Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

7 कारण जो इबोला की चिंता की वजह नहीं होते

इबोला एक जानलेवा वायरस है जो कि शरीरिक तरल पदार्थ या जानवरों से संपर्क में आने से फैल सकता है। हालांकि यह कुछ सीमित कारणों की वजह से ही फैलता है।

संक्रामक बीमारियां By Rahul SharmaOct 22, 2014

इबोला की चिंता

दुनियाभर में इन दिनों इबोला नामक वायरस का खौफ फैला है। इबोला एक जानलेवा वायरस है जो कि शरीरिक तरल पदार्थ या जानवरों से संपर्क में आने से फैल सकता है। इस बीमारी का अभी तक कोई इलाज नहीं है और ना ही इसके लिये कोई टीका बनाया गया है। अध्ययनों से पता चला है कि इबोला जैसे वायरस स्तनपाई जानवरों से आते हैं। हालांकि इस वायरस से बचा जा सकता है और इसके कारण जल्द ही प्रदर्शित होते हैं तो आपको हर चीज़ को लेकर घबराने की जरूरत नहीं होती है।  
Image courtesy: © Getty Images

इसका पाता लगाना आसान है

वायरस से संक्रमित व्यक्ति को इस बीमारी के लक्षण दिखाना शुरू हो जाते हैं, और पारंपरिक बीमारियों के ये लक्षण अलग होते हैं। इसलिए बीमारी का पता लगाना आसान है और वायरस का पता लगाने के बाद प्रारंभिक अवधि के दौरान ही इसके प्रति सचेत हुआ जा सकता है।
Image courtesy: © Getty Images

खाना खाने से नहीं फैलता इबोला

हां, यह सच है कि ये वायरस प्राइमेट पर भी हमला करता है। हालांकि, हाल ही में जारी अनुसंधान विश्लेषण के अनुसार, जो खाना आप खाते हैं, उससे इबोला नहीं फैलता है। मांस सहित हमारे उपभोग किया जाना वाला रोज़मर्रा का खाद्य पदार्थ, इस वायरस से प्रभावित नहीं होता है।
Image courtesy: © Getty Images

सांस के जरिये नहीं फैलता इबोला

इबोला के मरीज को सबसे अलग रखा जाता है। लेकिन यह बीमारी अन्‍य बीमारियों की तरह सांस से नहीं फैलती, बल्‍कि यह रोगी के साथ सीधे संक्रमण के संपर्क में आने पर ही फैलती है। इस बीमारी का वायरस उसके पसीने या किसी और द्रव्य से फैल सकता है। रोगी की मृत्‍यु के बाद भी यह वायरस वातावरण में जिंदा रहता है।
Image courtesy: © Getty Images

हवाई अड्डे हाई अलर्ट पर हैं

इबोला रोग के हाल ही में सुर्खियों में छा जाने के बाद से अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों पर हाई अलर्ट जारी किया गया है। तो इस बीमारी के दूसरे देश से आने के बारे में चिंता करने की जरूरत नहीं है। हालांकि इस बात का एतियात के तौर पर ध्यान रखा जा रहा है।  
Image courtesy: © Getty Images

उठाए जा रहे कदम निश्चित रूप से प्रो-एक्टिव हैं

डब्ल्यूएचओ सहित कई महत्वपूर्ण विश्व संगठनों ने इस रोग का गंभीरता से संज्ञान लिया है। रिसर्चों में अभूतपूर्व प्रगति देखी गई है तथा ऐसा माना जा रहा है कि इस रोग के प्रसार को जल्दी ही मूल रूप से रोका जा सकेगा। Important world organisations
Image courtesy: © Getty Images

कम मृत्यु दर

पहली बार 1976 में ज़ैरे में इबोला का पता चला था। इसकी पहचान के बाद, तब से अब तक करीब 6000 लोगों इस हालत से प्रभावित होने के बाद मृत्यु का शिकार बने हैं। संख्या निश्चित रूप से उच्च है, लेकिन कुछ अन्य संकमणों के मुकाबले ये आंकड़ा आभी तक कम है।  
Image courtesy: © Getty Images

इसे रोका जा सकता है

स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि इस बीमारी को रोका जा सकता है। कयोंकि यह वायरस केवल मानव संपर्क के माध्यम से फैलता है। साफ पानी, साबुन और सैनेटाइज़र जैसी बुनियादी चीजों के सही उपयोग से इसके संपर्क से बचा जा सकता है।  
Image courtesy: © Getty Images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK