Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

फुटबॉल में गति का विकास करने वाली स्ट्रेंथ एक्सरसाइज

सही स्ट्रेंथ ट्रेनिंग की मदद से ना सिर्फ बेहतर फिटनेस पाई जा सकती है बल्कि फुटबॉल या अन्य किसी स्पोर्ट्स में भी अपना प्रदर्शन बेहतर किया जा सकता है।

एक्सरसाइज और फिटनेस By Rahul SharmaJun 18, 2014

फुटबॉल के लिए स्ट्रेंथ एक्सरसाइज

बेशक स्ट्रेंथ ट्रेनिंग एक्सरसाइज की मदद से एक फुटबॉल प्लेयर शक्ति बढ़ा कर अपने प्रदर्शन को बेहतर कर सकता है। लेकिन किसी भी फुटबॉल खिलाड़ी के लिए स्ट्रेंथ ट्रेनिंग का तब तक कोई फायदा नहीं, जब तक मैदान पर वह खिलाड़ी को अजेय शक्ति प्रदान नहीं करती। इसलिए सही स्ट्रेंथ ट्रेनिंग को सही तरीके से करना बेहद जरूरी है। तो चलिये जानें फुटबॉल में गति बढ़ाने वाली स्ट्रेंथ एक्सरसाइजों के बारे में।
courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

कैसे करें शुरुआत

इसकी शुरुआत स्पेशलिस्ट के गाइडेंस में करनी चाहिए। बिना गाइडेंस के करने से हो सकता है कि मसल्स खिंच जाएं और कोई पुरानी चोट उभरकर सामने आ जाए। पहले प्रॉपर मेथड से स्ट्रेंथ ट्रेनिंग करना सीखिए। कहां की मसल्स बनानी है, उस हिसाब से एक्सरसाइज करें। 30 साल से ज्यादा एज वालों को कूल्हे और पैरों की मसल्स की एक्सरसाइज करनी चाहिए। जिनके घुटनों में ऑर्थराइटिस है, वह इसे जरूर करें।
courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

हर हिस्से और अंग के लिए अलग

स्ट्रेंथ ट्रेनिंग शरीर के हिस्सों के हिसाब से ही की जाती है। छाती के लिए बेंच प्रेस, चेस्ट प्रेस मशीन, पुश अप्स, पेक डेक मशीन। बैक के लिए सीटेड रो मशीन, बैक एक्सटेंशन, पुलडाउन आदि होते हैं, जबकि कंधों के लिए ओवरहेड प्रेस, लैटर रेज, लैट पुलआउट्स। बाइसेप्स के लिए बाइसेप्स कर्ल, हैमर्ल, कनसन्ट्रेशन कर्ल। ट्राइसेप्स के लिए ट्राइसेप्स एक्सटेंशन, डिप्स, किकबैक्स तथा शरीर के निचले हिस्सों के लिए स्क्वैट, लंज, लेग प्रेस मशीन, डेडलिफ्ट्स, काफ रेज। पेट के लिए क्रंच, रीवर्स क्रंच, ऑब्लिक ट्विस्ट आदि एक्सरसाइज की जाती हैं।
courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

छाती के लिए एक्सरसाइज

फुटबॉल में बेहतर प्रदर्शन के लिए पूरे शरीर का ठीक होना जॉरूरी होता है। जिसमें से छाती भी अहम है। इसके लिए बेंच प्रेस, चेस्ट प्रेस मशीन, पुश अप्स, पेक डेक मशीन आदि करें।
courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

बैक के लिए एक्सरसाइज

कमर का पूरे फुटबॉल मैच में जबरदस्त योगदान होता है। इसलिए इसे मजबूत करने के लिए सीटेड रो मशीन, बैक एक्सटेंनशन, पुलडाउन आदि करें।
courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

कंधों के लिए एक्सरसाइज

मजबूत कंधे न सिर्फ मजबूत पुरुष की पहचान होते हैं बल्कि इनकी ममद से आप खेल में भी बेहतर प्रदर्शन कर सकते हैं। कंधों के लिए ओवरहेड प्रेस, लैटरल रेज, लैट पुलआउट्स जैसी स्ट्रेंथ एक्सरसाइज बड़ी असरदार रहती हैं।
courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

बाजुओं के लिए एक्सरसाइज

हाथों को मजबूत बनाने के लिए बाइसेप्स कर्ल, हैमरर्ऱ्ल, कनसेन्ट्रेशन कर्ल करें। वहीं ट्राइसेप्स के लिए एक्सरसाइज ट्राइसेप्स एक्सटेंशन, डिप्स, किकबैक्स आदि कर सकते हैं।
courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

निचले हिस्से के लिए एक्सरसाइज

फुटबॉल खेलने में शरीर का निचला भाग बेहद महत्वपूर्ण होता है और लगातार दौड़ने के लिए ताकत और सपोर्ट देता है। इसे मजबूत बनाने के लिए स्क्वैट, लंज, लेग प्रेस मशीन, डेडलिफ्ट्स व काफ रेज आदि करें।
courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

पेट के लिए एक्सरसाइज

पेट को मजबूत बनाने और फुटबॉल खेलने के लिए अधिक स्ट्रेंथ पाने के लिए क्रंच, रीवर्स क्रंच, ऑब्लिक ट्विस्ट तथा पेल्विक टिल्ट आदि स्ट्रेंथ एक्सरसाइज नियमित रूप से करें।
courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

लंज एक्सरसाइज

यह मिडल थाइज और टांगों की मसल्स के लिए अच्छी एक्सरसाइज है। इसे करने के लिए कंधों की चौड़ाई जितने पैर खोलकर खड़े हो जाएं। और फिर सीधे पैर को आगे बढ़ाएं और उल्टे पैर को नीचे की तरफ इतना मोड़ें कि वह जमीन को छुल जाए। पैरों को बदलते हुए ये रेपिटिशंस करते जाएं। इसके रोज 15-20 रेपिटिशंस वाले तीन सेट्स करें।
courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

सही तरह से ट्रेनिंग करना जरूरी

किसी अन्य एक्सरसाइज की ही तरह, स्ट्रेंथ ट्रेनिंग भी आपके दिल को चुनौती देती है। इसलिए इसे शुरू करने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर कर लें कि अपका दिल वाकई इस चुनौती से निपटने योग्य है या नहीं। स्ट्रेंथ ट्रेनिंग ठीक प्रकार से न करने पर मसल्स और स्नायु (हड्डियों और मांसपेशियों को जोड़ने वाले टिश्यू) को नुकसान पहुंच सकता है।
courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK