• shareIcon

International Dance Day 2019: डांस करने से दूर होता है मोटापा, हृदय रोगों से मिलता है छुटकारा

अंतर्राष्‍ट्रीय नृत्‍य दिवस (International Dance Day) हर साल 26 अप्रैल को दुनिया भर में मनाया जाता है। जिसे अंतर्राष्ट्रीय रंगमंच संस्थान की नृत्य समिति द्वारा बनाया गया है, जो यूनेस्को की प्रदर्शनकारी कलाओं का मुख्य भागीदार है।

एक्सरसाइज और फिटनेस By अतुल मोदी / Sep 08, 2014

डांस के स्वास्थ्य लाभ

अंतर्राष्‍ट्रीय नृत्‍य दिवस (International Dance Day) हर साल 26 अप्रैल को दुनिया भर में मनाया जाता है। जिसे अंतर्राष्ट्रीय रंगमंच संस्थान की नृत्य समिति द्वारा बनाया गया है, जो यूनेस्को की प्रदर्शनकारी कलाओं का मुख्य भागीदार है। इंडिया में भी डांस के प्रति दिवानगी बहुत ज्‍यादा है। डांस हमारे शरीर के लिए भी बेहद लाभदायक होता है। कई शोध इस बात का समर्थन करते हैं कि नृत्य मानसिक शांति के लिए सबसे बेहतर उपायों में से एक है। यही नहीं नाचते समय ताली बजाने व अनेक प्रकार की भाव-भंगिमाएं बनाने से शरीर की कसरत हो जाती है। इससे कमर दर्द, घुटने का दर्द आदि शिकायतें दूर हो जाती हैं। तो चलिये जाने नाचने के ऐसे ही कुछ कमाल के स्वास्थ्य लाभ!  

दिल की सेहत

नियमित रूप से डांस करना आपके दिल की धड़कन तथा ब्लड प्रैशर को बेहतर करता है। साथ ही डांस कोलेस्ट्रॉल के स्तर को भी नियंत्रण में बनाए रखता है। इस प्रकार यह हृदय रोगों से भी बचाने में मददगार होती है।

वजन घटाए

यही वजह है कि वजन कम करने के लिये सबसे उत्तम थैरेपी डांसिंग को ही माना गया है। सिर्फ आधे घंटे की डांसिग एक्सरसाइज से ही आपकी 200 से 400 कैलोरीज तक घटती है।  

मेमोरी बूस्टर

दी मेडिसिन न्यू इंग्लैंड जर्नल में प्रकाशिक एक स्टडी के अनुसार नृत्य अपनी स्मृति को बढ़ाता है और उम्र बढ़ने के कारण हो सकने वाली डेमेंशिया की समस्या के विकास को भी रोकता है। एरोबिक व्यायाम से हिप्पोकैम्पस में आयी कमी को दूर किया जा सकता है। हिप्पोकैम्पस स्मृति को नियंत्रित करने वाला मस्तिष्क का हिस्सा होता है।

लचीलापन बढ़ाए

नाचने से शरीर में लचीलापन बढ़ाता है और आलस पैदा करने वाली शरीर की कठोरता कम होती है। डासिंग से शरीर की स्ट्रेचिंग हो जाती है और शरीर में लचीलापन आता है, जिससे जोड़ों के दर्द और व्यायाम के बाद के दर्द से राहत मिलती है।

तनाव को दूर करे

ब्रिटेन में हुए एक अध्ययन से पता चला है कि जो महिलाएं रोज थोड़ी देर डांस करती हैं, उन्हें मोटापे की समस्या नहीं होती, रोज कि अनेक गंभीर रोगों का कारण होती है। अध्ययन से यह भी पता चला है कि जो लड़कियां कम उम्र से ही डांस करती हैं, उन्हें तनाव व अवसाद जैसी समस्याओं से नहीं जूझना पड़ता। इस अध्ययन के लिए फास्ट और ट्रेडि‍शनल दोनों तरह के डांस फॉर्म वाली लड़कियों को शामिल किया गया।

डांस थेरपी

डांस थेरेपी इन दिनों तेजी से मशहूर होती जा रही है। दरअसल, यह न सिर्फ टेंशन और स्ट्रेस दूर करती है, बल्कि आत्मविश्वास और कम्यूनिकेशन स्किल्स को भी बेहतर बनाती है। इस थेरपी की मदद से शरीरिक व मानसिक समस्याओं को दूर किया जा सकता है।

एनर्जी लेवल बढ़ाए

डांस करने से आपका एनर्जी लेवल भी बढ़ता है। यह आपको अधिक फुर्तीला बनाता है और एनर्जी लेवल बढ़ने के साथ आप अपने लक्ष्य के प्रति ज्यादा उत्साह से जुड़ जाते हैं। स्कॉलरलय पब्लिशिंग एंड एकेडमिक रिसोर्सेज कोएलिशन में छपे एक शोध के अनुसार एक साप्ताहिक नृत्य कार्यक्रम शारीरिक प्रदर्शन में सुधार और वयस्कों के बीच ऊर्जा के स्तर को बढ़ा सकता है।

एकाग्रता बढ़ाने में

नृत्य करने से आपकी एकाग्रता बढ़ती है और आप पहले से कहीं ज्यादा अनुशासित व्यक्ति बन जाते हैं। इसके साथ-साथ बार-बार नृत्य का अभ्यास करते रहने से आत्मविश्वास में भी कमाल की वृद्धि‍ होती है और आप चीजों पर ज्यादा बेहतर ढ़ंग से ध्यान लगा पाते हैं।

खुश रहने में सहायक

जब आप थोड़े उदास हों, अपना मन बदलने के लिये नृत्य करके देखियेगा। आप पायेंगे कि आपका मन फौरन ही बदल जाएगा और सकारात्मक भाव आने लगेंगे। इसीलिए कहा जाता है कि नृत्य और संगीत भगवान से भी मिला सकता है। इनमें वास्तव में बड़ी शक्ति होती है।  

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK