Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

सेक्‍स शिक्षा के लिए क्‍या है सही उम्र

देश में लोग आज भी सेक्स शिक्षा के बारे में बात करते कतराते हैं और यौन शिक्षा का नाम आते ही मानो किसी विस्फोट हो जाने जैसी स्थिति पैदा हो जाती है। लेकिन सेक्स का सही जानकारी प्राप्त करना उतना ही जरूरी है, जितना कि अन्य विषयों की।

सभी By Rahul SharmaMar 13, 2015

सेक्स शिक्षा की सही उम्र

सेक्स शिक्षा को लेकर लंबे समय से बहस चली आ रही है। और इसके साथ कुछ बड़े सवाल हर बार खड़े होते हैं, जैसे यदि सेक्स शिक्षा दी जाए तो किस उम्र के बच्चों को सेक्स शिक्षा देनी चाहिए। यदि नहीं, तो क्यों? ये तमाम सवाल अक्सर सेक्स शिक्षा का नाम आते ही उठ खड़े होते है। देश में लोग आज भी सेक्स शिक्षा के बारे में बात करते कतराते हैं और यौन शिक्षा का नाम आते ही मानो किसी विस्फोट हो जाने जैसी स्थिति पैदा हो जाती है। तो चलिये सेक्‍स शिक्षा की सही उम्र और इससे जुड़े पहलुओं पर तफ्सील से बात करें।
Images courtesy: © Getty Images

कितनी ज़रूरी है सेक्स शिक्षा

सेक्स का सही जानकारी प्राप्त करना उतना ही जरूरी है, जितना कि अन्य विषयों की। दुर्भाग्यपूर्ण है कि हमारे देश में मेडिकल कॉलेज तक में सेक्स एजुकेशन नहीं दी जाती है। परिणाम हम सेक्स संबंधी अंधविश्वास, भ्रांतियां और इससे जुड़ी कई समस्याएं के रूप में देख सकते हैं। सेक्स सिक्षा न केवल स्कूलों में बल्कि अभिभावकों द्वारा भी दी जानी चाहिये। यहां एक सवाल और उठता है कि सेक्स की सही आयु क्या है? तो शायद सही निर्णय ले पाने योग्य गहो जाना, सेक्स से जुड़ी समस्याओं और फायदों के बारे में पूरी जानकारी और समझ हो जाना व शारीरिक रूप से तैयार हो जाना ही सही समय होना चाहिये।    
Images courtesy: © Getty Images

बच्चों के मनोविज्ञान के नज़रिये से

बच्चे हमेशा से ही अपने भीतर हो रहे और होने वाले परिवर्तनों के प्रति जिज्ञासू रहते हैं। जानने की ये प्रबल इच्छा के चलते वे टीवी, पत्र-पत्रिकाओं और इंटरनेट के माध्यम से आधी-अधुरी जानकारी जुटा कर आपने हिसाब से आंकलन करते हैं और सीख लेते हैं। जोकि बच्चे के मनोविज्ञान के लिए जोखिम भरा हो सकता है। ऐसे में यदि बच्चे को ठीक और सही तरीके से यौन शिक्षा दी जाए तो बच्चे के भटकने की संभावनाएं कम होंगी।
Images courtesy: © Getty Images

कम होंगी सेक्स समस्याएं

कई कुछ बच्चों सेक्स समस्याओं से जूझ रहे होते हैं, लेकिन इस बारे में अपने अभिभावकों को बता पाने में असमर्थ होते हैं। लेकिन स्कूल में यौन शिक्षा होने पर बच्चे का आत्मविश्वास बढ़ेता है और वह न सिर्फ अपनी समस्याओं के प्रति जागरूक होता है बल्कि सही समय पर अपने अभिभावकों को भी इस बारे में बता पाता है। बच्चों में होने वाले शारीरिक परिवर्त, बदलते हार्मोंस, सेक्स के दौरान रखी जाने वाली सावधानियां आदि के बारे में बताने के साथ-साथ सेक्स शिक्षा के दौरान एचआईवी एड्स संक्रमण और इस तरह के अन्य यौन संक्रमणों के बारे में जानकारी देना भी आवश्यक होता है।    
Images courtesy: © Getty Images

कच्ची उम्र में न होगा कौमार्य भंग

यदि वर्तमान के आंकड़ो पर गौर किया जाए तो यौवनावस्था में शहरों में हर चार में से एक लड़के-लड़कियां अपना कौमार्य भंग कर चुके होते हैं। ऐसी स्थिति में स्कूलों में सेक्स शिक्षा देना और भी जरूरी हो जाता है। जिससे उन्हें सेक्स के संबंध में परिपक्व निर्णय लेने में मदद मिलेगी। बच्चों को सेक्स शिक्षा के दौरान न सिर्फ सेक्स समस्याओं से रूबरू करवाया जा सकता है बल्कि कच्ची  उम्र में सेक्स करने के जोखिमों आदि के बारे में भी बताया जा सकता है।      
Images courtesy: © Getty Images

शिक्षा संबंधी सामग्री

यौन शिक्षा संबंधी सामग्री काफी संतुलित होनी चाहिए (जो कि शोध का विषय है)। न तो इसमें बिल्कुल ही खुलापन हो और न ही इसे बिल्कुल खत्म ही कर दिया जाए। यह कहना कि बच्चों को यौन शिक्षा देने से वे सेक्स के लिये और प्रेरित होंगे, ये एक एकदम बेतरतीब सा तर्क है। यदि बच्चों को यौन शिक्षा नहीं दी जाए तो वे गलत फैसला ले सकते हैं जिससे उनके भविष्य व स्वास्थ्य दोनों पर ही पर गलत प्रभाव पड़ सकता है।    
Images courtesy: © Getty Images

किशोरावस्‍था है सही समय

मात-पिता को सेक्‍स शिक्षा का आधार बनाना चाहिए ताकि वो किशोरावस्‍था में प्रवेश कर रहे अपने बच्‍चों को ठीक तरह से इसका ज्ञान दे सकें। अभिभावको को अपने किशोरों को समझाना चाहिये कि स्‍त्री उपभोग की वस्‍तु नहीं। साथ ही किशोरियों को बच्चियों को भी सही उम्र में सेक्‍स शिक्षा का सही ज्ञान देना चाहिये ताकि वह अपने ही परिवार और दोस्‍तों से होने वाले यौन दुर्व्यवहार को सही समय पर पहचान और रोक सकें।   
Images courtesy: © Getty Images

बड़े भी समझें सेक्स की सही परिभाषा

काम ऊर्जा मानव की एकमात्र ऊर्जा है जिसे वह समझ व देख-महसूस कर सकता है। इसका सही अर्थ जानना बेहद जरूरी है। लेकिन सेक्‍स को इस कदर गोपनीय व डर का विषय बना दिया गया है कि यह पवित्रता-और अपवित्रता के कटघरे में खड़ा पाया जाता है। धर्म की सही परिभाषा समझेंव  बच्चों को भी सही सिखाएं। अकसर सेक्‍स की सही शिक्षा न होने की वजह से दांपत्‍य जीवन भी कटु होता चला जाता है, जिसके कारण विवाह के बाहर सेक्‍स की तलाश, यौन विकृति व यौन हिंसा आदि में वृद्धि होती है। सही यौन शिक्षा न सिर्फ बच्चों के जीवन को बल्कि, माता-पिता के दांपत्‍य जीवन को सुखी, संतुष्‍ट व विश्‍वसनीय बनाएगा।
Images courtesy: © Getty Images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK