Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

स्केलेटल सिस्टम के बारे में जानें ये 7 दिलचस्‍प तथ्‍य

स्केलेटल सिस्टम शरीर में सभी प्रकार की हड्डियों और कार्टिलेज में शमिल होता है। और यह महत्‍वपूर्ण कार्यों जैसे नई रक्‍त कोशिकाओं के उत्‍पादन, शरीर को संरचना देना और शारीरिक मूवमेंट में मदद करता है।

एक्सरसाइज और फिटनेस By Pooja SinhaMar 18, 2015

स्केलेटल सिस्टम से जुड़ें तथ्‍य

हड्डियां हमारे शरीर के पूरे भार को संभालती हैं। उसी के सहारे हम खड़े हो पाते हैं, बैठ पाते हैं और चल-फिर पाते हैं। या यूं कहे कि हम शरीर की हर छोटी-बड़ी हरकतों के लिए अपनी हड्डियों पर निर्भर करते हैं। लेकिन हम अक्‍सर अपनी हड्डियों की तरफ तब तक ध्‍यान नहीं दे पाते जब तक कि हमारी किसी हड्डी में परेशानी या बुढ़ापे में हड्डी रोग का पता नहीं चल जाता। लेकिन सच्‍चाई यह है कि हमारी हड्डियों को भी आजीवन सुरक्षा और पोषण की आवश्‍यकता होती है। कंकाल प्रणाली शरीर में सभी प्रकार की हड्डियों, स्नायु, लिगमेंट और कार्टिलेज में शमिल होता है। यह महत्‍वपूर्ण कार्यों जैसे नई रक्‍त कोशिकाओं के उत्‍पादन, शरीर को संरचना देने और शारीरिक आंदोलन में सहायता देने में मदद करता है। आइए कंकाल प्रणाली से जुड़े ऐसे ही सात दिलचस्‍प तथ्‍य को बारे में जानकारी लेते हैं।
Image Courtesy : Getty Images

आधे से अधिक शरीर की हड्डियां हाथ और पैर में मौजूद

हड्डियों को समान रूप से पूरे शरीर में वितरित नहीं कर किया जा सकता। शरीर के कुछ हिस्‍सों में दूसरे हिस्‍से के मुकाबले अधिक हड्डियां होती है। हमारे हाथों में 27 हड्डियां और प्रत्‍येक पैर में 26 हड्डियां होती है। इसका मतलब दोनों हाथों और पैरों में कुल मिलाकर 106 हड्डियां होती है। इस तरह से आपके हाथ और पैरों में पूरे शरीर के मुकाबले आधे से अधिक हड्डियां होती है।
Image Courtesy : Getty Images

पहली कार्यात्‍मक कृत्रिम हड्डी का आविष्‍कार

दुनिया की पहली कार्यात्‍मक कृत्रिम हड्डी का आविष्‍कार प्राचीन मिस्र के लोगों द्वारा किया गया था। लगभग 3,000 साल पहले एक कृत्रिम बड़े पैर की अंगुली का - प्राचीन मिस्र ने पहला कार्यात्‍मक कृत्रिम अंग बनाया। शोधकर्ताओं ने शोध के अनुसार पाया कि कृत्रिम पैर की उंगलियों में सैंडल पहनकर मिस्र के लोग उन लोगों की तुलना में अधिक आसानी से चल सकते, जिनके कृत्रिम अंग नहीं है।
Image Courtesy : Getty Images

मानव शरीर का सख्‍त पदार्थ नहीं है हड्डियां

मानव शरीर में सबसे हार्ड हिस्‍सा यानी दांतों का इनमेल, कंकाल प्रणाली का ही हिस्‍सा है। दांतों का इनमेल दांत के क्रॉउन की रक्षा करने और इसे बरकरार रखने में मदद करता है। मिनरल की उच्‍च एकाग्रता जैसे कैल्शियम लवण दांतों के इनमेमल को मजबूत बनाने में मदद करता है।
Image Courtesy : Getty Images

वयस्कों की तुलना में बच्चों में अधिक होती है हड्डियां

वयस्‍क के शरीर में 206 हड्डियां होती है, लेकिन एक शिशु के स्‍केलेटल में 300 विभिन्‍न प्रकार की हड्डियां और कॉटिलेज का संयोजन होता है। कॉटिलेज अंत में हड्डी के रूप में स्थिर हो जाती है, इस प्रक्रिया को ओसिफिकेशन (अस्थिकरण) के नाम से जाना जाता है। समय के साथ शिशुओं में अतिरिक्‍त हड्डियों का बड़ा होना बंद हो जाता है, इस तरह से वयस्‍क होने तक हड्डियों की कुल संख्‍या 206 हो जाती है।
Image Courtesy : Getty Images

पैर के अंगूठे की हड्डियां शरीर में सबसे कमजोर

क्‍या आप जानते हैं कि आपके शरीर में सबसे कमजोरी हड्डियां कौन सी होती है। पैर के अंगूठे की हड्डियां शरीर में सबसे कमजोर हड्डियां होती है। पैर के अंगूठे की हड्डियां आसानी से और सबसे अधिक बार टूटती है। यहां तक कि लगभग हर किसी के जीवन में एक बार पैर के अंगूठे में चोट जरूर लगती है।   
Image Courtesy : Getty Images

सबसे आम हड्डी रोग है ऑस्टियोपोरोसिस

ऑस्टियोपोरोसिस सबसे आम हड्डी रोग है, और इस समस्‍या के होने पर हड्डियों के ढांचे और हड्डियों में गिरावट होने लगती है। हालांकि ऑस्टियोपोरोसिस को रोका जा सकता है, और इसका निदान और भी इलाज किया जा सकता है। हड्डियों में गिरावट तब होती है जब हड्डियों को मजबूत बनाने वाले मिनरल, विशेष रूप से कैल्शियम को खो देती है। इसके परिणामस्‍वरूप कमजोर हड्डियों में आसानी से फ्रैक्‍चर हो जाता है।
Image Courtesy : Getty Images

मनुष्य हजारों वर्षों से हड्डी के ट्यूमर से पीड़ित

हड्डियां सक्रिय और जीवित कोशिकाओं से बनी होती है। इसी तरह आपके शरीर की अन्‍य कोशिकाओं, अस्थि कोशिकाओं सौम्‍य और घातक ट्यूमर के लिए अतिसंवेदनशील होती है। शोधकर्ताओं ने खोजा कि हजारों साल से मानव हड्डी के ट्यूमर से पीड़ि‍त है। 2013 में, वैज्ञानिकों ने हजारों साल पहले की तारीख में निएंडरथल पसली की हड्डी में एक ट्यूमर की खोज की। अब तक का यह सबसे पुराना मानव ट्यूमर है।
Image Courtesy : Getty Images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK