Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

डेमेंशिया का निदान क्यों महत्वपूर्ण है

एक रिपोर्ट के अनुसार दुनिया भर में डिमेन्शिया और अल्जाइमर के पीड़ितों ऐसे लोगों की बड़ी संख्या है जिनका इलाज नहीं हो पाता है। हालांकि गंभीरता को देखते हुए डेमेंशिया का निदान बहुत महत्वपूर्ण है।

मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य By Rahul SharmaSep 20, 2014

डेमेंशिया का निदान

लंदन के किंग्स कॉलेज द्वारा प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार दुनिया भर में डिमेन्शिया और अल्जाइमर के पीड़ितों ऐसे लोगों की बड़ी संख्या जिनका इलाज नहीं हो पाता है। किंग्स कॉलेज की रिपोर्ट की विश्व रिपोर्ट के अनुसार दुनिया भर में दो करोड़ 70 लाख लोग अल्जाइमर से पीड़ित हैं। इसके साथ ही भूलने की बीमारी से पीड़ित तीन करोड़ 60 लाख लोगों में अभी इस बीमारी का पता ही नहीं लग पाया है। इस लिए इस बीमारी का जल्द निदान किया जाना बेहद जरूरी हो जाता है।
Image courtesy: © Getty Images

डिमेंशिया क्या है

डिमेंशिया एक ऐसा रोग है जिसमें व्यक्ति की याददाशत कमजोर होने लगती है। उसे कुछ याद रखने में दिक्कत होने लगती है। कोई ताजा बात याद करने में भी उसे दिमाग पर बहुत जोर डालना पड़ता है। यह रोग तब गंभीर रूप ले लेता है जब रोगी की याददाश्त बिल्कुल खत्म हो जाती है।
Image courtesy: © Getty Images

डिमेंशिया के कारण

हालांकि अब तक इसका यथार्थ कारम पता नहीं चला है, लेकिन आमतौर पर डिमेंशिया होने के दो कारण होते हैं। पहला मस्तिष्क की कोशिकाओं का नष्ट होना और दूसरा उम्र बढ़ने के साथ मस्तिष्क की कोशिकाओं का कमजोर हो जाना। यह सिर पर कोई गंभीर चोट लगने या कोई रोग जैसे ब्रेन टुमेर अल्जाइमर आदि, जिससे कोशिकाएं नष्ट हो सकती है, के होने से पर होता है।
Image courtesy: © Getty Images

डिमेंशिया उम्र बढ़ने पर भूलने की बीमारी से अलग है

कई लोग डिमेंशिया को “भूलने की बीमारी” कहकर टाल देते हैं। वहीं कुछ अन्य लोग कोई छोटी सी बात भूलने पर भी विचलित हो जाते हैं। उन्हें डिमेंशिया का भय घेर लेता है। जबकि सच तो यह है कि हम सब कभी न कभी कुछ न कुछ भूलते हैं, लेकिन यह हमेशा डिमेंशिया नहीं होता है। डिमेंशिया में याददाश्त की समस्याएं दूसरी तरह की होती हैं।
Image courtesy: © Getty Images

क्यों है खतरनाक

डिमेंशिया के कारण दिमाग में होने वाले बदलाव स्थिर होते हैं। अर्थात उन्हें किसी भी तरह से पहले जैसा सामान्य नहीं किया जा सकता। कई डॉक्टरों की मान्यता है कि दिमाग के कुछ खास हिस्सों में प्रोटीन स्ट्रक्चर्स में अनियमितता इसका मुख्य कारण हो सकता है। उम्र बढ़ने पर इस तरह की परेशानी होती जाती है। वहीं डिमेंशिया ऐसे संक्रमण से भी हो सकता है, जो सीधा दिमाग पर असर करते हैं, जैसे एचआईवी। इसके अलावा पार्किसन रोग के कारण भी इसके होने की आशंका रहती है।
Image courtesy: © Getty Images

पूर्व निदान

इंटरनेशनल कांफ्रेंस ओन अल्‍जाइमर्स डिजीज में प्रस्तुत किये गए एक नई शोध के अनुसार डिमेंशिया के पूर्व निदान से इसके निदान पर होने वाले खर्च का लगभग 30 प्रतिशत तक बचाया जा सकता है।
Image courtesy: © Getty Images

पूर्व निदान के लाभ

  • जानकारी, संसाधनों और समर्थन में आसानी होती है।
  • लोग इसे रहस्यमय नहीं रखेंगे और अपनी हालत में सुधार का प्रयास करेंगे।
  • लोग अपने जीवन की गुणवत्ता को बढ़ा पाएंगे।
  • उपचार का पूरा लाभ मिल पाएगा।

Image courtesy: © Getty Images

भविष्य के लिए बड़ा खतरा

अल्जाइमर पर काम करने वाली संस्था अल्जाइमर इंटरनेशनल के अनुसार आने वाले 37 सालों में डिमेंशिया के मरीज तीन गुना तक ज्यादा मरीज हो जाएंगे। अल्जाइमर इंटरनेशनल की रिपोर्ट के हिसाब से यदि समय पर निदान न हो और सही कदम न उठआए गए तो 2050 तक विश्व में 13.5 करोड़ लोग डिमेंशिया से पीड़ित हो सकते हैं।
Image courtesy: © Getty Images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK