Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

आसान तरीके जो इन सर्दियों में रखेंगे फिट

सर्दियों के मौसम में फिटनेस पर विशेष ध्‍यान देना चाहिए, क्‍योंकि यह मौसम अपने साथ बहुत ही बीमारियां लेकर आता है, इस मौसम में शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता भी कमजोर हो जाती है।

एक्सरसाइज और फिटनेस By Nachiketa SharmaDec 22, 2014

सर्दियों में रहें फिट

सर्दियों के मौसम में फिटनेस पर विशेष ध्‍यान देना चाहिए, क्‍योंकि यह मौसम अपने साथ बहुत ही बीमारियां लेकर आता है। कई बीमारियां हैं जो इस मौसम में आपका परेशान कर सकती हैं। यह मौसम खांसी और बुखार की समस्या लेकर तो आता ही है, मधुमेह के मरीजों में इस मौसम में दिल और मस्तिष्क आघात का खतरा भी अधिक हो जाता है। सर्दियों में वॉयरल संक्रमण अधिक होता है इसके कारण नर्वस सिस्‍टम में भी गड़बड़ी आ जाती है। इस मौसम में लकवे का खतरा भी बढ़ जाता है। अधिक ठंड के कारण रक्‍त वाहिकायें सिकुड़ जाती हैं जिसके कारण रक्‍त संचार भी ठीक से नहीं हो पाता है। इससे उच्च रक्तचाप के मरीजों में लकवे का खतरा बढ़ जाता है। इन सब समस्‍याओं से बचने के लिए फिटनेस के फंडे आजमाना जरूरी है।

image source - getty images

नियमित व्‍यायाम करें

सर्दियों में आलस के कारण लोग व्‍यायाम नहीं करते हैं, जबकि इस मौसम में शरीर को स्‍वस्‍थ बनाये रखने के लिए व्‍यायाम करना बहुत जरूरी है। विशेषज्ञों की मानें तो सर्दियों के मौसम में एक घंटे के बजाए डेढ़ से दो घंटा व्यायाम करना चाहिए। क्यूंकि इस मौसम में गर्म और चटपटा खाने की अधिक इच्छा होती है और हम खुद पर नियंत्रण भी नहीं रख पाते हैं, ऐसे में शरीर का वजन तेजी से बढ़ने लगता है। इसपर नियंत्रण के लिए नियमित व्‍यायाम बहुत जरूरी है।

image source - getty images

व्‍यायाम से पहले वार्मअप

वैसे तो हर मौसम में व्‍यायाम करने से पहले वार्मअप करने की सलाह दी जाती है। क्‍योंकि इस मौसम में रक्‍त वाहिकायें सिकुड़ जाती हैं जिसके कारण रक्‍त संचार ठीक से नहीं हो पाता है और बिना वार्मअप के व्‍यायाम शुरू करने पर मांसपेशियों में खिंचाव हो सकता है। इसके कारण शरीर के किसी भी हिस्से में दर्द भी हो सकता है। इसलिए सर्दियों के मौसम में व्‍यायाम करने से पहले अच्‍छी तरह से वार्मअप करना बहुत जरूरी है।

image source - getty images

पैदल चलना सबसे अच्छा

सर्दियों के मौसम में व्‍यायाम करने का मन न करे तो पैदल चलकर व्‍यायाम की कमी को पूरा किया जा सकता है, यह बहुत ही आसान है। चलने से आपके फेफड़े खुलते हैं और रक्त संचार तेज होता है। इससे आपकी मांसपेशियों में खून का दौरा बढ़ता है और दिल भी अच्‍छी तरह से काम करता है। शरीर के निचले हिस्से की मांसपेशियां भी सक्रिय हो जाती हैं। तो कार्यालय से निकलने के बाद थोड़ी देर पैदल चलने की आदत डालें।

image source - getty images

खानपान पर विशेष ध्‍यान

सर्दियों में डाइजेशन और मेटाबॉलिज्म बेहतर तरीके से काम करता है। इसलिए अच्छी डाइट से मिले पौष्टिक तत्‍व शरीर के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं। इस मौसम में तले हुए आहार खाने का अधिक मन करता है, लेकिन अगर आप फिट रहना चाहते हैं तो तले हुए आहार का सेवन कम करें। इस मौसम में फिश, हॉट सूप और ड्राई फ्रूट्स जरूर खायें। ठंड के मौसम में हरी सब्जियां, टमाटर, पालक, लहसुन, ताजे फलों जैसे - संतरा, पपीता, सेब आदि का सेवन कीजिए। टमाटर में केरोटीन होता है, जो खून को साफ रखता है और पालक जैसी पत्‍तेदार सब्जियों में कैल्शियम के साथ हीमोग्लोबिन का स्‍तर बढ़ता है।

image source - getty images

ब्रेकफास्‍ट करना न भूलें

हर मौसम में ब्रेकफास्‍ट करना बहुत जरूरी है, लेकिन सर्दियों में शरीर को फिट रखने के लिए ब्रेकफास्‍ट बहुत जरूरी है। आलस से बचने में सुबह का नाश्‍ता बहुत महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाता है। ठंड के मौसम में हैवी ब्रेकफास्‍ट कीजिए, और हो सके तो लंच और डिनर भी हल्‍का कीजिए। इससे पूरे दिन आप सक्रिय रहेंगे और आपका वजन भी नहीं बढ़ेगा।

image source - getty images

इन आहारों का सेवन कीजिए

सर्दियों के मौसम में कुछ आहारों का सेवन करने से शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है और बीमारियों से बचाव होता है। इसलिए इस मौसम में मूंगफली, बादाम, गाजर, मूली, सेब, संतरा जैसे आहारों का सेवन करना चाहिए। इनमें आयरन, नियासिन, फोलेट, कैल्शियम और जिंक पाया जाता है, इसके आलावा इसमें मौजूद एंटीऑक्सिडेंट्स, विटामिन्स, मिनिरल्स आदि इसमें मौजूद होता है। एक तरफ मूंगफली शरीर को गरम रखता है वहीं दूसरी तरफ गाजर विटामिन ए की कमी को पूरी करता है। इसलिए जितना हो सके इन आहारों का सेवन करना बहुत जरूरी है।

image source - getty images

त्‍वचा का खयाल रखें

सर्दियों में चलने वाली ठंडी हवाओं का सबसे अधिक असर त्‍वचा पर पड़ता है। इसके कारण त्‍वचा का फटना, होंठों का सूखना, बालों का सूखना, जैसी समस्‍यायें आम हो जाती हैं। ऑयली त्‍वचा वाले लोगों को इस मौसम में राहत मिल सकती है। लेकिन अगर ठंडी हवाओं से त्‍वचा फट जाती है या सूखी हो जाती है, तो एहतियात बरतना बहुत जरूरी है। इसके लिए ग्लिसरीन व मॉइश्चराइजर युक्त साबुन का प्रयोग करें और नहाने के पानी में कुछ बूंदे बेबी ऑयल की डालें। यह त्‍वचा के लिए प्रोटेक्टिव लेयर का काम करता है। इस मौसम में बहुत ही अधिक गर्म पानी से न नहायें।

image source - getty images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK