• shareIcon

हाई प्रोटीन डाइट के होते हैं ये 7 साइड इफेक्‍ट

प्रोटीन सेहत के लिए बेहद जरूरी है, ये तो हम सभी जानते हैं, लेकिन कई बार प्रोटीन की अतिरिक्त खुराक लेने की लत नुकसानदेह साबित हो सकती है, इसलिए बिना सोचे समझे अधिक प्रोटीन का सेवन करने से बचें।

एक्सरसाइज और फिटनेस By Aditi Singh / May 11, 2015

शरीर में हाई प्रोटीन की मात्रा

प्रोटीन डाइट को फिटनेस के लिए हेल्‍दी माना जाता है, और जो लोग जिम जाते हैं या वर्कआउट करते हैं वे अधिक प्रोटीन के सेवन पर जोर देते हैं। प्रोटीन को मांसपेशियों का भोजन कहा जाता है। लेकिन जब मांसपेशियों को आवश्यकता से अधिक भोजन खिलाया जाता है, तो उसका प्रभाव बाहरी रूप से ही दिखाई नहीं देता, शरीर के आंतरिक अंगों की कार्यप्रणाली को भी प्र‍भावित करता है।
Images courtesy@Getty Images

क्यों हानिकारक है हाई प्रोटीन

अधिक मात्रा में प्रोटीन का सेवन (कुल कैलोरी  में 30% से अधिक प्रोटीन डाइट का भाग) शरीर को नुकसान पहुंचाता है। इससे शरीर में कीटोंस की मात्रा बढ़ जाती है, जो कि विषैला पदार्थ है। कीटोंस को शरीर से बाहर निकालने के लिए शरीर को अतिरिक्त मेहनत करनी पड़ती है। इस पूरी प्रक्रिया में शरीर से ज्यादा मात्रा में पानी बाहर निकल जाता है, जिससे डीहाइड्रेशन भी हो सकता है।
Images courtesy@Getty Images

ऐसे लोग प्रोटीन से दूर रहें

किडनी की समस्या से जूझ रहे लोगों को भी उच्च प्रोटीन डाइट से परहेज रखने की सलाह दी जाती है। हमारी किडनी रक्त में प्रोटीन को भी शुद्ध करने का काम करती है। उच्च प्रोटीन डाइट लेने वालों में यूरिक एसिड बढ़ जाता है। पेशाब में कैल्शियम की मात्रा कम निकलती है। कैल्शियम की यह अतिरिक्त मात्रा किडनी में लंबे समय तक जमने से पथरी का रूप ले सकती है। हड्डियों की समस्या जैसे रूमेटाइड आर्थराइटिस की स्थिति से जूझ रहे लोगों को भी उच्च प्रोटीन डाइट से बचने की सलाह दी जाती है।
Images courtesy@Getty Images

क्या कहते हैं विशेषज्ञ

विशेषज्ञो की मानें तो कम मात्रा में प्रोटीन का सेवन शरीर में कैल्श्यिम के अवशोषण को प्रभावित होगा व हड्डियां भी कमजोर हो जाएंगी। आयु को ध्यान न रख लंबे समय तक हाई प्रोटीन डाइट लेना हड्डियों को नकारात्मक रूप से प्रभावित करता है। पेड़-पौधों से मिलने वाला प्रोटीन हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए अधिक उपयुक्त माना जाता है। इनके सेवन से पशु प्रोटीन की तुलना में कैल्शियम का अवशोषण बेहतर तरीके से होता है। हालांकि मीनोपॉज के बाद महिलाओं को ऑस्टियोपोरोसिस से बचने के लिए प्रोटीन की उचित मात्रा के सेवन पर अवश्य ध्यान देना चाहिए।
Images courtesy@Getty Images

कितना उपयोगी है प्रोटीन हमारे लिए

प्रोटीन शरीर के लिए बेहद जरूरी है। हमारे शरीर का 18-20% भार प्रोटीन के कारण होता है। हमारे शरीर में 1000 से अधिक प्रोटीन पाए जाते हैं। शरीर की जरूरत को ध्यान न रख केवल लंबे समय तक उच्च प्रोटीन डाइट लेना ही शरीर को नुकसान पहुंचाता है। प्रोटीन शरीर के सुचारू रूप से कार्य करने के लिए जरूरी है। शरीर से टॉक्सिन को बाहर निकालता है। शरीर का पीएच लेवल बनाए रखता है।
Images courtesy@Getty Images

कितना प्रोटीन चाहिए आपको

आपकी कुल कैलोरी का कम से कम 10 प्रतिशत और अधिक से अधिक 35 प्रतिशत प्रोटीन से आना चाहिए। प्रोटीन की गणना के लिये अपनी सक्रियता के अनुसार 80 मिलीग्राम से 1 ग्राम प्रति किलोग्राम के हिसाब से गणना करें। अगर आप अत्यधिक शारीरिक श्रम करते हैं तो अपने भार के प्रति किलोग्राम के हिसाब से 35 कैलोरी का सेवन करना चाहिए। अगर आप शारीरिक रूप से सक्रिय हैं तो 32-33 कैलोरी प्रतिग्राम के अनुसार गणना करें। अपने भार को कैलोरी की आपकी आवश्यक मात्रा से गुना करके प्रतिदिन के लिये कैलोरी की गणना कर लें।
Images courtesy@Getty Images

अंगों को नुकसान

कई बार लोग हाई प्रोटीन के सेवन की मात्रा बढ़ा देते हैं और शरीर में प्रोटीन की ज्यादा मात्रा किडनी व लीवर को नुकसान पहुंचा सकती है। किडनी व लीवर के रोगियों में तो इसकी संभावना बहुत होती है। यह भी हाई प्रोटीन  का एक नकारात्मक गुण होता है।मारे शरीर को प्रोटीन के साथ-साथ अन्य पोषक तत्व जैसे कैल्शियम, आयरन, विटामिन व खनिज आदि की भी उतनी ही जरूरत होती है। केवल हाई प्रोटीन पर निर्भर हो जाने की वजह से कुपोषण की समस्या भी हो सकती है।
Images courtesy@Getty Images

प्रोटीन के अच्छे स्त्रोत

प्रोटीन शरीर के लिए बहुत उपयोगी है। लेकिन यह जरूरी है कि उचित मात्रा में अच्छे प्रकार का प्रोटीन खाएं।वसायुक्त प्रोटीन के स्त्रोत के मुकाबले सोयाबीन प्रोटीन का ज्यादा बेहतर स्त्रोत है। प्रतिदिन पचास ग्राम सोयाबीन के सेवन से शरीर में कोलेस्ट्रॉल का स्तर 3 प्रतिशत तक कम हो जाता है।अखरोट प्रोटीन का एक अच्छा स्‍त्रोत है। दूध, पनीर और दही सिर्फ प्रोटीन के अच्छे स्त्रोत ही नहीं हैं, बल्कि कैल्शियम और विटामिन डी के भी अच्छे स्त्रोत हैं।
Images courtesy@Getty Images

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK