Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

त्‍वचा को प्रभावित कर सकता है आपका लाइफस्‍टाइल

आपके जीवन जीने का तरीका आपके मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य के साथ-साथ आपकी त्‍वचा पर भी एक प्रभाव छोड़ देता है। आपकी खाने की आदतों से लेकर आपकी दिनभर में आने वाली चीजें निर्धारित करती है कि आपकी त्‍वचा कैसे दिखेगी। अपने जीवन शैली के विकल्‍पों में कुछ सुधार कर आ

फैशन और सौंदर्य By Pooja SinhaJun 03, 2014

त्‍वचा को प्रभावित करने वाले कारण

साफ, बेदाग और चमकती हुई त्‍वचा भला किसे अच्‍छी नहीं लगती। लेकिन जीवन में आपके द्वारा चुना आहार, एक्‍सरसाइज की कमी और चेहरे पर उपयोग करने विभिन्‍न उत्‍पाद त्‍वचा पर गहरा प्रभाव डालने लगते है। जीवन में नित आये अलग-अलग प्रकार के अनुभव आपकी त्‍वचा की बनावट पर असर डालते हैं। आइए ऐसे ही कुछ अनुभवों के बारे में जाने। image courtesy : getty images

खाने की आदते

जो आहार आप खाते हैं, वह आपकी त्‍वचा की बनावट को स्‍वस्‍थ रखने में एक महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाता है। अगर आपके आहार में पर्याप्‍त विटामिन सी की कमी और फैट और कार्बोंहाइड्रेट से अधिकता होगी तो आपकी त्‍वचा अस्‍वास्‍थ्‍यकर लगने लगेगी। image courtesy : getty images

विटामिन की अनुपस्थिति

किसी भी कारण से आहार में विटामिन की उचित मात्रा के अभाव की कीमत आपकी त्‍वचा को चुकानी पड़ती है। सूरज की हानिकारक किरणों के संपर्क और आहार में विटामिन की कमी त्‍वचा की क्षति के जोखिम बढ़ा देती है। विटामिन और मिनरल से भरपूर आहार न केवल आपकी त्‍वचा की रक्षा करता है बल्कि झुर्रियों की समस्‍या से भी निजात दिलाता है। image courtesy : getty images

एक्‍सरसाइज की कमी

एक्‍सरसाइज की कमी से भी त्‍वचा बेजान होने लगती हैं। इसलिए अपनी दिनचर्या में नियमित रूप से एक्‍सरसाइज की आदतों को शमिल करें। यह आपके शरीर के सबसे बडे अंग यानी त्‍वचा के लिए बेहद फायदेमंद होती है। वर्कआउट से शरीर में ब्‍लड सर्कुलेशन में वृद्धि होती है जिससे त्‍वचा को पोषण मिलता है।  image courtesy : getty images

सोने का अभाव

अगर आपका शरीर समुचित आराम नहीं मिलेगा तो इसका सीधा असर आपकी त्‍वचा पर नजर आने लगता है। आंखों के नीचे काले घेरे, सूजन और पीली त्‍वचा यह सभी अस्‍वस्‍थ त्‍वचा के लक्षण हैं। एक मानव शरीर को त्‍वचा के कायाकल्‍प के लिए कम से कम 7-8 घंटे की भरपूर नींद की जरूरत होती है। image courtesy : getty images

गर्भावस्था

महिला के शरीर पर सबसे अधिक दिखाई देने वाला गर्भावस्‍था का प्रभाव स्ट्रेच मार्क्स के निशान है। लगभग सभी महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान शरीर के विभिन्न भागों पर स्ट्रेच मार्क्स के निशान होते है। इन बदसूरत निशान से लड़ने के लिए महिलाओं को गर्भावस्‍था के शुरुआती दिनों से ही मॉइस्चराइजर और अन्य ऑइंटमेंट्स को लगाना चाहिए। image courtesy : getty images

झाइयां

स्‍ट्रेच मार्क्‍स के अलावा कुछ महिलाएं गर्भावस्‍था के दौरान या गर्भनिरोधक गोलियों के उपभोग के समय त्‍वचा पर काले रंग के धब्‍बों का भी अनुभव करती हैं, जिसे झाइयां कहते हैं। इन झाइयों के निशान को सनस्‍क्रीन और सूरज की हानिकारक किरणों के संपर्क में आने से बचने के द्वारा रोका जा सकता है। image courtesy : getty images

एजिंग

एक उम्र के बाद आपका शरीर कोलेजन का उत्‍पादन करना कम कर देता है जिससे आपकी त्‍वचा को लोच मिलती है। जिससे त्वचा कोशिकाओं का उत्पादन धीमा हो जाता है। उम्र बढ़ने की इस प्रक्रिया को मृत त्वचा को हटा कर रोका जा सकता है। इसके अलावा त्‍वचा पर उम्र के असर को कम करने के लिए नियमित रूप से त्वचा को मॉइस्चराइज करें। image courtesy : getty images

कैफीन की अधिक खपत

दिनभर में लिए जाने वाले कैफीन युक्त पेय पदार्थ की एक बड़ी मात्रा आपके त्‍वचा के लिए बहुत नुकसानदेह हो सकती है। लेकिन एक शोध के अनुसार, कैफीन को बाह्य त्वचा पर लागू करने से त्‍वचा को सूरज की हानिकारक किरणों के नुकसान से बचाया जा सकता है और त्‍वचा कैंसर के खतरे को कम कर सकते हैं। image courtesy : getty images

शराब

सामाजिक और तनाव को कम करने के लिए आज शराब शहरी जीवन का एक आवश्‍यक अंग बन गई है। शराब मूत्रवर्धक होने के कारण शरीर को डिहाड्रेट करता है और त्वचा में सूखेपन का कारण बनता है। इसलिए स्वस्थ और चमकदार त्वचा पाने की चाहत के लिए शराब का सेवन न करना ही सबसे अच्छा उपाय है। image courtesy : getty images

धूम्रपान

अगर आपको लगता है कि धूम्रपान केवल आपके फेफड़ों पर ही बुरा असर डालती है तो आपको यह जानकर आश्‍चर्य होगा कि धूम्रपान झुर्रियां और सूखी त्वचा का कारण भी होता है। जब आप माइक्रोस्‍कोप के तहत देखेगें तो पायेगें कि 20 साल के सिगरेट पीने वाले युवा के चेहरे पर भी झुर्रियां होती है। image courtesy : getty images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK