• shareIcon

भोजन करने के बाद क्यों आती है तेज नींद

दोपहर के भोजन के बाद अक्सर नींद आती है, लेकिन कभी आपने सोचा है कि ऐसा क्यों होता है? हालांकि इस विषय पर विशेषज्ञों के भी कई अलग-अलग मत हैं, और इसके कई कारण हो सकते हैं।

तन मन By Rahul Sharma / Sep 05, 2014

भोजन और नींद का संबंध

आप अकसर महसूस करते होंगे कि भोजन करने के बाद शरीर में भारीपन, सुस्ती या आपको नींद आने लगती है। बच्चे तो दूध पीते-पीते ही सो जाते हैं, वहीं बड़े भोजन के बाद कुछ समय आराम करते हैं। हालांकि यह पूरी तरह सामान्य है और इसको लेकर कई अगल-अलग तथ्य हैं, लेकिन कभी आपने सोचा है कि ऐसा क्यों होता है? नहीं! तो चलिये आज आपको बताते हैं कि हमें भोजन करने के बाद क्यों आती है तेज नींद....  
Image courtesy: © Getty Images

स्लीपर्स

हमारे जीवन में नींद और भोजन का गहरा संबंध होता है। दरअसल कुछ खाद्य पदार्थ ऐसे होते हैं, जिनके सेवन के बाद हमें तेज नींद आती है। इन्हें हम 'स्लीपर्स' कहा जाता है। इनमें से प्रमुख खाद्य पदार्थ पनीर, चीज, सी-फूड, दालें आदि हैं। इनका सेवन करने पर हमारे शरीर की नसों में खिंचाव कम होता है, जिससे हमें मींठी नींद आने लगती है।
Image courtesy: © Getty Images

वेकर्स

स्लीपर्स के विपरीत कुछ खाद्य पदार्थ ऐसे हैं, जो खाने से हमारा दिमाग सक्रिय हो उठता है और हमें नींद नहीं आती। इन खाद्य पदार्थों को 'वेकर्स' कहा जाता है। ये खाद्य पदार्थ हैं, चाय, कॉफी, चॉकलेट, कोला, स्नैक्स, अधिक शक्करयुक्त खाद्य पदार्थ वेकर्स की श्रेणी में आते हैं।
Image courtesy: © Getty Images

क्यों होता है ऐसा

दरअसल भोजन करने पर हमारी पाचन क्रिया शुरू हो जाती है। और इस क्रिया के लिए हमारे पेट को ज्यादा रक्त की जरूरत होती है। सामान्य परिस्थितियों में हृदय से आने वाले रक्त का 28 प्रतिशत लिवर को, 24 प्रतिशत लंग्स को, 15 प्रतिशत मांसपेशियों, 14 प्रतिशत दिमाग को तथा 19 प्रतिशत शरीर के अन्य भागों में जाता है। खाना खाने से कुछ समय के लिए दिमाग में रक्त की मात्रा कम हो जाती है जिस कारण उसकी क्रियाशीलता थोड़ी धीमी हो जाती है और सुस्ती और नींद का अनुभव होने लगता है।
Image courtesy: © Getty Images

अगल-अलग मान्यताएं

दिमाग में रक्त की मात्रा कम हो जाने की बात के उलट खुल विशेषज्ञों का मानना है कि यदि रक्त का प्रवाह ही कारण होता, तो हमें नाश्ता करने या जिनर करने के तुरंत बाद नींद क्यों नहीं आती। इसके पीछे वे कुछ अन्य कराण मानते हैं। जैसे.....
Image courtesy: © Getty Images

ऑवर टाइम वर्क

हमारा मस्तिष्क और आंतें दो ऐसे अंग हैं, जिन्हें प्रभावी ढंग से काम करने के लिए ऊर्जा की बड़ी मात्रा की आवश्यकता होती है। और जब लंच के समय अधिक कैलोरी वाला भोजन किया जाता है तो मस्तिष्क ऊर्जा को पाचन की ओर स्थानांतरित करता है। इसके लिए वह लाल रक्त कोशिकाओं को भोजन तोड़ने शरीर में पोषक तत्वों ले जाने के लिए भेजता है। जिस कारण शरीर सुस्त पड़ जाता है और नींद आती है।  
Image courtesy: © Getty Images

एडेनोसाइन के कारण

होमियोस्टेटिक (homeostatic) नींद ड्राइव और बॉडी साइकिल (सरकाजियन) भी इसका एक बड़ा कारण हैं। दरअसल स्लीप ड्राइव मस्तिष्क के भीतर एक रसायन का क्रमिक निर्माण (एडेनोसाइन) के कारण होती है। तो जितनी देर इंसान जागा हुआ रहता है, एडेनोसाइन उसके भीतर सोने की उतनी इच्छा प्रेरित करता है। एडेनोसाइन रात को सोने के पहले व दोपहर को ज्यादा होता है। जिस कारण भी हमें खाने के बाद नींद आती है।
Image courtesy: © Getty Images

इंसुलिन

खाने के बाद (विशेष रूप से मीठे खाद्य पदार्थ), अग्न्याशय इंसुलिन का उत्पादन करता है, जो रक्तधारा में मिल जाता है। इंसुलिन के स्तर में वृद्धि ट्रीप्टोफन (tryptophan) की कार्रवाई को तेज कर देता है, जो दिमाग में मौजूद एक आवश्यक अमीनो एसिड होता है और डाइट से ही मिलता है। जिस कारण भी दोपहर के भोजन के बाद नींद आती है।
Image courtesy: © Getty Images

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK