• shareIcon

ब्लड शुगर असंतुलन के लक्षणों को पहचानें

ब्लड ग्लूकोज़ या बल्ड शुगर लेवल की एक बूंद विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकती है, इस असंतुलन के लक्षणों को पहचान कर किसी संभावित गंभीर स्थिति से बचा जा सकता है।

डायबिटीज़ By Rahul Sharma / Nov 21, 2014

ब्लड शुगर असंतुलन के लक्षण

ब्लड ग्लूकोज़ या बल्ड शुगर लेवल की एक बूंद विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकती है। यदि आपके ब्लड शुगर का स्तर नियमित तौर पर नियंत्रण से बाहर है, तो यह क्रोनिक स्वास्थ्य समस्याओं का कारण भी बन सकता है। संतुलित आहार, व्यायाम और दवाएं, मधुमेह नियंत्रण के लिए रक्त शर्करा के स्तर को संतुलित रखने में मदद कर सकते हैं, लेकिन स्वस्थ रहने के लिए आपको हर दिन आपके रक्त में शर्करा के स्तर की जांच करना जरूरी होता है। इन आंकड़ो को संपलित करने से डॉक्टर को भी बेहतर इलाज करने में सहायता मिलती है। ब्लड शुगर असंतुलन के लक्षणों को पहचान कर किसी संभावित गंभीर स्थिति से बचने में मदद मिलती है। तो चलिये जानें कि ब्लड शुगर असंतुलन के क्या लक्षण होते हैं।
Images courtesy: © Getty Images

चक्कर आना

चक्कर आना या अस्थिरता महसूस करना निम्न रक्त शर्करा या हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) का एक लक्षण है। मस्तिष्क को ठीक ढंग से काम करने के लिए ग्लूकोज की आवश्यका होती है और रक्त शर्करा में कमी खतरनाक हो सकती है। फलों के रस का एक गिलास रक्त शर्करा के स्तर को बढ़ाने के लिए एक अल्पकालिक समाधान होता है, लेकिन ऐसी स्थिति में डॉक्टर से संपर्क जरूर करें।
Images courtesy: © Getty Images

लगातार प्यास लगना व पेशाब आना

लगातार प्यास लगना व पेशाब आना हाई ब्लड शुगर लेवल के दो प्रमुख संकेत होते हैं। जब किडनी शुगर को बाहर निकाने के लिए मेहनत कर रही होती हैं, वे ऊतकों से अधिक चीनी भी निकाल रही होती हैं। जिस कारण अधिक पेशआब आता है। प्यास निकल चुके तरल की भरपाई का संकेत होती है।
Images courtesy: © Getty Images

थकान

थकान इस लिए होती है क्योंकि शुगर आपके शरीर की कोशिकाओं में जाने के बजाए रक्त प्रवाह में ही रहती है। यह आपकी मांसपेशियों को ऊर्जा के रूप में उपयोग करने के लिए कम ईंधन उपलब्ध करती है।
Images courtesy: © Getty Images

स्तब्ध हो जाना या झुनझुनी होना

तंत्रिका क्षति लगातार ऊंचा रक्त शर्करा के स्तर का एक और बड़ा संकेत होता है। इसके कारण स्तब्धता होती है या फिर पैरों व हाथों में झुनझुनी होने लगती है। इसके कारण दर्द या तापमान में परिवर्तन महसूस करने में असमर्थता हो सकती है।  
Images courtesy: © Getty Images

हाथ व पैरों में सूजन

यदि डायबटिक व्यक्ति को हाई बल्ड प्रेशर भी है तो यह बेकार और तरल पदार्थ को फिल्टर करने की गुर्दे की क्षमता को प्रभावित करता है। जिस कारण तरल भीतर ही रुक जाता है और हाथ व पैरों में सूजन हो सकती है।
Images courtesy: © Getty Images

नज़र कमजोर होना

उच्च रक्त शर्करा और उच्च रक्तचाप आंखों के भीतर की नाजुक संरचनाओं को नुकसान पहुंचा सकते हैं और नज़र कमजोर हो सकती है। इसी के चलते वयस्कों में अंधेपन का सबसे बड़ा कारण मधुमेह रेटिनोपैथी है।
Images courtesy: © Getty Images

लगातार संक्रमण

उच्च रक्त शर्करा के स्तर वाले एक व्यक्ति को लगातार संक्रमण होने की समस्या का सामना करना पड़ सकता है। निमोनिया और श्वसन संक्रमण, गुर्दे के संक्रमण, मसूड़ों की बीमारी, मूत्र मार्ग में संक्रमण, बैक्टीरिया या कवक त्वचा और साइनस संक्रमण उच्च रक्त शर्करा के स्तर की निशानी हैं।
Images courtesy: © Getty Images

पाचन संबंधी समस्याएं

डायबटीज पेट की पाचन तंत्र के माध्यम से आसानी से भोजन को आगे ले जाने वाली नर्व को भी नुकसान पहुंचाती है। इस नर्व को हुई छती के कारण गैस्ट्रोपॉरेसिसिस (ऐसी स्थिति जिसमें पेट जल्दी से खाली नहीं हो पाता है) हो सकता है। यह दस्त और कब्ज जैसी पाचन समस्याओं का कारण बन सकती है।
Images courtesy: © Getty Images

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK