• shareIcon

आपकी एनर्जी को कम करती हैं रोजाना की ये 7 आदतें

क्या आप जानते हैं आपकी दिनभर की थकान का कारण सिर्फ काम ही नहीं बल्कि आपकी आदतें हैं, ये छोटी-छोटी आदतें आपकी शरीर की ऊर्जा को कम करती हैं, इसलिए एनर्जेटिक रहने के लिए इन आदतों के बारे में जानना बहुत जरूरी है।

एक्सरसाइज और फिटनेस By Aditi Singh / Mar 12, 2015

एनर्जी को वेस्‍ट ना करें

सुबह उठने के बाद आलस आता है तो उसके पीछे अधूरी नींद जिम्मेदार है, लेकिन जैसे-जैसे दिन बीतता है आपके ऊर्जा का स्‍तर कम होता जाता है तो इसके पीछे केवल अधूरी नींद ही जिम्‍मेदार नहीं है। कई बार तो भरपूर नींद लेने के बाद भी आप शाम ढलते-ढलते ऊर्जा रहित हो जाते हैं। इन सबके पीछे छोटी-छोटी आदतें जिम्‍मेदार हैं और इन आदतों के कारण ही आपके शरीर से ऊर्जा कम होती है। आगे के स्‍लाइड शो में जानिए रोजमर्रा की उन छोटी-छोटी आदतों के बारे में जिनसे ऊर्जा कम होती है।
ImageCourtesy@GettyImages

छुट्टियों में न करें काम

कैसी छुट्टी ली है आपने जो आपको वैकेशन पर भी काम करा रही है। छुट्टियों का मतलब होता है, खुद के साथ, परिवार व दोस्तों के साथ समय बिताना, मौज-मस्ती करना और आराम करना ना कि ऑफिस के मेल चेक करते रहना। अगर छुट्टियों पर भी आप काम करते रहें तो आपका मन और शरीर थका सा ही रहेगा। इसलिए छुट्टी पर आराम करें। इससे आपका शरीर और मन नई ऊर्जा से भर जाएगा।
ImageCourtesy@GettyImages

ना कहना सीखें

ना कहना, बुरी बात नहीं होती है। इस बात को समझना जरूरी होता है। अक्सर हम दूसरों की खुशी के लिए बहुत सारा काम अपने जिम्मे ले लेतें हैं। लेकिन उसके लिए हम अपने शरीर को दुख पहुंचाते हैं और उनका काम करने में ही अपनी ऊर्जा खर्च करते हैं। इसलिए न कहना बहुत जरूरी है और हमेशा अपनी क्षमता के अनुसार ही काम करें। इसलिए कोई भी काम हाथ में लेने से पहले ये तय कर लें कि उस काम में आपकी एनर्जी वेस्ट तो नहीं हो रही।
ImageCourtesy@GettyImages

जंक फूड पर ना रहे जिंदा

फूड हमारी सेहत के लिए कभी भी फायदेमंद नहीं रहा। ये हमें मोटापा जैसी कई बीमारियों का शिकार बना देता है। इसमें पाये जाने वाले शुगर और कार्ब्स ग्‍लाइसेमिक इन्डेक्स को बढ़ाते हैं। ब्लड शुगर का लगातार बढ़ना थकान का एक कारण होता है। खाने में अनाज और प्रोटीन लेने से बल्ड शुगर संतुलित रहता है। इस बात का ध्‍यान रखें।
ImageCourtesy@GettyImages

नाश्ता ना करना

शरीर को ऊर्जा खाने से ही मिलती है और इससे हम एक्टिव रहते हैं, यानी खाना हमारे शरीर के लिए ईंधन की तरह है। शरीर रातभर रक्त संचार और ऑक्सीजन का प्रवाहन आपके डिनर से करता है। सुबह जब आप सोकर उठते हैं तो फ्यूल दोबारा भरने की जरूरत होती है। अगर आप ब्रेकफास्ट नहीं करते हैं तो आपको दिनभर थकान और आलस का अनुभव होता रहेगा क्योंकि आपके शरीर को एक्टिव रखने के लिए जरूरी ऊर्जा शरीर में नहीं है। इसलिए ब्रेकफास्‍ट करना न भूलें। आप ब्रेकफास्ट में अंडे, बादाम, मक्खन, लो फैट मिल्क आदि ले सकते है।  
ImageCourtesy@GettyImages

राई का पहाड़ ना बनाएं

राई का पहाड़ बनाने वाली आदतों को तुरंत ही छोड़ दे। ये आपको नकारात्मक भावों से भर देती है। इससे आपका दिमाग थका-थका सा अनुभव करने लगता है। जो आपके शरीर की ऊर्जा को भी बरबाद कर देता है। अगर आपके मन में भी ऐसे ख्याल आते हो, तो लंबी सांसें लो और मन को शांत करें। कई बार मन में नकारात्मक ख्याल आते रहते है, जो आपके कार्य की क्षमता को भी प्रभावित करते है और आपके आत्मविश्वास को भी हिला देते है। इसलिए कोई भी समस्या आने पर परेशान ना हो। उस पर शांति से विचार करें।  
ImageCourtesy@GettyImages

थके होने पर भी ना छोड़ें एक्सरसाइज

थके होने के कारण अक्सर हम एक्सरसाइज नहीं करते, हमको लगता है कि इससे हमारा शरीर को आराम मिलेगा। आपको जानकार हैरानी होगी इशा असर ठीक उल्टा होता है।आप ज्यादा एक्सरसाइज ना करें।आपको थकान है तो आप अपनी रेगुलर एक्सरसाइज को ही करें। इससे आपका एनर्जी लेवल बूस्ट अप होगा। ये आपके कोशिकाओं को ऑक्सीजन और पोषण देगी।  आपका दिल अच्छे से काम करेगा।    
ImageCourtesy@GettyImages

खूब सारा पानी पियें

लोगों में अक्सर पानी ना पीने की आदत देखी जाती है। ये आदत आपकी सेहत के लिए नुकसानदायक होती है। य़े आपको डिहाइड्रेशन की समस्या कर सकती है। कम पानी पीने से कॉन्स्टिपेशन, बदहजमी, पेट की समस्या, जलन, थकान जैसी बीमारियां उत्पन्न होती हैं। दिन भर में कम से कम तीन से चार लीटर पानी पीना चाहिए।  मनुष्य को (जठर) अग्नि बढ़ाने के लिए बार-बार थोड़ा-थोड़ा पानी पीना चाहिए।
ImageCourtesy@GettyImages

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK