• shareIcon

ओवेरियन कैंसर के इन 9 लक्षणों के बारे में अवश्य जानें

ओवरियरन कैंसर होने पर गर्भाशय और इसमें मौजूद ट्यूब्स भी नष्ट होने लगती हैं, ओवरी में छोटे-छोटे सिस्ट बन जाते हैं, इसके कारण गर्भधारण में भी समस्‍या होती है, समय पर इसके लक्षणों को जानने से उपचार आसानी से हो सकता है।

महिला स्‍वास्थ्‍य By Rahul Sharma / Mar 23, 2015

ओवेरियन या यूटेरस कैंसर

ओवेरियन अर्थात यूटेरस कैंसर में ओवरी में छोटे-छोटे सिस्ट बन जाते हैं। यूटेरस कैंसर होने पर गर्भधारण में समस्‍या भी होती है, क्‍योंकि ओवरियरन कैंसर होने पर गर्भाशय और इसमें मौजूद ट्यूब्स भी नष्ट होने लगती हैं। हालांकि इसके लक्षणों की सही जानकारी और सही समय पर निदान से इसका इलाज संभव है। आइए जानें ओवरियन कैंसर और सिस्ट के बारे में कुछ और महत्वपूर्ण बातें और इनके लक्षण।
Images courtesy: © Getty Images

क्या करें

आजकल कई महिलाओं की फाइब्रॉएड और पॉलीसिस्टिक ओवरी (पीसीओएस) होती है, जिसमें ओवरी में अल्सर हो जाते हैं। यही अल्‍सर कुछ समय बाद ट्यूमर का घातक रूप ले लेते हैं। क्‍योंकि इनके लक्षण ज्यादा साफ नहीं होते हैं, कई गर्भाशय कैंसर का पता लगाना थोड़ा कठिन होता है। ब्‍लड टेस्‍ट और अल्‍ट्रा साउंड स्‍कैन करवा कर इसके होने के पुख्ता साबूत मिल जाता हैं। पहले से ही पीसीओएस ग्रस्त ओरवेट महिलाएं इसकी जांच जरुर करवाती रहें।
Images courtesy: © Getty Images

ओवेरियन कैंसर के लक्षण

  • नियमित रूप से पीरियड्स न होना।
  • शरीर पर कहीं भी अनचाहे बालों का उगना।
  • गर्भधारण के दौरान समस्या होना।
  • अचानक मोटापा बढ़ना।
  • पेट में भरीपन या फुलाहुआ महसूस होना।
  • बार-बार पेट में दर्द होना।
  • बहुत अधिक गैस बनना, दस्त लगना।

Images courtesy: © Getty Images

ओवेरियन कैंसर के कुछ अन्य लक्षण

  • पेल्विक पेन की शिकायत होना
  • कमर दर्द या फिर खट्टी डकारें आना।
  • संभोग के दौरान दर्द की शिकायत होना।
  • जरूरत से ज्यादा बार पेशाब जाना।
  • अचानक वजन कम होना।
  • वैजाइनल ब्लीडिंग होना।

Images courtesy: © Getty Images

पुरुषों को भी होनी चाहिये जानकारी

आज 40 से 50 की उम्र के बीच की महिलाएं कैंसर की चपेट में सबसे ज्‍यादा आ रहीं हैं। कुछ कैंसर ऐसे हैं, जो खासतौर पर केवल महिलाओं को ही होते हैं। और हर पुरुष के जीवन से महिला कहीं न कहीं जुड़ी ही होती है तो इसलिए इस बात की जानकारी आपको होना बहुत ही जरुरी है कि महिलाओं को किस प्रकार के कैंसर होते हैं और ओवेरियन कैंसर के लक्षण क्या होते हैं।
Images courtesy: © Getty Images

किसे होता है अधिक जोखिम

यदि इस का कोई पारिवारिक इतिहास हो व आनुवांशिक कारण हों तो कई बार प्रेगनेंसी के दौरान भी ओवरियन कैंसर का खतरा बढ़ जाता है। वहीं 30 साल की उम्र में या इसके बाद पहली बार मां बनने वाली महिलाओं में भी ओवरियन कैंसर का खतरा दोगुना तक अधिक हो जाता है। इसके अलावा ब्रेस्ट कैंसर से पीडित महिलाओं को भी ओवरियन कैंसर कैंसर का खतरा बढ़ जाता है।
Images courtesy: © Getty Images

क्या हैं कारण

आमतौर पर ओवरियन कैंसर कुछ बीमारियों जैसे, डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, ज्यादा तनाव, मेनोपोज तथा एनीमिया आदि के कारणों से होता है।
कई बार मेनोपोज के बाद ओवरी की कार्यक्षमता कम होने से भी यूटरस कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है। ऐसे में आपको समय-समय पर जांच कराते रहना चाहिए।
Images courtesy: © Getty Images

कैसे करें पहचान

ओवरियन कैंसर को नियंत्रित करना बहुत ज्यादा मुश्किल बिल्कुल नहीं है, लेकिन उसके लिए जरूरी है कि इस कैंसर का शुरुआती दौर में ही पता लगा लिया जाये। इस तरह तकरीबन 90 फीसदी ओवरियन कैंसर के मामलों को ठीक किया जा सकता है। ओवरियन कैंसर का इलाज सर्जरी व कीमोथैरेपी से संभव होता है।
Images courtesy: © Getty Images

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK