• shareIcon

रिश्ते को बनाये रखने के दस मंत्र

यदि आप दोनों के बीच दूरियां बढ़ती जा रही हैं, तो जाहिर सी बात है कि आपके बीच कुछ कमियां हैं। तो इस कमियों को पहचानिये और समय रहते अपने रिश्ते को टूटने से बचाइये।

डेटिंग टिप्स By Rahul Sharma / Mar 07, 2014

बनते-बिगड़ते रिश्ते

किसी प्यार भरे रिश्ते में दो मन एक साथ बड़े अरमानों के साथ जुड़ते हैं। लेकिन जैसे-जैसे समय बीतता है, रिश्तों का सौंधापन ना जाने कहां चला जाता है और तकनीकी रूप से दो लोग साथ होते हुए भी साथ नहीं रह पाते। वाकई, भला कौन सा जोड़ा नहीं चाहता कि उनके बीच के रिश्ते में हमेशा प्यार और खुशियों की मिठास घुली रहे। लेकिन बावजूद इसके कई गलतियां रिश्ते में खटास पैदा कर देती हैं। आमतौर पर इसकी वजहें छोटी होती हैं लेकिन यही समय के साथ संबंध तोड़ने का सबब बन जाती हैं। तो इस कमियों को पहचानिये और समय रहते अपने रिश्ते को टूटने से बचा लीजिए।

स्ट्रोंग कम्युनिकेशन

यदि आप दोनों के बीच दूरियां बढ़ती जा रही हैं, तो जाहिर सी बात है कि आपके बीच का कम्युनिकेशन ठीक नहीं है। अमूमन ज्यादातर जोड़े रोज घटने वाली घटनाओं को लेकर आपस में बातचीत करते हैं। लेकिन केवल इतने से यह समझ लेना कि आपस में कम्युनिकेशन ठीक है, सही न होगा। स्ट्रोंग कम्युनिकेशन तो तब होगा जब आप सुकून से बैठकर एक-दूसरे से आप अपने लक्ष्य, विचार, सपने और परेशानियों के बारे में खुल कर दिल से बातचीत करेंगे। यदि रोज थोड़ी देर अपने व्यस्थ रुटीन और दुनिया दारी के अलावा आप एक दूसरे से बात करेंगे तो आपसी रिश्ते मजबूत होंगे।

साथी की परवाह

यदि आपका अपने आप में ही व्यस्थ रहते हैं और पार्टनर पर ध्यान नहीं देते तो समझ जाइए, साथी के दिल में आपकी जगह कम होने लगी है। ये हरकत आपके साथी के मन में दोनों के बची किसी तीसरे की मौजूदगी का शक पैदा कर सकता है। इसलिए अपने मनोरंजन व अन्य कामों में अपने साथी को भी शामिल करें और उसका ध्यान रखें।

दिल से न लगाएं झगड़े

यदि आप दोनों छोटी-छोटी बातों पर उलझने लगें, इस झगड़ों को दिल से लगाकर एक दूसरे का सामना करने से कतराने लगें, घर पर रहते हुए भी एक-दूसरे को नजरअंदाज करें, तो आपका रिश्ता नाजुक मोड़ पर है। इसलिए बड़ा दिल दिखाएं और छोटी-छोटी बातों को बड़ा होने से पहले ही खतम कतर दें।

अतीत को अतीत रहने दें

यदि आप आपने साथी के अतीत को कुरेदने लगेंगे, बीती बातों को लेकर उसे ताने मारेगें, अपशब्दों का प्रयोग करेंगे या उसके घर वालों को अपमानित करेंगे या नीचा दिखाएंगे, तो आपका रिश्ता खतरे में पड़ सकता है। इसलिए अतीत को न कुरेदें, वर्तमान में जिएं। गलतियां सीखने के लिए होती हैं, उन्हें उपने रिश्ते के खातमे का कारण न बनाएं।

विश्वास बनाकर रखें

अगर आप दोनों में से किसी एक को भी दूसरे की ईमानदारी पर भरोसा नहीं है तो ऐसे में रिश्ता बहुत दिन तक नहीं चल पाता। कई बार पार्टनर्स के बीच गलतफहमियों की वजह से अविश्वास की स्थिति पैदा हो जाती है, और उन्हें लगने लगता है कि वे एक-दूसरे को चीट कर रहे हैं। ऐसे में गलतफहमियों के बारे में खुलकर बात करें। यकीन मानिये हर समस्या का सामाधान होता है, और बात करने से बड़ी से बड़ी समस्या को सुलझाया जा सकता है।

बेहतर हो सेक्स लाइफ

यदि आपकी सेक्स लाइफ नीरस है या दोनों में से कोई एक सेक्स में रूचि नहीं ले रहा, तो ये भी आपका रिश्ता टूटने की एक वजह हो सकती है। कई बार पति-पत्नी के बीच प्यार में कोई कमी नहीं होती, फिर भी उनके बीच सेक्स को लेकर परेशानियां पैदा होने लगती हैं। रिश्ते के शुरुआती बरसों में जोडें के बीच सेक्स संबंधों में जो गरमाहट होती है, वह धीरे-धीरे कम होती जाती है। इससे बचने के लिए आपको एक-दूसरे से अपने सेक्स अनुभव शेयर करने चाहिए, अपनी फैन्टेसीज बताएं और सेक्स में क्या अपेक्षाएं हैं, इस पर खुलकर बात करें। एक दूसरे को सरप्राइज़ करें।

रिश्ते की अहमियत समझें

अपने रिश्ते की अहमियत समझें और इसकी इज्जत करें। एक दूसरे का ध्यान रखें, अगर आप कभी किसी काम में फंस गए हैं और घर देर से आते हैं तो अपने साथी को इसकी सही वजह बताएं। छोटे-छोटे झूठ बोलने से बचें क्योंकि कई बार एक छोटा-सा झूठ बड़े शक की वजह बनता है और रिश्ते को खराब कर देता है।

खुद के लिए भी समय निकालें

किसी रिश्ते की जिम्मेदारी समझने का अर्थ यह नहीं कि जिम्मेदारियों में पूरी तरह डूब जाएं और खुद को या अपने साथी को एकांत ही न दें। वास्तव में खुशहाल दांपत्य जीवन वही है, जिसमें स्त्री और पुरूष दोनों को अपने लिए कुछ वक्त मिले। अकेले जब आपको खुद के साथ समय बिताने का मौका मिलेगा तो आप खुद को और बेहतर जान पाएंगे/ पाएंगी और अपनी इच्छाओं और चाहतों को गहराई से समझ सकेंगी/ सकेंगी। इसी प्रकार खुद के साथ समय बिताने का मौका अपने साथी को भी दें। यह क्रिएटिव समय आपकी ऊर्जा में भी वृद्धि करेगा और आपको खुशी भी देगा।

पैसे की आपाधापी

पार्टनर्स के बीच पैसा एक संवेदशील मुद्दा होता है। खासकर के जब दोनों कमाऊ हैं तो अपने वेतन को कैसे खर्च करना है और कहां इन्वेस्ट करना है, ये अक्सर विवाद का विषय बन जाता है। इससे बचने के लिए दोनों को मिल-बैठ कर हर महीने का बजट बनाना चाहिए और उसी हिसाब से सहमती बनाकर खर्च करना चाहिए। इस प्लेनिंग में शॉर्ट टर्म इंवेस्टमेंट के साथ-साथ बड़े खर्चों पर भी विचार करना चाहिए तभी गृहस्थी की गाड़ी बिना रुकावट के चलती रही।

कैसे सुलझाएं उलझनें

रिश्ते को सही ट्रेक पर रखने के लिए एक-दूसरे की इज्जत करें। बोलने और व्यवहार में एक-दूसरे के प्रति आदर रहें। अपने साथी पर रोब न दिखाएं और उसे नीचा दिखाने की कोशिश भी न करें। अपने साथी को अच्छी बातों के लिए एप्रीशिएट करें। इससे एक-दूसरे का महत्व स्थापित होता है और जुड़ाव भी बढ़ता है। अगर आपकी बात पूरी न हो तो नाराज होने के बजाय कारण समझने की कोशिश करें और शांत होकर प्यार से बात करें। आपस में सीमाओं में रहकर हंसी-मजाक करें और अपने रिश्ते का आनंद लें।

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK