपूर्ति अचानक से कम हो जाने के कराण होता है। (इसके कई अलग कारण हो सकते हैं) ऐसे में कुछ समय के लिए बिलकुल होश नहीं रहता। आमतौर पर ऐसा होने पर जमीन पर गिर जाने से शरीर और मस्तिष्क समतल हो जाते हैं। इससे सिर और मस्तिष्क में खून की आपूर्ति फिर से बहाल हो जाती है। और व्यक्ति कुछ ही क्षणों में वापस से ठीक हो जाता है।
Images source : © Getty Images

वर्टिगो या चक्कर

वर्टिगो या चक्कर आना एक प्रकार की संवेदना है जो सिर के सन्तुलन बनाने वाले हिस्से (अर्थात कान, अनुमस्तिष्क) में अस्थाई गड़बडी होने के कारण सिर चकराने से होती है। जोकि कभी कभी बेहोशी का कराण भी बन सकती है।
Images source : © Getty Images

कमज़ोरी के कारण बेहोशी

कुपोषण, अनीमिया, कम खाना, भूखे रहना आदि, कोई और स्थिति जिसके कारण अनीमिया हो सकता है (जैसे कैंसर, चिरकारी संक्रमण), दिल की कमजोरी (जैसे कि रूमेटिक बुखार के बाद दिल की बिमारी), फ्लू या मलेरिया होना, पेशियों की कमज़ोरी, मस्तिष्क में दौरे के कारण कमजोरी (लकवा), मानसिक कारण जैसे बेचैनी आदि, अन्य कारण जैसे कैंसर, तपेदिक या अवटु (थायरॉएड) ग्रंथि की बीमारियों आदि में।

Images source : © Getty Images

क्या करें

एक बार थोड़ा सा होश आ जाने पर सीधे ना खडे़ हो कर पहले बैठें या फिर कुछ देर तक लेटे ही रहें। खड़े होने से रक्त का दबाव सीधे दिमाग की ओर पहुंचेगा जिससे आप दुबारा गिर सकते हैं। नमकीन आहार लें, नमकीन आहार खाने से लो ब्लड प्रेशर सामान्य हो जाएगा। बेहोश होने होने पर व्यक्ति के  टाइट कपडों को खोल दें और आराम से गहरी सांस भरने दें। बेहोश होने के कुछ घंटो के बाद आपको सिट्रिक जूस पीना चाहिये, जैसे संतरा, नींबू या पाइनएप्पल जूस आदि।
Images source : © Getty Images

हिस्टीरिया भी हो सकता है

हिस्टीरिया रोग 'न्यूरोसिस' का एक प्रकार होता है। हिस्टीरिया ज़्यादातर महिलाओं को होने वाला दिमागी रोग होता है। यह रोग पंद्रह से बीस साल की युवतियों में होता है। हिस्टीरिया रोग में स्त्रियों को मिर्गी की ही तरह बेहोशी के दौरे आते हैं। इस रोग से पीड़ित रोगी कई प्रकार की कुचेष्टाएं तथा अजीब काम करने लगता है।
Images source : © Getty Images

हिस्टीरिया के कारण

हिस्टीरिया कई कारणों से हो सकता है। ज्यादा चिंता और मानसिक तनाव इसके प्रमुख कारण होते हैं। महिलाओं को हिस्टीरिया का रोग किसी तरह के सदमे, चिन्ता, प्रेम में असफलता, मानसिक दुख या फिर किसी दुख का गहरा आघात होने के  कारण होता है। महिलाओं में यौन-उत्तेजना बढ़ने के कारण भी हिस्टीरिया रोग के लक्षण पैदा हो सकते हैं।
Images source : © Getty Images

हिस्टीरिया का उपचार

किसी महिला में हिस्टीरिया रोग के लक्षण दिखाई देते ही उसे तुरन्त किसी मनोचिकित्सक से इस रोग का इलाज कराना चाहिए। हिस्टीरिया के रोगी को गुस्से में या किसी और कारण से मारना- पीटना बिल्कुल भी नहीं चाहिए, क्योंकि इससे उसे और ज़्यादा मानसिक और शारीरिक आघात हो सकता है। इस बात का भी ख़ासतौर पर ध्यान रखना चाहिए कि हिस्टीरिया रोगी अपने आपको किसी तरह का नुकसान न पहुंचाए।
Images source : © Getty Images

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK